परंपरागत जल प्रणाली का धनी

Tuesday 21 November 2017

अहमदाबाद में पानी को जमा रखने के लिए अनेक जलाशय और झील थी। 34 बराबर किनारों वाले कांकरिया तालाब का निर्माण सन 1451 में सुल्तान कुतुबुद्दीन ने कराया था। 


                    काठियावाड़ प्रायद्वीप के निचले जिलों में भूजल खारा है। सो यहां के लोगों ने हर गांव में जलाशय बनाए हैं। गर्मियों में जब यह सूख जाता है तो इसकी तलहटी में बने कुओं से पानी लिया जाता है।
काठियावाड़ प्रायद्वीप के निचले जिलों में भूजल खारा है। सो यहां के लोगों ने हर गांव में जलाशय बनाए हैं। गर्मियों में जब यह सूख जाता है तो इसकी तलहटी में बने कुओं से पानी लिया जाता है।

गुजरात के शुष्क और गर्म काठियावाड़ प्रायद्वीप से लेकर केरल के भरपूर बारिश वाले मालाबार तट का इलाका पश्चिमी तटीय मैदान का हिस्सा है। उत्तर में इसकी सीमा गुजरात तक आए थार मरुभूमि क्षेत्र तय करता है, जबकि उत्तर-पश्चिम में अरावली पर्वतमाला, मालवा का पठारी क्षेत्र, विंध्य और सतपुड़ा पहाड़ियां। फिर पश्चिम घाट की पूर्वी ढलान गुजरात से शुरू होकर महाराष्ट्र, गोवा, कर्नाटक और केरल तक इसकी पूर्वी सीमा लगती है। गुजरात का जूनागढ़, अमेरली, भावनगर, सूरत और बलसाढ़ जिले पूरा या आंशिक रूप से इसके दायरे में आते हैं। महाराष्ट्र के थाणे, कुलाबा और रत्नागिरी के हिस्से इसमें आते हैं। गोवा का बंटवारा भी ऐसा ही है। कर्नाटक के उत्तर और दक्षिण कनारा जिलों का बड़ा हिस्सा इसमें आता है। केरल के कन्नानोर, कोझिकोड, मल्लपुरम, पालघाट, त्रिचूर, एर्नाकुलम, कोट्टायम, क्वीलोन और तिरुअनंतपुरम जिलों का कुछ-कुछ हिस्सा इस क्षेत्र मेें आता है; जबकि एल्लेपी लगभग पूरी तरह इसके अंदर है। इस पूरे मैदानी क्षेत्र में जल संचय की बहुत ही व्यापक और पुरानी परंपरा रही है और पिछली सदी में अंग्रेजों ने उसके बारे में काफी अध्ययन करके लिखा भी है।

काठियावाड़ प्रायद्वीप और गुजरात का मैदानी इलाका एकदम खाली पड़ी थार मरुभूमि और हरे-भरे कोंकण इलाके के बीच स्थित है। प्रायद्वीप को कम ऊंचाई वाली पर्वतमाला जगह-जगह से काटती है और जूनागढ़ की गिरनार पहाड़ियों की तो ऊंचाई भी काफी अच्छी है। भाडर नदी के रास्ते में बहुत ही उपजाऊ जलोढ़ मिटृी वाले कुछ हिस्से आते हैं।

काठियावाड़ जिले में भूजल का स्तर काफी ऊंचा है और यहां बड़ी संख्या में कुएं हैं, खासकर इसके दक्षिणी हिस्से में। इस पूरे क्षेत्र में खूब बावड़ियां, जिन्हें यहां के लोग वाव कहते हैं, भी हैं। इनमें चसक या मोट से पानी ऊपर खींचा जाता था। कुओं के जगत 60 सेंमी. ऊंचे थे। पर इसके अलावा उन कुओं की बाकी सारी कलाकारी जमीन से अंदर ही होती थी। कुओं के लिए उचित स्थान का चुनाव पनिकल करते थे। उनका चुनाव कभी गलत नहीं होता था और वे यह भी बता सकते थे कि पानी कितनी गहराई में निकलेगा।

