Sign up for our weekly newsletter

सतत विकास लक्ष्य के संकेतक ढांचे में बड़े बदलाव, शरणार्थियों की स्थिति सुधारने पर विशेष ध्यान

न्यूयॉर्क में मार्च के पहले सप्ताह में हुई संयुक्त राष्ट्र सांख्यिकीय आयोग की 51वें सत्र में 8 संकेतक जोड़े गए और 6 हटाए गए

By Kiran Pandey

On: Thursday 12 March 2020
 
एसडीजी के दो नए संकेतकों में शरणार्थियों के लिए नीति बनाने का प्रस्ताव है। फोटो: Flickr
एसडीजी के दो नए संकेतकों में शरणार्थियों के लिए नीति बनाने का प्रस्ताव है। फोटो: Flickr एसडीजी के दो नए संकेतकों में शरणार्थियों के लिए नीति बनाने का प्रस्ताव है। फोटो: Flickr

सतत विकास लक्ष्यों (एसडीजी) के लिए वैश्विक संकेतक ढांचे में 36 प्रमुख बदलावों को संयुक्त राष्ट्र सांख्यिकीय आयोग (यूएनएससी) ने अपने 51 वें सत्र में 6 मार्च, 2020 को स्वीकृति देकर अपना लिया है।

आधिकारिक बयान के मुताबिक ये बदलाव सतत विकास लक्ष्यों के संकेतकों (आईएईजी-एसडीजी) को लेकर संयुक्त राष्ट्र की अंतर-एजेंसी और विशेषज्ञों के समूह के द्वारा 'व्यापक समीक्षा 2020' के आधार पर किए गए हैं। इन बदलावों को यूएनएससी के तीन दिवसीय सत्र के पहले दिन प्रस्तुत किया गया था।

बयान के मुताबिक बदलाव के बाद इस वक्त 231 संकेतक वजूद में हैं जो कि असल संकेतक ढांचे के लगभग बराबर हैं। वैश्विक संकेतक ढ़ांचे को संयुक्त राष्ट्र की आमसभा में 6 जुलाई 2017 को अपनाया गया था।

सतत विकास के लक्ष्यों में 6 नए लक्ष्यों में 2, 3, 4, 10, 13 और 16 को शामिल किया गया है। प्रति वर्ष कुल ग्रीन हाउस गैस के उत्सर्जन को संकेतक 13.2.2 और 13.2 में एकीकृत जलवायु परिवर्तन के उपायों को राष्ट्रीय नीतियों, रणनीतियों और योजनाओं में शामिल किया गया है।

वर्ष 2030 तक 15 से 49 वर्ष आयु वर्ग की महिलाओं में एनीमिया को समाप्त करने और गर्भावस्था (प्रतिशत में) के लक्ष्य को 2.2 तक लाकर कुपोषण के प्रकारों को खत्म करने का लक्ष्य रखा गया है।

चयनित रोगाणुरोधी-प्रतिरोधी जीवों के कारण रक्तप्रवाह के संक्रमण के प्रतिशत को कम करने के लिए एक नया संकेतक वैश्विक स्वास्थ्य लक्ष्य (एसडीजी 3) के तहत जोड़ा गया है।

संकेतक 10.7.3 समुद्री, भूमि और हवाई सीमाओं को पार करने का प्रयास करते हुए मारे गए प्रवासियों की संख्या पर होगा। संकेतक 10.7.4 मूल देश में शरणार्थियों की जनसंख्या के अनुपात पर रखा गया है।

सतत विकास के लक्ष्यों से 6 संकेतक जिसमें 1, 4, 8, 11, 13 और 17 शामिल हैं को हटाया गया है। संकेतक 1.ए.1 को सरकार द्वारा सीधे गरीबी में कमी लाने वाले कार्यक्रमों के लिए आवंटित किए गए घरेलू स्तर पर उत्पन्न संसाधनों के अनुपात के ऊपर रखा गया है।

संकेतक 4.2.1 को पांच साल तक के बच्चों के लिंग के अनुसार स्वास्थ्य, सीखने की स्थिति और मनो-सामाजिक स्वास्थ्य के अनुपात को दर्शाने के लिए तय किया गया है।  

संकेतक का वह हिस्सा जो 0 से 23 महीने के बच्चों के लिए प्रगति को मापता है, जो वर्तमान में तृतीय श्रेणी में है, को आईएईजी के द्वारा विलोपन के लिए प्रस्तावित किया गया था।

जलवायु परिवर्तन का मुकाबला करने के लिए एसडीजी लक्ष्य के तहत, संकेतक 13.3.2 को उन देशों की संख्या को निर्धारित करने के लिए रखा गया है जिन्होंने विकास कार्य का हटाकर अनुकूलन, जलवायु परिवर्तन की तीव्रता कम करना और प्रौद्योगिकी हस्तांतरण को लागू करने के लिए क्षमता निर्माण की तरफ ध्यान दिया है।

जब वैश्विक स्तर पर कुल 13.6 प्रतिशत युवा बेरोजगार हैं, तो स्थायी पर्यटन रोजगार का एक महत्वपूर्ण स्रोत और एसडीजी के तहत एक महत्वपूर्ण संकेतक हो सकता है। हालांकि, कुल पर्यटन नौकरियों में से स्थायी पर्यटन उद्योगों में नौकरियों के अनुपात पर संकेतक 8.9.2 को वैश्विक एसडीजी ढांचे से यूएनएससी द्वारा हटा दिया गया है। सत्र में उपस्थित वक्ताओं ने इस सूचक को हटाने पर अपनी चिंता व्यक्त की।

सदस्य राज्यों ने संकेतक 15.9.1 को संशोधित करने के महत्व को स्वीकार किया है जो कि जैव विविधता के एकीकरण को राष्ट्रीय लेखांकन में पर्यावरण-आर्थिक लेखांकन की प्रणाली के तहत दर्ज करता है।

सेंटर फॉर साइंस एंड एनवायरनमेंट नई दिल्ली के डिप्टी प्रोग्राम मैनेजर तरुण गोपालकृष्णन इन मुद्दे पर कहते हैं कि यह एक सकारात्मक रुख है कि ग्रीनहाउस गैस पर केंद्रित एक संकेतक जोड़ा गया है, लेकिन जलवायु की समानता को आदर्श रूप से प्रति व्यक्ति संकेतक की आवश्यकता होगी। वह कहते हैं कि, "मानव जाति पहले से ही एक डिग्री गर्म दुनिया में रह रही है, जिसमें कुछ मात्रा में लॉक-इन वार्मिंग और एक अनुकूलन के रूप में अनुकूलन योजनाओं को हटाने से जलवायु कमजोर देशों और समुदायों के लिए वित्त और क्षमता को बढ़ाने की महत्वपूर्ण आवश्यकता की अनदेखी होती है,"