डगमगाया डीग

भरतपुर की पारंपरिक जल संचय प्रणालियों से सीख लेना तो दूर, आज के अधिकारी पुराने समय की जलापूर्ति व्यवस्थाओं का रखरखाव करने में भी विफल रहे हैें। 

 
Last Updated: Friday 08 September 2017
डीग की बहुत ही उत्तम तकनीक वाली जलापूर्ति व्यवस्था के अवशेष। महल के अंदर का एक फव्वारा, जिसमें ऊंचाई पर स्थित एक जलाशय से पानी आता था।
डीग की बहुत ही उत्तम तकनीक वाली जलापूर्ति व्यवस्था के अवशेष। महल के अंदर का एक फव्वारा, जिसमें ऊंचाई पर स्थित एक जलाशय से पानी आता था। डीग की बहुत ही उत्तम तकनीक वाली जलापूर्ति व्यवस्था के अवशेष। महल के अंदर का एक फव्वारा, जिसमें ऊंचाई पर स्थित एक जलाशय से पानी आता था।

दिल्ली से 153 किमी. दक्षिण भरतपुर के जाट शासकों की राजधानी रही डीग में आज भी तालाब उपेक्षित पड़े हैं। वे कभी स्थानीय खारे पानी से नमक निकालने के लिए उपयोग में लाए जाते थे। यहां के निवासियों की जरूरतों को पूरा करने के लिए कुओं और तालाबों से पर्याप्त मीठा पानी मिलता था। इन तालाबों के पास के कुओं से अभी भी मीठा पानी मिलता है, लेकिन दूर के कुओं से खारा पानी मिलता है क्योंकि इस क्षेत्र में ‘रेह’(नमक) ज्यादा है।

डीग का उल्लेख स्कंद पुराण में भी मिलता है। यह कृष्ण और यादवों की ब्रजभूमि क्षेत्र में आता है। इसके शहरीकरण की शुरुआत राजा बदन सिंह ने की थी। उनके पुत्र सूरजमल ने 1756 और 1763 के बीच यहां महल बनवाए। बाहर बनी खाई, किले की खाई और किले के पास बनाए गए कई पोखरों के साथ शहर का नियोजन इस तरह से किया गया था कि इससे भूमिगत जलभरों में पानी जाता था और काफी सारे कुओं से मीठा पानी निकलता था।

भरतपुर पक्षी अभयारण्य में पानी अब पसना बांध से लेना पड़ता है। पानी की अनियमित आपूर्ति से दलदल में बेहिसाब घास उगने लगी हैडीग-कमान रोड पर लालावाला कुंड और मथुरा-डीग रोड पर प्रीतम दास का कुंड जैसे कुंड, जाहिर है, अमीरों ने बनवाए थे। साल भर यमुना का पानी एक छोटी नहर के जरिए इन कुंडों तक आता रहता था। मैदानी इलाके में कि‍ला और छावनी बनाना वास्तव में साहस का काम था। किला और महल बनाने के वास्ते टीला बनाने के लिए जो मिट्टी निकाली गई, उसी से शायद तालाब बन गया, जिसमें यमुना का पानी जमा किया जाता था।
आज डीग के दो बड़े जलागार - गोपालसागर (कच्चा तालाब) और रूपसागर (पक्का तालाब) का पानी गंदा है। लोगों को नल से पानी तो मिलता है, मगर पेयजल के लिए वे सदियों पहले राजाओं द्वारा खुदवाए कुओं पर अभी भी निर्भर हैं। जाट शासकों ने शहर को खूबसूरत बनाने के लिए झरने आदि बनवाए, जिनके लिए नहरों, जलागारों और जल प्रपातों आदि का प्रयोग किया।

