अवैधानिक मुद्रा में व्यापार

वर्ष 2017 के शुरुआती दिनों में बिटक्वायंस और क्रिप्टो करेंसीज के बारे में लोग बहुत कम जानते थे। ये साल के अंत तक एक बड़ी घटना बन गई। 

 
By Sandip Sen
Last Updated: Wednesday 28 March 2018

तारिक अजीज / सीएसई

वर्ष 2017 के शुरुआती दिनों में बिटक्वायंस और क्रिप्टो करेंसीज के बारे में लोग बहुत कम जानते थे। ये साल के अंत तक एक बड़ी घटना बन गई। 2017 तक एक बिटक्वायन का मूल्य 900 से 19,000 डॉलर तक हो गया और अब 40 प्रतिशत तक गिर गया है। यह 17 जनवरी को लक्समबर्ग-स्थित बिटस्टैम्प एक्सचेंज में 10,000 डॉलर के बराबर था। इसने तीव्र अस्थिरता दिखाई। हालांकि, इसे किसी भी देश द्वारा मान्यता नहीं दी गई है, फिर भी क्रिप्टो करेंसीज ने अनिवार्य मान्यता प्राप्त कर ली है और विश्व कमोडिटी बाजार में अपना रास्ता मजबूत कर लिया है। आप इससे सिनेमा टिकट से लेकर गैजेट्स और पेट्रोल तक खरीद सकते हैं।

इसने दुनिया के बड़े बैंकिंग समूह जेपी मॉर्गन के सीईओ जेमी दीमोन को शब्द वापस लेने पर मजबूर कर दिया। सितंबर 2016 में उन्होंने बिटक्वायंस को धोखाधड़ी वाली योजना कहा था। चार महीने बाद, 9 जनवरी को फॉक्स टीवी को दिए एक साक्षात्कार में उन्होंने अपनी टिप्पणी पर खेद व्यक्त किया और कहा, “ब्लॉकचेन” वास्तविक है। आपके पास क्रिप्टो येन और डॉलर जैसी मुद्रा हो सकती हैं।”

ब्लॉकचेन तकनीक, जो क्रिप्टो करेंसीज का आधार है, डेटा को प्रबंधित करने का नया तरीका है। यह डिजिटल सॉफ्टवेयर है, जो डिजिटल संपत्ति प्रबंधन के लिए एक डिजिटल लेजर लिखता है। इसका उपयोग ऐसे रिकॉर्ड बनाना है, जिन्हें हैक नहीं किया जा सकता, डेटाबेस को करप्ट नहीं किया जा सकता। विडंबना यह है कि, अब तक 4 अलग-अलग घटनाओं में 0.9 मिलियन से अधिक बिटक्वायन गुम हो गए हैं या हैक किए गए हैं। इसमें 2014 में सामने आया माउंट गॉक्स एक्सचेंज घोटाला सबसे प्रसिद्ध था।

इसका अर्थ है कि कुछ भी हैक प्रूफ नहीं है। सितंबर 2017 में आईईईई स्पेक्ट्रम पत्रिका, यूएस-स्थित इंस्टीट्यूट ऑफ इलेक्ट्रिकल एंड इलेक्ट्रॉनिक्स इंजीनियरिंग द्वारा संपादित, में प्रकाशित जूनियर रिसर्च रिपोर्ट के अनुसार, दुनिया की 60 फीसदी कंपनियां अपने उत्पादों के लिए इंटीग्रेटिंग ब्लॉकचेन तकनीक पर अनुसंधान कर रही हैं। इस लेख के लेखक, मॉर्गन ई पेक हैं। पेक एक बैंकर और क्रिप्टोकरेंसीज विशेषज्ञ भी हैं। वह सही पूछते हैं कि क्या वाकई हमें ब्लॉकचेन की आवश्यकता है और यदि हम ऐसा करते हैं, तो किस कीमत पर करते हैं?  

