धुआं-मुक्त ‘सिटी ऑफ जॉय’

धुएं की बढ़ती समस्या ने आधिकारिक चिंता और घबराहट पैदा कर दी, और वर्ष 1863 में कोलकाता धुआं रुकावट कानून लागू करने वाला विश्व का पहला शहर बन गया।   

 
By Amit Mitra
Last Updated: Thursday 07 September 2017 | 09:39:48 AM
कोलकाता की आबोहवा को प्रदूषण मुक्त बनाने के प्रयास बरसों पुराने हैं, लेकिन हालत फिर भी नहीं बदले
कोलकाता की आबोहवा को प्रदूषण मुक्त बनाने के प्रयास बरसों पुराने हैं, लेकिन हालत फिर भी नहीं बदले कोलकाता की आबोहवा को प्रदूषण मुक्त बनाने के प्रयास बरसों पुराने हैं, लेकिन हालत फिर भी नहीं बदले

भारत में शहरी वायु प्रदूषण एक गंभीर चिंता और खतरे का कारण बन चुका है। इस पर काबू पाने के उपायों को लेकर आजकल काफी कुछ लिखा जा रहा है। कोलकाता विश्व के सबसे प्रदूषित शहरों में शुमार है, लेकिन यहां का तीक्ष्ण बदबूदार माहौल और दूर तक फैला धुंधला आकाश हाल ही में उत्पन्न समस्या है।

यह शहर अतीत में धुएं से अपेक्षाकृत मुक्त हुआ करता था। इतिहासविद एम. आर. एन्डर्सन के अनुसार, कोलकाता (पूर्व में कलकत्ता) में ईंधन के खपत के आधार पर शहर में वायु प्रदूषण को मोटे तौर पर तीन ऐतिहासिक अवधियों में विभाजित किया जा सकता है। वर्ष 1855 से पूर्व की अवधि, जब घरों में जलने वाली लकड़ी, उपले और रोशनी के लिए जलते वनस्पति तेल की वजह से धुएं फैलता था। यहां तक कि कोयले का जलाया जाना सन 1820 के बाद ही प्रचलित हुआ। दूसरी अवधि 19वीं सदी के मध्य दशकों के दौरान मानी जाती है। इस अवधि में कोयले के जलने से निकलने वाले धुएं में अत्यधिक बढ़ोतरी देखी गई। इसने जैव ईंधन जनित उत्सर्जन को जन्म दिया।

सन 1855 के बाद, कोयले के उपयोग में बेतहाशा बढ़ोतरी हुई और तीसरी अवधि, अर्थात् सन 1880 के बाद, बॉयलर और घरों में उपयोग होने वाल कोयले के धुएं ने कोलकाता में वायु गुणवत्ता को पूरी तरह बदल डाला। गर्मी, धूल, आर्द्रता और बदबू के अलावा धुएं को 18वीं सदी में कोलकाता में रहने वाले यूरोपीय लोगों के लिए स्वास्थ्य के खतरे के तौर पर चिन्हित किया गया था। कोलकाता इसलिए भी वायु प्रदूषण की चपेट में आने को अभिशप्त था क्योंकि यह भारी उद्योगों का केंद्र था। बंगाल की कोयला खदानें कोलकाता से काफी नजदीक थीं। अपनी विशेष भौगोलिक एवं मौसम संबंधी परिस्थि‍तियों के कारण भी कोलकाता में वायु प्रदूषण बहुत सघन था क्योंकि यहां का धुआं आसपास के वायुमंडलीय क्षेत्र में नहीं फैला पाता था।

मुंबई (तब बंबई) की तरह कोलकाता की हवा धुएं को अपने साथ नहीं घोल पाती थी, खासकर नवंबर और मार्च के महीनों के दौरान। शहर लगातार तापमान के व्युत्क्रम की चपेट में था, जिससे हवा के नीचे से ऊपर की तरफ जाने में बाधा उत्पन्न होती थी और धुआं वायुमंडल के निचले हिस्से में ही फंसा रह जाता था। लंदन की तरह कोलकाता अक्सर धुंध की चपेट में भी रहता था। सन 1870 तक, धुएं का प्रकोप कोलकाता शहर के जीवन की एक नियमित पहचान बन चुका था।