महलों और बगीचों में कई झरने थे, जिनके लिए पानी सूरज भवन और किशन भवन के बीच विशाल इमारत की छत पर बनी टंकी से आता था। इस टंकी में पानी चार कुओं से भरा जाता था। पानी भरने के लिए बैलों को लगाया जाता था जो एक लंबी ढलान पर उतरते थे। इस टंकी से पाइपों के जरिए झरनों तक पानी पहुंचाया जाता था। टंकी में पानी भरने के दौरान पाइपों के मुंह बंद कर दिए जाते थे। पानी भरने के बाद मुंह खोल दिए जाते थे। खास अवसरों पर पाइपों के मुंह के पास ताखों में रंग भर दिए जाते थे, ताकि झरनों से रंगीन पानी का फव्वारा फूटे। झरनों का पानी गोपाल भवन के दोनों ओर सावन-भादो नामक प्रपातों से बहकर गोपालसागर में पहुंचता था। रूपसागर के किनारे बने केशर भवन या बारादरी ऐसी बनाई गई थी कि बारिश का असर और बढ़े। केशर भवन में चारों ओर मेहराब बना हुआ है, जिससे भीतर एक चौकोर क्षेत्र बन गया है। यह क्षेत्र बाहर से नहर से घिरा हुआ है।

नहर के किनारे-किनारे छोटे-छोटे फव्वारों के मुंह बने हुए थे और बीच में बड़े-बड़े फव्वारे बने थे। बादलों के गर्जन को बढ़ने के लिए बारादरी में दोहरी छत बनी हुई थी। निचली छत में खोखले खंभों के बीच से पानी को बहुत तेजी से बहाया जाता था, जिससे भारी गोले लुढ़कते थे और तेज गर्जन होता था। छत से छोड़े जाने पर पानी पाइपों से बारिश की तरह गिरता था। इन करिश्माई व्यवस्थाओं को फिर से बनाना तो दूर, आज के अधिकारी इनका रखरखाव करने में भी विफल रहे हैं। आज डीग शहर में नलकूप पानी के स्रोत बनकर रह गए हैं।

पानी हुआ बेमानी
विश्व प्रसिद्ध भरतपुर पक्षी अभयारण्य का अस्तित्व आज खतरे में है। पानी में बढ़ते खारेपन के कारण भरतपुर जिले की फसलों में बदलाव आ गया है। इलाके के बच्चों में स्वास्थ्य संबंधी कई समस्याएं भी उभर आईं हैं। इस सबका कारण है जल आप्लावन की पारंपरिक व्यवस्था की जगह नलकूपों पर आश्रित होना। जल आप्लावन व्यवस्था इलाके की मिट्टी की ऊपरी सतह में नमक को बहाने और सिंचाई के लिए बनाई गई थी। मौसमी नदियों में आने वाली बाढ़ का भी इस्तेमाल किया जाता था। लेकिन इस व्यवस्था को अब पूरी तरह से नकार दिया गया है। राजस्थान के पूर्व कृषि मंत्री संपत सिंह के मुताबिक, “भूजल में खारापन बहुत बढ़ गया है। इस कारण लोगों के दांत पीले पड़ रहे हैं। बच्चों के बाल भी सफेद हो रहे हैं।”

गंगा के मैदानी इलाकों में स्थित यह जिला निचले क्षेत्र में है, जहां पहाड़ियां कम हैं और रूपारेल, बाणगंगा और गंभीर नामक मौसमी नदियां बहती हैं। बरसात में इनकी बाढ़ का पानी दो-तीन दिन तक रहता है। बाणगंगा और रूपारेल में ज्यादा बाढ़ आती है, क्योंकि ये निचले किनारों से बहती हैं। गंभीर नदी करौली पहाड़ी से आती है और भरतपुर से होती हुई यमुना की सहायक खारी में मिल जाती है। रूपारेल अलवर से आती है और बाणगंगा जयपुर में अरावली पहाड़ियों के ऊपरी जल ग्रहण क्षेत्र से फूटती है। दर्रे कम हैं, इसलिए जलागार बनाने की सुविधा कम ही है।

आप्लावन, सिंचाई नदियों में बाढ़ के पानी को आप्लावन नहरों में जमा करके किया जाता था। नदी के पानी को कई बांधों के जरिए मोड़ा जाता था। ये ढाई-तीन मीटर ऊंचे बांध आमतौर पर मिट्टी के होते थे और एक के बाद एक लगातार बनाए जाते थे। पानी डेढ़-दो मीटर ऊंचाई तक जमा होता था। आज सबसे बड़ा बांध सिंचाई विभाग के अधीन है और छोटे-छोटे बांध पंचायत समितियों के अधीन। छोटे बांध 20 हेक्टेयर से कम क्षेत्र की ही सिंचाई करते हैं।