वैश्विक निवेश पर नियंत्रण  

क्रिस लार्सन, क्रिप्टो करेंसी रिपल के संस्थापक, दिसंबर 2017 में फेसबुक के सीईओ मार्क जुकरबर्ग को पछाड़ते हुए कुछ समय के लिए दुनिया के पांचवें सबसे अमीर व्यक्ति बन गए। रिपल की कीमत पिछले साल 515 गुना बढ़ गई और इससे लार्सन की संपत्ति 59 बिलियन डॉलर पहुंच गई। यह चिंताजनक है कि सीमित क्षमता और उच्च सट्टा मुनाफे की वजह से  निवेशक क्रिप्टो करेंसीज खरीदने के लिए फंड्स में बदलाव कर रहे हैं। दुनिया में 100 से अधिक क्रिप्टो करेंसीज अरबपति हैं।

इंग्लैंड, फ्रांस, चीन और भारत के केंद्रीय बैंकों ने क्रिप्टो करेंसीज में निवेश नहीं करने की सलाह जारी की है। दो अमेरिकी राज्यों अलास्का और इडाहो ने भी नॉर्थ अमेरिकन सिक्योरिटीज एडमिनिस्ट्रेशन के एक सर्वे के आधार पर चेतावनी जारी की है। यह संस्था अमेरिका के 50 राज्यों, डिस्ट्रिक्ट ऑफ कोलंबिया, प्यूर्टो रिको, यूएस वर्जिन आइलैंड्स, कनाडा और मैक्सिको के कुल 67 राज्यों, प्रांत और क्षेत्रीय सिक्योरिटीज एडमिनिस्ट्रेशन का स्वैच्छिक संगठन है।

रिपोर्ट में कहा गया है कि 94 प्रतिशत राज्यों और प्रांतीय प्रतिभूति नियामकों का मानना ​​है कि बिटक्वायन और अन्य डिजिटल मुद्राओं में धोखाधड़ी का उच्च जोखिम शामिल है। चेतावनी के बावजूद, जेब पे, मुंबई की एक ऐप आधारित बिटक्वायन एक्सचेंज, भारतीय डेबिट कार्ड स्वीकार करता है। 2015 से इसे 0.5 मिलियन बार डाउनलोड किया गया है और हर दिन 2,500 से ज्यादा उपयोगकर्ता इससे जुड़ रहे हैं।  

कार्बन पदचिह्न

ब्लॉकचेन प्रौद्योगिकी से निकलने वाले क्रिप्टो करेंसीज बहुत अधिक ऊर्जा की खपत करते हैं। बिटक्वायंस हासिल करने के तीन बुनियादी तरीके हैं- एक्सचेंज से खरीदना, माल और सर्विस के बदले उन्हें स्वीकार करना और नए करेंसीज खोजना। “खनन” बिटक्वायंस लेनदेन को सत्यापित करता है और इसके लिए कुछ खास सॉफ्टवेयर और हार्डवेयर की आवश्यकता होती है। दुनिया की 80 फीसदी बिटक्वायंस की माइनिंग चीन में की जाती है, जहां एनर्जी और कंप्यूटर हार्डवेयर सस्ते हैं। बिटक्वायंस बनाने के लिए बड़ी मात्रा की कंप्यूटिंग शक्ति की आवश्यकता होती है, जो हर 10 मिनट में एक की दर से बनाया जाता है।

एन न्यूज वेबसाइट नेचुरल न्यूज के अनुसार, बिटक्वायंस खनन में दुनिया की बिजली का 0.18 प्रतिशत खपत होता है और दिसंबर 2017 तक इसमें 29.8 प्रतिशत की वृद्धि हुई है। सालाना 30 मिलियन मेगावाट-घंटा से ज्यादा बिजली खपत करते हुए, यह सबसे तेजी से ऊर्जा खपत करता है। पिछले वर्ष इसका कार्बन फुटप्रिंट 19,504 किलोटन था। नेचुरल न्यूज के अनुसार, यह दो साल में दुनिया के कार्बन फुटप्रिंट को दोगुना कर देगा। भविष्यवाणी की गई है कि 2020 तक सभी देशों के मुकाबले ये अकेले सबसे ज्यादा ऊर्जा की खपत करेगा।