सामान्य तौर पर, कोलकाता के निवासी अधिकतर गहरे और भयंकर बदबूदार धुएं के बारे में शिकायत करते थे, हालांकि यह जरूरी नहीं था कि हानिकारक अव्यवों से युक्त अपेक्षाकृत साफ-सुथरे नजर आने वाले धुएं के मुकाबले यह अधिक नुकसानदेह होगा। मतलब कम गंदा दिखाई देने वाला धुआं भी ज्यादा खतरनाक हो सकता है। यूरोपीय लोगों ने उपलों और रोशनी के लिए इस्तेमाल होने वाले ईंधन को लेकर बहुत हाय-तौबा मचाई। कोलकाता में घरेलू ईंधन के तौर पर इनका बहुत इस्तेमाल होता था। लेकिन अंग्रेज लकड़ि‍यों को जलाने से निकलने वाले धुएं को सहन कर गए। इसी तरह बंगालियों ने उपलों के धुएं को अनदेखा किया, लेकिन औद्योगिक कोयले से निकलने वाले धुएं को लेकर शिकायतें करते रहे।

वर्ष 1855 में कोलकाता को रानीगंज कोयला खदानों से जोड़ने वाली देश की पहली समुचित रेल सेवा की शुरुआत होने के साथ कोयले के उपयोग में उल्लेखनीय वृद्धि‍ हुई। भाप इंजनों को चलाने के लिए स्थानीय कोयला उपलब्ध होने की वजह से कोलकाता, हुगली औद्योगिक क्षेत्र का केंद्र बन गया। इसे एशिया की ‘रूर घाटी’ भी कहा जाता था। इसी के साथ यहां हवा में प्रदूषण भी बढ़ता गया। भारतीय कोयले की खराब गुणवत्ता के कारण धुएं की समस्या और अधिक विकराल होती गई। इसमें वजन के हिसाब से 14.8 प्रतिशत से 47 प्रतिशत तक राख होती है और ब्रिटि‍श कोयले के मुकाबले यह अधिक धुआं छोड़ता है।

धुएं की बढ़ती समस्या ने अधिकारियों में चिंता और बेचैनी पैदा कर दी। और इस तरह वर्ष 1863 में कोलकाता धुआं रोकथाम कानून लागू करने वाला विश्व का पहला शहर बना। वायु प्रदूषण की समस्या की पड़ताल करने के लिए वर्ष 1879 में गठित समिति ने लीड्स के धुआं निरीक्षक फ्रेडरिक ग्रोवर को सन 1902 में कोलकाता भेजा, ताकि वे धुएं के निपटने के बारे में अपनी सिफारिशें दें। ग्रोवर की रिपोर्ट के आधार पर ही सन 1905 में द बंगाल स्मोक न्यूसेंस एक्ट सामने आया और आगे चलकर द बंगाल स्मोक न्यूसेंस कमीशन की स्थापना हुई। इस आयोग ने औपनिवेशिक अवधि के दौरान शहर में एक व्यवस्थित लेकिन चुनिंदा तरीके से धुआं नियंत्रण कार्यक्रम लागू किया।

कोलकाता के धुएं की समस्या की राजनीतिक तत्परता को ब्रिटिश साम्राज्य में शहर की अहमियत से जोड़कर देखा जाने लगा। कोलकाता वर्ष 1911 तक ब्रिटिश सत्ता का केंद्र और पूरे उपमहाद्वीप की राजधानी था। हालांकि, कोलकाता में पर्यावरणीय समस्याओं के दो बिल्कुल विभिन्न पहलुओं पर जोर दिया गया था। पहला, इसकी भीड़भाड़ वाली सड़कें और साफ-सफाई की कमी, जिसे यूरोपीय लोगों ने औपनिवेशिक एशिया के साथ जोड़कर प्रस्तुत किया। और दूसरा, सामाजिक भेदभाव तथा भारी प्रदूषण जिससे वे यूरोपीय औद्योगीकरण के कारण भलीभांति परिचित थे।

शहर की प्रभुत्व वाली यूरोपीय आबादी ने कोलकाता को केवल वैज्ञानिक नियंत्रण के अनुशासन के अभ्यास के कारण रहने योग्य बनाए रखा। औद्योगिक धुआं कोई राजनीतिक मुद्दा नहीं था, न तो साम्राज्यवादियों के लिए और न ही राष्ट्रवादियों के लिए। लेकिन सामाजिक संघर्ष के लिए यह महत्वपूर्ण मुद्दा अवश्य था जैसा कि इसने भविष्य के शहरी समाजों और भारत में औद्योगीकरण पर एक गंभीर प्रश्न खड़ा कर दिया था, साथ ही साथ पर्यावरणीय दुर्दशा के परिप्रेक्ष्य में राज्य की जिम्मेदारी पर भी सवालिया निशान लगा दिया था।