बरसात के दिनों में निगरानी रखनी पड़ती थी कि सभी तालाब सितंबर के मध्य तक भर जाएं। अगर शुरुआती बहाव रोका नहीं गया या बारिश पूरी नहीं हुई तो तालाब खाली रह जाते। अगर शुरू में पानी जमा किया गया और बारिश भारी हो गई तो बांध टूट भी सकते हैं। पानी कुछ महीनों तक जमा रहता था जिसे ब्रज भाषा में ‘सेजा लगाना’ कहते थे।

इस व्यवस्था से रबी की केवल एक फसल मिलती थी, जिसमें गेहूं, सरसों, जौ और चना होता था। फसल तालाब की सतह में रोपी जाती थी, यानी अक्टूबर में पानी निकल जाने के बाद घुमावदार बांधों की ऊपर की जमीन में। इससे मिट्टी उपजाऊ हो जाती थी। मिट्टी की ऊपरी सतह से जो नमक निकलता था, वह पानी सूखने के साथ नीचे चला जाता था। इस तरह मिट्टी की ऊपरी सतह में इतनी नमी होती थी कि फसल उग सके।

कभी-कभी जब बाढ़ का पानी कम आता था, तब तालाब की सतह पर खरीफ की फसल भी लगाई जाती थी। बाढ़ ज्यादा आने पर यह फसल बह भी जाया करती थी। ज्यादा कीमती रबी फसल के लिए लोग इस फसल के नुकसान का अफसोस नहीं करते थे। भरतपुर के लोग कभी-कभी खरीफ की फसल बचाने के लिए घुमावदार बांध तोड़ देते थे, जिससे दूसरे बांध और तालाबों को नुकसान पहुंचता था।

स्थानीय लोग आज महसूस करते हैं कि इलाके की फसलों और सिंचाई आदि की समझ न रखने वाले इंजीनियरों की सलाह पर नलकूपों से सिंचाई की व्यवस्था अपनाना नुकसानदेह साबित हुआ है। रूपारेल नदी पर 21 किमी. लंबा सीकरी बांध नदी जल को 27 सिंचाई नहरों में मोड़ता है। बाणगंगा पर 19.2 किमी लंबा अंजन बांध भरतपुर शहर को बचाता था। इसमें कई नाले और बंधारे थे जिनके जरिए सिंचाई के लिए पानी छोड़ा जाता था और बांध के थाल को खाली किया जाता था। भरतपुर पक्षी अभयारण्य की प्रसिद्ध केवलादेव झील में भी अंजन बांध से हर साल बाणगंगा की बाढ़ आती थी।

इस तरह बाणगंगा का बहाव बदलकर उत्तर की ओर हो गया था। यह बदलाव स्याणा-उचैण रोड को बांध के रूप में प्रयोग करने से हुआ था। बाढ़ के पानी को रोका जाता था और फिर नियंत्रित करके छोड़ा जाता था। इसे फिर से रोककर अंजन बांध जैसे बांधों से अलग-अलग नहरों में छोड़ा जाता था। बाणगंगा नदी से जुड़ी दूसरी नहरें भी थीं, जिनका प्रयोग बाढ़ के पानी को फैलाने या उथले जलागारों में भरने के लिए किया जाता था।

सत्तर के दशक में जब भरतपुर में भारी बाढ़ आई थी, तब बाढ़ को रोकने के लिए पसना जैसे कई बांध बनाए गए। रामगढ़ बांध को और ऊंचा किया गया, जिससे जल आपूर्ति में कमी आई। मिट्टी में बढ़ते नमक के कारण 1991 में कृषि विभाग को किसानों को मुफ्त में जिप्सम बांटना पड़ा। इसका असर भरतपुर पक्षी अभयारण्य पर भी पड़ा। बाणगंगा का पानी रामगढ़ बांध से तभी छोड़ा जाता है, जब ज्यादा पानी उपलब्ध होता है। फिलहाल पानी के लिए गंभीर नदी ही एकमात्र पक्का स्रोत है। अभयारण्य के मुख्य वन्यजीव वार्डन के अनुसार, उन्हें अब पसना बांध से पानी लेना पड़ता है।

