Sign up for our weekly newsletter

अब मिनटों में होगी जहरीले मशरूम की पहचान

नए परीक्षण में एमनिटिन की पहचान लगभग 10 मिनट में एक चावल के दाने के आकार के एक मशरूम के नमूने से या किसी ऐसे व्यक्ति के मूत्र से हो सकती है

By Dayanidhi

On: Monday 24 February 2020
 

अमेरिका के कृषि अनुसंधान सेवा (एआरएस) के वैज्ञानिकों और उनके सहयोगियों द्वारा मिनटों में मशरूम के जहर का पता लगाने वाला एक सरल, पोर्टेबल परीक्षण विकसित किया गया है। यह शोध पत्रिका टॉक्सिन में प्रकाशित हुआ है।

विषाक्त मशरूम खाने से दुनिया भर में हर साल 100 से अधिक मौतें होती हैं, और हजारों लोगों को तत्काल चिकित्सा सहायता की जरुरत पड़ती है। एमनिटिन मशरूम विषाक्त पदार्थों का वर्ग है जो सबसे खतरनाक होता है। 

नए परीक्षण में एमनिटिन की पहचान लगभग 10 मिनट में एक चावल के दाने के आकार के एक मशरूम के नमूने से या किसी ऐसे व्यक्ति के मूत्र से हो सकती है, जिसने इस जहरीले एमनिटिन युक्त मशरूम को खाया हो। परीक्षण कुत्ते के मूत्र के साथ भी काम करता है, क्योंकि कुत्तों को अंधाधुंध मशरूम खाने के लिए जाना जाता है।

परीक्षण को बनाने वाले एआरएस माइक्रोबायोलॉजिस्ट कैंडेस बेवर ने कहा कि हमने मुख्य रूप से खाद्य उत्पादों के रूप में मशरूम के लिए परीक्षण विकसित किया। यह मूत्र में विष का पता लगाने के लिए पर्याप्त संवेदनशील है।

एमाटॉक्सिन विषाक्तता के लिए वर्तमान में कोई निश्चित देखभाल, जांच तथा परीक्षण मौजूद नहीं है। एक मरीज के मूत्र में एमनिटिन का जल्दी पता लगाने से डॉक्टरों को उसका उपचार करने में मदद मिलेगी।

बेवर ने कहा कि हमें उम्मीद है कि डॉक्टर और पशुचिकित्सा पहले से संदिग्ध अन्य गैस्ट्रोइन्टेस्टनल रोगों को चिकित्सकीय रूप से समाप्त करने के बजाय जल्दी और आत्मविश्वास से अमोटॉक्सिन विषाक्तता की पहचान करने में सक्षम होंगे। हम यह भी उम्मीद करते हैं कि रोगियों को ठीक होने का बेहतर मौका मिलेगा, भले ही अभी स्पष्ट रूप से प्रभावी उपचार नहीं हैं।

मशरूम के परीक्षण के लिए एक व्यावहारिक और निश्चित तरीका हो सकता है, मशरूम का व्यापार करने वाले तथा साझेदार परीक्षण किट का उत्पादन कर सकते है, ताकि लोग अमनीन टॉक्सिन वाले मशरूम खाने से बच सके। यह परीक्षण रासायनिक रूप से अमनिन युक्त मशरूम की पहचान करने के लिए सबसे संवेदनशील और विश्वसनीय है। हालांकि मशरूम विशेषज्ञ देखकर घातक मशरूम की पहचान कर सकते हैं, लेकिन विशेषज्ञ विष के रसायनों को नहीं देख सकते हैं जो इसके अंदर होते हैं।

यह परीक्षण केवल विष के इस विशिष्ट वर्ग की उपस्थिति या अनुपस्थिति की पहचान करता है, यह अन्य यौगिकों का पता नहीं लगाता है, जैसे कि हॉल्यूकिनोजेन्स या टॉक्सिंस जो अन्य गैस्ट्रोइंटेस्टाइनल या न्यूरोलॉजिकल लक्षणों का कारण बनते हैं।

खाने के रूप में मशरूम ने पिछले कई दशकों में लोकप्रियता हासिल की है। मशरूम पूरे यूरोप, ऑस्ट्रेलिया, जापान, कोरिया, मध्य पूर्व के कुछ हिस्सों और भारतीय उपमहाद्वीप के साथ-साथ कनाडा और संयुक्त राज्य अमेरिका में भी लोकप्रिय है।

मशरूम की प्रजाति जहरीली है या नहीं यह मशरूम की सही पहचान करने पर आधारित है, इसी के आधार पर सामान्य और जहरीले मशरूम उगने वाले क्षेत्रों की पहचान की जा सकती है। लेकिन एक ही प्रजाति के मशरूम दिखने में भिन्न हो सकते हैं, विशेषकर विभिन्न चरणों और आवासों में, उन्हें पहचानना बहुत मुश्किल होता है।

कई जहरीले मशरूम निकटवर्ती जंगली मशरूम जिसका उपयोग खाने में किया जाता है, उससे मिलते जुलते हैं। उदाहरण के लिए, स्प्रिंगटाइम अमनिटा (अमनिता वेलोसा) प्रशांत तटीय संयुक्त राज्य अमेरिका में एक खाने योग्य जंगली मशरूम है। लेकिन इनकी पहचान कर पाने वालों के लिए, यह डेथ कैप मशरूम .फालोइड्स के समान दिखाई दे सकता है। 

बेवर ने कहा कि यह परीक्षण शारीरिक उपस्थिति और विशेषताओं से परे एक जंगली मशरूम के बारे में अधिक जानकारी प्रदान कर सकता है, और एमनिटिन्स की उपस्थिति जिसे हम देख नहीं सकते हैं इसका पता लगा सकता है। यदि इस तरह का एक सस्ता उत्पाद उपलब्ध होता है, तो मशरूम और भी अधिक लोकप्रिय हो सकते है और संभवतः सुरक्षित हो सकते हैं।

यह नया परीक्षण एक इम्युनो-जांच है और एक बहुत ही विशेष रूप से प्रतिक्रियाशील मोनोक्लोनल एंटीबॉडी पर निर्भर करता है। एक प्रयोगशाला निर्मित प्रोटीन जो केवल एक विशिष्ट लक्ष्य के साथ पता लगाता है।