Sign up for our weekly newsletter

पथ का साथी: लौटते प्रवासियों की दिक्कतें कम करने में जुटे ग्रामीण

डाउन टू अर्थ हिंदी के रिपोर्टर विवेक मिश्रा 16 मई 2020 से प्रवासी मजदूरों के साथ ही पैदल चल रहे हैं। पढ़ें, उनके साथ बीते तीसरे दिन का हाल-

By Vivek Mishra

On: Saturday 23 May 2020
 
बृजघाट पर उत्तर प्रदेश पुलिस द्वारा रोके गए प्रवासी। फोटो: विवेक मिश्रा
बृजघाट पर उत्तर प्रदेश पुलिस द्वारा रोके गए प्रवासी। फोटो: विवेक मिश्रा बृजघाट पर उत्तर प्रदेश पुलिस द्वारा रोके गए प्रवासी। फोटो: विवेक मिश्रा

डाउन टू अर्थ हिंदी के रिपोर्टर विवेक मिश्रा 16 मई 2020 से प्रवासी मजदूरों के साथ ही पैदल चल रहे हैं। उन्होंने इस दौरान भयावह हकीकत को जाना और समझा। वे गांव की ओर जा रहे या पहुंच चुके प्रवासियों की पीड़ा जानने की कोशिश कर रहे हैं कि क्या वे कभी अब शहर की ओर रुख करने की हिम्मत भविष्य में जुटा पाएंगे? उनके इस सफर को सिलसिलेवार “पथ का साथी” श्रृंखला के रूप में प्रकाशित किया जाएगा। इस श्रृंखला में विवेक की आपबीती होगी। साथ ही, सड़कों पर पैदल चल रहे प्रवासियों की दास्तान होगी और गांव पहुंच चुके कामगारों के भविष्य के सपने होंगे।

आप यह सब डाउन टू अर्थ के फेसबुक पेज https://www.facebook.com/down2earthHindi/ पर लाइव या वीडियो देख सकते हैं या डाउन टू अर्थ की वेबसाइट https://www.downtoearth.org.in/hindistory पर पढ़ सकते हैं। इस श्रृखंला की पहली कड़ी में आपने पढ़ा, पथ का साथी: दुख-दर्द और अपमान के साथ गांव लौट रहे हैं प्रवासी । दूसरी कड़ी में आपने पढ़ा, जिनके लिए बरसों काम किया, उन्होंने भी नहीं दिया साथ  । अब पढ़ें, इससे आगे की दास्तान-

 

18 मई 2020। अचानक सीटियों की आवाज से नींद टूट गई। सिर उठाया तो देखा कि कुछ पुलिस वाले सीटी बजा-बजाकर लोगों को उठा रहे हैं। उन्हें लाइनों में लगवा रहे हैं। मैं भी उठ गया। बताया गया कि अब यहां से लोगों को बसों के जरिए आगे भेजा जाएगा। मैंने अपना फोन देखा तो बैटरी खत्म होने वाली थी। सबसे पहले बैटरी चार्ज करने के लिए इधर-उधर ढूंढ़ने लगा। थोड़ा पैदल चलने के बाद पास में कुछ घर दिखाई दिए। वहां लोगों से मैंने कहा, “मैं अपने फोन की बैटरी चार्ज करना चाहता हूं।” तो वहां खड़े व्यक्ति ने मुझे भी प्रवासी मजदूर समझते हुए कहा, “तुम लोग दिल्ली छोड़ कर क्यों आ गए, वहीं केजरीवाल के राज में रहते, यहां यूपी क्या करने आ गए?” मैं चुप रहा और  दोबारा उस व्यक्ति से कहा कि मुझे  बैटरी चार्ज करने दीजिए।

उस इलाके में मुझ से कुछ और लोग थे, जो बैटरी चार्ज करना चाहते थे। यह वजह है कि स्थानीय लोगों ने 10 से 20 रुपए लेकर बैटरी चार्ज की। बैटरी चार्ज करके मैं फिर से वहीं खाली मैदान में आ गया। 9 बजते-बजते वहां तेज धूप हो चुकी थी और महिलाएं और बच्चों को वहां बैठना भारी पड़ रहा है। चूंकि मैंने वहां वीडियो बनाना शुरू कर दिया था, इसलिए वहां खड़े पुलिस कर्मचारियों ने मुझे नोटिस में लेते हुए अपने अधिकारियों तक बात पहुंचा दी, जिसके बाद वहां दो टेंट लगाने का काम शुरू हुआ। ये दोनों टेंट छोटे थे और वहां जमा भीड़ के लिए काफी नहीं थे। इसलिए घोषणा की गई कि टेंट में केवल महिलाएं और बच्चे ही रहेंगे।

तब तक वहां  पास के गांव के कुछ लोग आ गए। वे अपने साथ चाय और नाश्ता लाए थे। उन्हें देखकर वहां बच्चों में खुशी की लहर दौड़ गई। महिलाओं ने भी राहत की सांस ली। यही ग्रामीण बाद में वहां खाना भी लेकर आए। एक बात बहुत साफ थी कि पुलिस प्रशासन प्रवासियों को जहां-तहां रोक कर गाड़ियों का इंतजाम तो कर रहा था, लेकिन खाने-पीने का इंतजाम प्रशासन की ओर से नहीं किया गया। यह जिम्मेवारी संभाली थी ग्रामीणों ने। बाबू गढ़ में भी श्याम पुर के गांव के लोगों ने दिन भर पानी, चाय और खाना खिलाया और बृजघाट पर भी यही काम ग्रामीण कर रहे थे।