सितंबर 2017 में आईईईई स्पेक्ट्रम में प्रकाशित एक अन्य रिपोर्ट में इंटेल के ब्लॉकचेन टेक्नोलॉजी के प्रमुख माइकल रीड कहते हैं, “जो लोग इस पर बहस कर रहे हैं, उनकी मूल चिंता ये है कि इस सब का अंत कहां है?”  बिटक्वायन अस्थिर है, क्योंकि यह बहुत अधिक ऊर्जा की खपत करता है और अधिक टिकाऊ विकल्प बनाने के लिए शोध में अरबों डॉलर झोके जा रहे हैं। लेकिन जब तक विकल्प मिले, तब तक क्रिप्टो करेंसीज विश्व स्तर पर ऊर्जा कीमतों में बढ़ोतरी कर सकती है। क्रूड ऑयल की कीमत, जो दुनिया की ऊर्जा जरूरत के एक बड़े हिस्से को पूरा करती है, अभी 68 डॉलर प्रति बैरल है और 2018 की दूसरी तिमाही से 80 डॉलर पहुंच सकती है। ये पांच साल की सबसे अधिक कीमत होगी।  

कमोडिटी बाजारों के लिए जोखिम

क्रिप्टोकरेंसीज न सिर्फ अधिक ऊर्जा की खपत करती है और निवेश को नियंत्रित करती है, बल्कि इसने हाल ही में दुनिया की कमोडिटी मार्केट में प्रवेश भी किया है जहां वे कहर बरपा सकते हैं। अमेरिका और कनाडा में क्रिप्टो करेंसीज को कमोडिटी का दर्जा दिया गया है। वे व्यापक रूप से डेरिवेटिव मार्केट में उपयोग किए जाते हैं (डेरिवेटिव एक व्यापार योग्य सिक्योरिटीज है, जिसका मूल्य कुछ अंतर्निहित परिसंपत्ति की वास्तविक या अपेक्षित मूल्य से प्राप्त होता है। ये कमोडिटी, सिक्योरिटी या करेंसी हो सकता है)। इसका वस्तु विनिमय के लिए भी इस्तेमाल किया जा सकता है।

उनके व्यापार से होने वाला लाभ व्यापार आय और एंटी मनी लॉन्ड्रिंग कानूनों के अधीन है।  बिटक्वायंस की बाजार पूंजी में तेजी से वृद्धि के बाद, दुनिया का सबसे बड़ा कमोडिटी एक्सचेंज सीएमई ग्रुप ने घोषणा की कि वह 2017 के क्रिसमस से पहले क्रिप्टो करेंसीज का वायदा कारोबार शुरू करेगा। 10 दिसंबर को सीबीओई ग्लोबल मार्केट्स इंक के शुरुआत सत्र में, बिटक्वायंस की कीमत में 26 प्रतिशत की वृद्धि हुई। जबकि भारी यातायात के चलते ट्रेडिंग में अस्थायी रुकावट आई थी। हालांकि, बाद में कीमतें गिर गईं। बिटक्वायंस ने वैश्विक कमोडिटी बाजारों में तीव्र उतार-चढ़ाव लाया।  

नाम न छापने का अनुरोध करते हुए एक बिटकॉइन व्यापारी कहते हैं कि उन्होंने दिसंबर 2016 में 3 लाख रुपए के पांच बिटक्वायंस खरीदे थे। एक साल बाद, शिकागो में सीएमई फ्यूचर्स एक्सचेंज में 60 लाख रुपए में इसे बेच दिया। डिजिटल करेंसीज में शामिल कागजी कार्रवाई अस्तित्वहीन है। इसलिए एक्सचेंज से ऐसी करेंसीज का कारोबार बिना किसी बाधा के किया जा सकता है। इस करेंसी में आप कृषि वस्तु, ऊर्जा, धातु, मुद्रा और क्रिप्टोकरेंसीज का व्यापार आसानी से कर सकते हैं।  लेकिन मुख्य सवाल यह है कि क्या क्रिप्टो करेंसीज जैसा नया धन दुनिया के कमोडिटी बाजार को नए उतार-चढ़ाव के जाल में फंसा देगा। जल्द इसका जवाब मिल जाएगा।

Subscribe to Weekly Newsletter :

India Environment Portal Resources :

Comments are moderated and will be published only after the site moderator’s approval. Please use a genuine email ID and provide your name. Selected comments may also be used in the ‘Letters’ section of the Down To Earth print edition.