मीठे पानी के स्रोतों से अक्सर दंतकथाएं जुड़ी हुई हैं। दांतेतिया गांव जिस मैदानी इलाके में बसा है उसे माल कहते हैं और वहां का पानी खारा है। वहां मीठे पानी का एक छोटा विरडा जरूर था जिसे गांगवो कहते थे। प्रचलित कथा के अनुसार, इसी गांव के बनिए ने अपने बेटे की शादी खूब पानी वाले इलाके की लड़की से कर दी। जब वह लड़की ससुराल आई तो उसे नहाने के लिए खारा पानी दिया गया। उसने नहाने से इनकार कर दिया और अपने मायके से घड़े में भरकर आए पानी से नहाना पसंद किया। इस पर उसकी सास ने ताना मारा कि अपने बाप से कहकर रोज मीठा पानी लाने का इंतजाम करा ले।

दुल्हन एकदम अड़ गई और कहा कि यह भले ही मर जाए पर खारे पानी से नहीं नहाएगी। अब वह भूखी-प्यासी तीन दिन-तीन रात तक गंगा मइया की अराधना करती रही। तीसरी रात के बाद गंगा प्रकट हुईं और उन्होंने उस खास स्थान तक अपने पूरे परिवार को ले जाने को कहा जहां तक उसका पानी आ रहा था। दुल्हन ने काफी मान-मनौवल के बाद अपने ससुराल वालों को उस जगह तक जाने के लिए राजी किया। पहले तो वे लोग उस पर हंसे, पर बाद में साथ जाने को तैयार हो गए। पर उन्हें यह देखकर घोर आश्चर्य हुआ कि विरडा से मीठा पानी बाहर आ रहा था। उन्होंने अपनी बहू को आशीष दिए, सबने स्नान किया और घर लौटे। तभी से यह मीठा पानी आज तक आ रहा है।

प्रायद्वीप उत्तर और उत्तर-पश्चिम के कुछ निचले जिलों में भूजल खारा है, इसलिए हर गांव में कम-से-कम एक तालाब या जलाशय तो है ही। गर्मियों में इनका पानी सूख जाता है। फिर इनकी तलहटी में खुदे कुएं से पानी लिया जाता है। भावनगर शहर के बीच स्थित 8 किमी. के घेरे वाली झील गडेली नदी का पानी लेकर भरी जाती है।

काठियावाड़ के मैदानी इलाके में भी जहां-जहां पर्वत शृंखला से अलग-थलग निकली पहाड़ियां आ जाती हैं। जिले के बड़े मैदानी हिस्से को साबरमती, माही ताप्ती, बनास, रूपेण, सरस्वती और नर्मदा जगह-जगह से काटती हैं।

काठियावाड़ प्रायद्वीप और गुजरात का मैदानी हिस्सा शुष्क थार मरुभूमि और आर्द्र कोंकण क्षेत्र के बीच स्थित है

गुजरात के मैदानी इलाके के एकदम उत्तर में पालनपुर जिला है जो मुख्यतः रेतीली जमीन वाला है और भुरभुरे पत्थर वाली कुछ पहाड़ियां भी यहां हैं। इस जिले का पूर्वी हिस्सा हरा-भरा है।

पालनपुर में कोई प्राकृतिक झील नहीं है, पर राधनपुर इलाके में काफी संख्या में तालाब हैं, जिनमें से कुछ में तो पूरे साल पानी रहता है। बनास नदी यहां से गुजरती जरूर है, पर उसका पानी इतना खारा है कि लोग उसका इस्तेमाल नहीं करते। वे तालाबों पर ही निर्भर हैं। चारों तरफ से सीढ़ियों वाले वाघेल तालाबों की शुरुआत वाघेला राजपूतों ने की थी और गुजरात में इनसे ज्यादा सुंदर तालाब कम ही होंगे।

सूरत, भड़ौच और अहमदाबाद जिलों तथा पूर्व वड़ोदरा राज वाले इलाकों में कुएं, तालाब और झील ही पानी के महत्वपूर्ण स्त्रोत हैं। पीने और खेती, दोनों के लिए इन्हीं का पानी प्रयोग में आता है।