नलकूपों का पानी अभयारण्य के लिए काम का नहीं है, क्योंकि इसमें पक्षियों के लिए मछलियां आदि नहीं आतीं। आज किसान नलकूप के पानी से रबी-खरीफ दोनों फसल लेना चाहते हैं। वे तालाबों और नदियों की तलहटी में भी खेती करने लगे हैं। जल आप्लावन सिंचाई व्यवस्था में उनकी दिलचस्पी नहीं रह गई है। अब सरसों इस क्षेत्र की प्रमुख फसल बन गई है, क्योंकि यह खारी मिट्टी में भी हो जाती है। कभी खाद्य फसलों के मामले में आत्मनिर्भर जिला आज अपनी जरूरतों के लिए दूसरे जिलों पर निर्भर हो गया है। संपत सिंह का मानना है कि अगर हम मिट्टी को पूरी तरह नष्ट नहीं होने देना चाहते, तो पारम्परिक सिंचाई व्यवस्था को फिर से लागू करना होगा। 

राजस्थान की अन्य जल प्रणालियां

टांका : बीकानेर
घरों के अंदर पानी संरक्षित रखने वाले भूमिगत टांके बीकानेर के प्रायः सभी पुराने घरों में हैं। जमीन के अंदर गोलाकार इन गड्ढों में बारीक चूने की पुताई हुई रहती थी। इनमें बरसात का पानी जमा होता था और अन्य स्रोतों के चूक जाने पर इनका पानी उपयोग में लाया जाता था। अक्सर इनकी खूब सजावट होती थी और उसमें भी ज्यादा आकर्षक इसका ढक्कन होता था। टांका का पानी केवल पीने के काम आता था।

नाडी : जोधपुर
नाडी गांव का वैसा पोखर है जिसमें बरसात का पानी जमा किया जाता था। नाडियां बनाने की जगह का चुनाव गांव के लोग बरसाती पानी के प्रकृतिक जल ग्रहण क्षेत्रों और पानी जमा हो सकने की क्षमता के हिसाब से करते थे। बरसात के बाद इनका पानी दो महीने से लेकर पूरे दो वर्ष तक भी चलता है। ढूह वाले इलाकों की नाडी 1.5 से 4 मीटर गहरी होती है और रिसाव के चलते इसमें तेजी से पानी गायब होता है। रेतीले इलाकों में इनकी गहराई तीन से 12 मीटर तक होती है।

खड़ीन : जैसलमेर
खड़ीन की तकनीक 15वीं शताब्दी में जैसलमेर के पालिवाल ब्राह्मणों ने विकसित की थी। खड़ीन मिट्टी का एक बड़ा बांध है जो किसी ढलान वाली जमीन के नीचे बनाया जाता है ताकि ढलान पर गिरकर नीचे आने वाला पानी रुक सके। अक्सर यह 1.5 मीटर से 3.5 मीटर तक ऊंची होती है। यह ढलान वाली दिशा को खुला छोड़कर शेष तीन दिशाओं को घेरती है। जमीन की बनावट के हिसाब से इसकी लंबाई 100 से 300 मीटर तक होती है। इससे घिरी जमीन की न सिर्फ नमी बढ़ती है, बल्कि बरसाती पानी के परवाह पर अंकुश लगाने के चलते यह उपजाऊ मिट्टी के बहाव को भी रोकती है। आज भी यहां छोटी-बड़ी करीब 500 खड़ीनें हैं, जिससे 12,140 हेक्टेयर जमीन सिंचित होती हैं।

Subscribe to Weekly Newsletter :

India Environment Portal Resources :

Comments are moderated and will be published only after the site moderator’s approval. Please use a genuine email ID and provide your name. Selected comments may also be used in the ‘Letters’ section of the Down To Earth print edition.