Sign up for our weekly newsletter

बेहद कम लागत वाला एक आम एंटीऑक्सीडेंट बन सकता है कोविड-19 का कारगर उपचार

एक स्वाभाविक रूप से बनने वाला एंजाइम, कोविड-19 का उपचार करने में सक्षम है।

By Dayanidhi

On: Wednesday 30 September 2020
 
Photo : DTE
Photo : DTE Photo : DTE

यूनिवर्सिटी ऑफ़ कैलिफ़ोर्निया, लॉस एंजेलिस (यूसीएलए) और चीन के शोधकर्ताओं ने पाया है कि उत्प्रेरित, एक स्वाभाविक रूप से बनने वाला एंजाइम, कोविड-19 का उपचार करने में सक्षम है। यह इसके लक्षणों के इलाज के लिए और शरीर के अंदर कोरोनोवायरस को बढ़ने से रोकता है। शोधकर्ताओं ने दावा किया है कि यह सबसे कम लागत वाली चिकित्सीय दवा के रूप में सामने आया है।

एंटीऑक्सीडेंट एंजाइम क्या है

एंटीऑक्सीडेंट एंजाइम हमारे शरीर की कोशिका पर हमला करने वाले मुक्त कणों को स्थिर करने या निष्क्रिय करने का कार्य करते हैं। वे मुक्त कणों की ऊर्जा को कम करके या इसके उपयोग के लिए अपने कुछ इलेक्ट्रॉनों को छोड़ कर कार्य करते हैं, जिससे यह स्थिर हो जाता है। इसके अलावा, वे मुक्त कणों से होने वाले नुकसान को कम करने के लिए ऑक्सीकरण श्रृंखला प्रतिक्रिया को रोक सकते हैं। मुक्त कण वे पदार्थ हैं जो हमारे शरीर में स्वाभाविक रूप से पाए जाते हैं। लेकिन ये हमारी कोशिकाओं में वसा, प्रोटीन और डीएनए पर हमला करते हैं, जिसके कारण विभिन्न प्रकार की बीमारियां हो सकती हैं।

कैटलसे नाम का एंजाइम प्राकृतिक रूप से निर्मित होता है और इसका उपयोग मनुष्यों, जानवरों और पौधों द्वारा किया जाता है। कोशिकाओं के अंदर, एंटीऑक्सिडेंट एंजाइम हाइड्रोजन पेरोक्साइड का टूटना शुरू करता है, जो पानी और ऑक्सीजन में मिलने पर जहरीला हो सकता है। इस एंजाइम का उपयोग दुनिया भर में आमतौर पर खाद्य उत्पादन और आहार सप्लीमेंट के रूप में किया जाता है।

यूसीएलए सैम्युअली स्कूल ऑफ इंजीनियरिंग, केमिकल एंड बायोमोलेक्युलर इंजीनियरिंग के प्रोफेसर और अध्ययनकर्ता यूंफ़ेंग लू ने कहा आजकल टीके और एंटीवायरल ड्रग्स पर बहुत अधिक ध्यान दिया जाता है। हमारे शोध से पता चलता है कि यह एंजाइम हाइपरइन्फ्लेमेशन के इलाज के लिए एक बहुत प्रभावी चिकित्सीय समाधान पेश कर सकता है जो कि सार्स-सीओवी-2 वायरस के कारण होता है।

लू के समूह ने प्रयोगों में प्रयुक्त दवा-वितरण तकनीक विकसित की है। इसमें तीन प्रकार के परीक्षण किए गए, प्रत्येक में कोविड-19 के एक अलग लक्षण को लिया गया। यह अध्ययन एडवांस्ड मैटेरियल्स नामक पत्रिका में प्रकाशित हुआ है।

सबसे पहले उन्होंने एंजाइम के उत्तेजक प्रभाव और साइटोकिन्स के उत्पादन को नियमित करने की अपनी क्षमता का प्रदर्शन किया, यह एक प्रोटीन है जो सफेद रक्त कोशिकाओं में उत्पन्न होता है। साइटोकिन्स मानव प्रतिरक्षा प्रणाली का एक महत्वपूर्ण हिस्सा हैं, लेकिन वे शरीर की स्वयं की कोशिकाओं पर हमला करने के लिए प्रतिरक्षा प्रणाली को भी संकेत दे सकते हैं, उस स्थिति में जब ये बहुत सारे बन जाते हैं - एक तथाकथित 'साइटोकिन स्टॉर्म' जिसका कुछ रोगियों में कोविड-19 की जांच के समय पता चला है।

दूसरा, टीम ने दिखाया कि उत्प्रेरित वायुकोशीय कोशिकाओं की रक्षा कर सकती है, जो ऑक्सीकरण के कारण क्षति से मानव फेफड़ों की सुरक्षा करती है। अंत में प्रयोगों से पता चला कि सार्स-सीओवी-2 वायरस को दोहराने ओर बढ़ाने वाले को रोक देता है।

यूसीएलए के डेविड गेफेन स्कूल ऑफ मेडिसिन में रोगविज्ञानी और अध्ययनकर्ता डॉ ग्रेगरी फिशबीन ने कहा इस काम के कोविड-19 के उपचार से परे दूरगामी प्रभाव हैं। साइटोकिन स्टॉर्म एक घातक स्थिति है जो अन्य संक्रमणों को प्रभावित कर सकती है, जैसे कि इन्फ्लूएंजा, साथ ही गैर-संक्रामक परिस्थितियां, जैसे ऑटोइम्यून रोग आदि।