स्मोक न्यूसेंस एक्ट के तहत पर्यावरण प्रबंधन और इससे जुड़े नियम-कायदों को लागू करने के लिए व्यवस्थित निगरानी, तकनीकी विशेषज्ञता तकनीकी समाधानों पर निर्भरता और उद्योग एवं नौकरशाही के बीच घनिष्ठ तालमेल पर जोर दिया गया।

औद्योगिक श्रम पर हुक्म चलाने तथा अधीनस्थ वर्गों की सामाजिक प्रथाओं को अनुशासित करने के लिए नए तौर-तरीके आजमाए जाने लगे। भले ही स्मोक न्यूसेंस कमीशन का औपनिवेशिक अवधि के बाद के वर्षों में चीजों को जलाने के तरीकों और औद्योगिक धुएं के स्तर पर काफी गहरा प्रभाव रहा, लेकिन इसके महत्व पर अक्सर जरूरत से अधिक बल दिया जाता रहा है। कोलकाता में प्रदूषण का ज्यादा संबंध शहरी जनसंख्या में आ रहे बदलावों, आबादी के घनत्व तथा ईंधन की कीमतों से था। सामाजिक तौर पर गूढ हो चुकी जलाने की प्रथाएं उतनी ही महत्वपूर्ण थीं जितनी कि नई तकनीक।

वर्ष 1950 तक, कोयले से चलने वाले भाप इंजन पुराने और बेकार हो चुके थे, और यह अधिनियम ऑटोमोबाइल प्रदूषण के सापेक्ष शक्तिहीन हो चुका था। धुएं को नियंत्रित करने की क्षमता भारत के औद्योगीकरण पर महत्वपूर्ण प्रभाव डालने वाली थी। अलोकप्रिय तकनीकी और आर्थिक परिवर्तनों के खिलाफ पर्यावरण का नुकसान एक बड़ी चुनौती थी। इससे पहले कि यह गंभीर सामाजिक विरोध बनकर फूटता सरकार ने औद्योगीकरण के खिलाफ आपत्तियों को दूर करने का काम प्रारंभ कर दिया। हालांकि, औद्योगीकरण को पूरी तरह बंद नहीं किया गया, बल्कि इसके सबसे बुरे प्रभावों पर लगाम कसने की कोशिश की गई। धुएं के नियंत्रण ने सामाजिक और उत्पादक जीवन पर अधिपत्य जमाने का एक संकरा रास्ता प्रदान किया।

धुआं हर ओर फैला हुआ था और कुछ लोगों को तो इसके कम होने पर ही शंका होने लगा था। जैसे-जैसे धुएं को नियंत्रित करने की प्रशासनिक क्षमताओं का विस्तार होता गया, सरकार के अग्रदूत एक विनम्र लेकिन महत्वपूर्ण पहल की ओर अग्रसर होते गए। वैज्ञानिक कुशलता के भेष में आई ‘कंबस्चन इंजीनियरिंग’ सभी को प्रभावित करने में सक्षम थी, चाहे वह कोलकाता की कानून-व्यवस्था हो या फिर श्रमिक संबंध। हालंाकि विशुद्ध रूप से तकनीकी समाधान के आकर्षण ने प्रबंधकों और मालिकान में निराशा को जन्म दिया। धुएं को सार्वजनिक बहस के बजाय तकनीकी नियंत्रण का मुद्दा मानने के निर्णय पर फिर कभी भी सवाल नहीं उठाया गया।

धुएं की रोकथाम ने वैज्ञानिक भाषा का इस्तेमाल कर इस साम्राज्यवादी दावे को आगे बढ़ाया कि बेहतर तकनीक और कुशल प्रशासनिक संगठन के जरिये मानव पर्यावरण को राजनीति के कब्जे में किया जा सकता है। धुएं पर नियंत्रण उन जबरन तर्कों पर आधारित था जिनके अनुसार पर्यावरण के बेहतर प्रबंधन के लिए सत्तावादी प्रशासन का होना आवश्यक है।

Subscribe to Weekly Newsletter :
We are a voice to you; you have been a support to us. Together we build journalism that is independent, credible and fearless. You can further help us by making a donation. This will mean a lot for our ability to bring you news, perspectives and analysis from the ground so that we can make change together.

Comments are moderated and will be published only after the site moderator’s approval. Please use a genuine email ID and provide your name. Selected comments may also be used in the ‘Letters’ section of the Down To Earth print edition.