कभी दिन के थे राजा, अब हैं रात के उल्लू

जानिए, कैसे हम मनुष्यों के हस्तक्षेप के कारण बदल रहा है जंगली जीवों का व्यवहार

जैसे-जैसे मनुष्यों की महत्वाकांक्षा बढ़ती जा रही है, वो तेजी से जंगलों में जानवरों के आवासों पर अतिक्रमण कर रहे हैं, जिसका परिणाम है कि अब पहले की तुलना में दिन में ज्यादा व्यस्त रहने वाले जानवर अब रात्रिचर हो रहे हैं और वह अपनी दैनिक गतिविधियों को पूरा करने के लिए अंधेरे की शरण लेने के लिए मजबूर हैं।
 



आंकड़ों का स्रोत:

✸    दा इन्फ्लुएंस ऑफ ह्यूमन डिस्टर्बेंस ऑफ वाइल्डलाइफ नॉक्टर्नलिटी, साइंस, जून 2018
✸   मोर एनिमल्स बिकमिंग नाईट आउल, थैंक्स टू ह्यूमनस, नेशनल जियोग्राफिक