अहमदाबाद में पानी को जमा रखने के लिए अनेक जलाशय और झील बने थे। 34 बराबर किनारों वाले कांकरिया तालाब का निर्माण सन 1451 में सुल्तान कुतुबुद्दीन ने कराया था। इसके फाटकों पर खूबसूरत नक्काशी की गई है। मानसर झील में साल भर पानी रहता है और यह 6 हेक्टेयर क्षेत्र में फैली है। इसकी आकृति बहुत अजीबोगरीब है और इसमें जगह-जगह सीढ़ियां व पूजा-पाठ के स्थान बने हुए हैं। आसपास कई इलाकों से जमा पानी को एक कुंड से होकर झील में गिराते थे। कुंड पानी की गंदगी को काफी हद तक कम कर देता था। चंदोला झील के बांध मिट्टी के ही हैं, पर इसका क्षेत्रफल 73 हेक्टेयर है। अन्य महत्वपूर्ण झीलें थीं-मलिक शबान, सरखेज मालव, खान, मुल्तान और सोनारिया।

खेड़ा जिले में असंख्य तालाब, जलाशय और कुएं हैं। खारी नदी पर जगह-जगह मिट्टी के बांध डालकर पानी लिया जाता था और उससे धान के खेतों की सिंचाई होती थी। पर इन बांधों का निर्माण और रखरखाव तथा पानी के बंटवारे के सवाल पर काफी विवाद होता था। 1850 में अंग्रेजों ने फाटक लगे पक्के बांधों का निर्माण करवा दिया।

वड़ोदरा में भी मुख्यतः कुएं और तालाबों से ही सिंचाई होती थी। छोटी झीलें और तालाब बहुत बड़ी संख्या में थे, पर गर्मियों में इनमें से कुछ कम में ही पानी रह पाता था। वड़ोदरा जिले में कई खूबसूरत बावड़ियां हैं। मलवाल, सामलिया, कारावन, सावली, दुमाड, आनंदी, ताइन, वासो, सोजित्रा और करिसा में बड़े तालाब थे।

कारावन तालाब के बारे में एक किस्सा बहुत प्रसिद्ध है। बृंगुक्षत्र में एक ब्राहमण दंपती रहा करता था। उनका एक आठ साल का बेटा था। यह लड़का नर्मदा में डूब गया। मां-बाप उसे ढूंढ़-ढूंढ़कर बेहाल हो गए, तब भगवान शिव को उन पर दया आई और वे उनके साथ हो गए। वे उन्हें कायरकुन तक ले आए, जिसे अब करावन कहा जाता है। पूरी रात वे लोग बच्चे की तलाश करते रहे। दंपती को सांत्वना देने के लिए भगवान शिव ने उनके साथ वहीं रहने का फैसला किया। तब से यह तालाब एक तीर्थ स्थल बन गया।

(बूंदों की संस्कृति पुस्तक से साभार)

ऑफर: 'डाउन टू अर्थ' पत्रिका पर छूट पाने के लिए क्लिक करें

अद्भुत जल सुरंगें

अद्भुत जल सुरंगें

सुरंगम पहाड़ी के अंदर बना एक तरह का क्षैतिज कुआं है, जिससे कठोर चट्टानों से रुका पानी बाहर आ जाता है। अक्सर इस पानी को सुरंगम के बाहर बने कुएं या तालाब में संचित किया जाता है। लेकिन सदियों पुरानी सिंचाई व्यवस्था अब विनाश के कगार पर है

पानी से घिरे फिर भी प्यासे

पानी से घिरे फिर भी प्यासे

शोंपेन आदिवासियों को बुलेटवुड लकड़ी शायद ही कभी मिल पाती है। इसी के चलते लट्ठों से बांधों का बनना भी धीरे-धीरे कम होता जा रहा है। 

Comments are moderated and will be published only after the site moderator’s approval. Please use a genuine email ID and provide your name. Selected comments may also be used in the ‘Letters’ section of the Down To Earth print edition.

Scroll To Top