यहां मेरी नजर ऐसे समूह पर पड़ी। जिनके पास तीन रिक्शा ठेले थे। ये लोग पुलिस कर्मियों से बहस कर रहे थे कि अगर उनके लिए बस का इंतजाम किया जा रहा है तो वे अपने रिक्शा ठेला भी बस में लादकर ले जाएंगे। वर्ना उन्हें आगे ऐसे ही बढ़ने की इजाजत दी जाएगी। वे अपने ठेले से ही गांव पहुंच जाएंगे।

पुलिस का कहना था कि वे अपने ठेले यहीं जमा करा दें और बाद में कभी आकर ले जाएं, लेकिन ये लोग तैयार नहीं थे। इनमें से एक थे बाबा दीन। वह बाराबंकी के रहने वाले हैं। जब उनसे पूछा कि वह जिद क्यों कर रहे हैं? तो वह रो पड़े। कुछ देर सांत्वना के बाद उन्होंने बताया कि वह इस ठेले के सहारे दिल्ली में अपना पूरा परिवार पाल रहे थे। अब जब वह गांव जा रहे हैं तो वहां कमाने-खाने को कुछ नहीं है। इसी ठेले के बलबूते भी वहां कोई न कोई काम शुरू कर देंगे। लगभग यही बात उनके साथ के दो अन्य साथी भी कह रहे थे, जो अपने साथ ठेला लेकर दिल्ली से आए थे।

बृजघाट पर रोके गए बाबा दीन, जिनकी पूरी गृहस्थी इस रिक्शा ठेले से चलती है। फोटो: विवेक मिश्रा

उनकी व्यथा को समझते हुए मैंने खुद पुलिस अधिकारियों से बात की और उन्हें ठेला ले जाने की इजाजत देने की प्रार्थना की। लेकिन पुलिस अधिकारी नहीं माने। मैंने फोन पर अमरोहा के डीएम से बात की, लेकिन कुछ समाधान नहीं निकला।

यहां जो लाइनें लगाई जा रही थी। उनमें पहली प्राथमिकता उत्तर प्रदेश वालों को दी जा रही थी। बिहार के लोगों को कहा जा रहा था कि उन्हें बाद में भेजा जाएगा। उत्तर प्रदेश के लोगों को अलग-अलग जिलों में बांट दिया गया था। इस दौरान वहां क्षेत्र के एसडीएम आए, उन्होंने टेंट के इंतजाम पर नाराजगी जताई, लेकिन पुलिस कर्मचारी यह समझाने में सफल रहे कि उन्होंने ही वहां लोगों के लिए पीने के पानी और खाने का इंतजाम किया था, जबकि यह सब जगह स्थानीय लेाग कर रहे हैं।

जब मैंने एसडीएम से बात करने की कोशिश की तो पुलिस कर्मचारियों ने मुझे उन तक पहुंचने नहीं दिया। चूंकि मैंने बार-बार बाबा दीन और उनके साथियों के लिए बस का इंतजाम करने की बात कर रहा था तो पुलिस कर्मचारी दुर्व्यवहार पर उतर आए।  बाबा दीन और उनके साथियों के साथ गाली गलौच तक करने लगे। इस दौरान कुछ पुलिस कर्मचारियों ने मुझे लगभग उठाते हुए एक चलती बस में बिठा दिया। यह बस शहजहांपुर जा रही थी। बस में सोशल डिस्टेंसिंग जैसा कोई नियम लागू नहीं था। लोगों को लगभग ठूंस दिया गया था। मैं भी वहां किसी तरह सीट का इंतजाम कर बैठ गया। वहां थर्मल स्क्रीनिंग का भी इंतजाम नहीं किया गया था।

लेकिन दिमाग में बाबा दीन और उनके साथियों के चेहरा घूम रहा था। उनका फोन नंबर मेरे पास था। आगे जाकर मैंने उन्हें फोन किया तो बाबा दीन ने बताया कि जब सब बसें चली गई तो उन्हें और उनके साथियों को एक ट्रक में बिठा दिया गया। इसी ट्रक में उनकी ठेले भी डाल दिए गए। लेकिन ट्रक वाले ने आठ-दस किलोमीटर बाद उन्हें उतार दिया और उसके बाद  से वे अपने ठेले चलाकर ही आगे बढ़ रहे थे।

इस अफरातफरी में बाबा दीन के रिक्शा ठेले का टायर पंचर हो गया और अब वह किसी तरह पंचर लगाने का इंतजाम कर रहे थे, जबकि उनके साथी आगे बढ़ चुके थे।

मैं बस में बैठकर शाहजहांपुर की ओर बढ़ गया। यह क्षेत्र मुरादाबाद के बॉर्डर पर है। यहां मेरी दोस्ती एक परिवार से हो गई। यह परिवार भी दिल्ली से गांव लौट रहा था। बातों-बातों में उन्होंने रात उनके घर पर ही रुकने को कहा। चूंकि मैं भी देखना चाहता था कि जब प्रवासी अपने गांव पहुंच रहे हैं तो उनके साथ क्या बर्ताव हो रहा है? इसलिए मैं तैयार हो गया और देर रात हम लोग शाहजहां पुर पहुंच गए।

जल्द ही आप पढ़ेंगे, इससे आगे क्या हुआ?