Sign up for our weekly newsletter

कोरोना काल में भारत में एंटीबायोटिक का दुरुपयोग बढ़ा: शोध

शोध से पता चला है कि 2020 में भारत में एंटीबायोटिक दवाओं की कुल 1629 करोड़ खुराक बेची गईं, वयस्कों के खुराक में लगभग 76.8 फीसदी की वृद्धि देखी गई।

By Dayanidhi

On: Monday 05 July 2021
 
कोरोना काल में भारत में एंटीबायोटिक का दुरुपयोग बढ़ा: शोध
Photo : Wikimedia Commons Photo : Wikimedia Commons

भारत में कोविड-19 माहामारी के दौर में एंटीबायोटिक दवाओं का हद से ज्यादा दुरुपयोग सामने आया है। इसे एक स्वास्थ्य संकट के तौर पर देखा जाता है, क्‍योंकि एंटीबायोटिक दवाओं का अधिक उपयोग करने से दवा प्रतिरोधी संक्रमण का खतरा बढ़ जाता है।  

भारत में एंटीबायोटिक दवाओं का दुरुपयोग संबंधी यह मामला सेंट लुइस में वाशिंगटन यूनिवर्सिटी स्कूल ऑफ मेडिसिन के नेतृत्व में किए गए शोध में सामने आया है। इसमें बताया गया है कि भारत में कोविड-19 की पहली लहर के दौरान, एंटीबायोटिक दवाओं की बिक्री में वृद्धि देखी गई।   

भारत में कोविड-19 के हल्के और मध्यम मामलों के इलाज के लिए एंटीबायोटिक दवाओं का उपयोग किया गया था। इस तरह के उपयोग को अनुचित माना जाता है क्योंकि एंटीबायोटिक्स केवल जीवाणु संक्रमण के खिलाफ प्रभावी होते हैं, न कि वायरल संक्रमण जैसे कि कोविड-19 पर।

संक्रामक रोग विशेषज्ञ और प्रमुख अध्ययनकर्ता सुमंत गांद्रा ने कहा कि एंटीबायोटिक प्रतिरोध दुनिया भर में सार्वजनिक स्वास्थ्य के लिए सबसे बड़े खतरों में से एक है। एंटीबायोटिक्स दवाओं के अधिक प्रयोग से मामूली चोटों और निमोनिया जैसे सामान्य संक्रमणों का प्रभावी ढंग से इलाज करने की क्षमता कम हो जाती है। जिसका अर्थ है कि ये स्थितियां गंभीर और घातक हो सकती हैं। जीवाणु जो एंटीबायोटिक दवाओं के लिए प्रतिरोधी बन गए हैं, उनकी कोई सीमा नहीं है। वे किसी भी देश में किसी भी व्यक्ति में फैल सकते हैं।

एंटीबायोटिक्स जीवन रक्षक दवाएं हैं। हालांकि, अनियंत्रित, रोगाणु अपने आप को दोहराते रहते है, तथा वे उन्हें मारने के लिए डिज़ाइन किए गए एंटीबायोटिक दवाओं का विरोध करना सीखते हैं। अधिक बीमारियों और मौतों के साथ, एंटीबायोटिक प्रतिरोध से अधिक समय तक अस्पताल में रहने और इसकी वजह से चिकित्सा का खर्च बढ़ जाता है।

गांद्रा ने बताया कि अमेरिका, यूनाइटेड किंगडम और कनाडा जैसे उच्च आय वाले देशों में, कुल एंटीबायोटिक का उपयोग 2020 में कम हु़आ है, यहां तक ​​कि कोविड-19 के चरम के दौरान भी इसका उपयोग कम हुआ। ऐसा इसलिए है क्योंकि उच्च आय वाले देशों में चिकित्सक आमतौर पर हल्के और मध्यम कोविड-19 मामलों के लिए एंटीबायोटिक्स दवाएं नहीं लिखते हैं। भारत में एंटीबायोटिक दवाओं के उपयोग में वृद्धि हुई है इसका कारण कोविड-19 के दौरान दिशानिर्देशों का पालन नहीं किया जाना है।

गांद्रा ने कहा लगभग 140 करोड़ लोगों के साथ, भारत दुनिया का दूसरा सबसे अधिक आबादी वाला देश है। भारत में अध्ययन इसलिए आवश्यक है क्योंकि यह दुनिया में एंटीबायोटिक दवाओं का सबसे बड़ा उपभोक्ता है। यह मूल रूप से समान स्वास्थ्य देखभाल वाले निम्न और मध्यम आय वाले देशों में एंटीबायोटिक दुरुपयोग के लिए जाना जाने लगा है। आम तौर पर, ये देश प्राथमिक देखभाल में अत्यधिक एंटीबायोटिक्स लिखते हैं। इसलिए, हमें संदेह है कि महामारी ने कई निम्न और मध्यम आय वाले देशों में एंटीबायोटिक के उपयोग को बढ़ाने के लिए भी प्रेरित किया है।

गांद्रा ने कहा भारतीय स्वास्थ्य मंत्रालय और डब्ल्यूएचओ के दिशानिर्देशों के बावजूद एंटीबायोटिक का उपयोग बढ़ गया, जिसमें कोविड​​-19 के हल्के और मध्यम रूपों के लिए एंटीबायोटिक दवाओं का उपयोग न करने का आग्रह किया गया, जो 90 फीसदी से अधिक मामलों में होता है। एंटीबायोटिक्स केवल उन्हीं रोगियों को दी जानी चाहिए जिनमें द्वितीयक जीवाणु संबंधी बीमारियां विकसित होती हैं। मौजूदा संकट और विनाशकारी तीसरी लहर की आशंका के चलते, भारत में नीतिगत बदलावों की आवश्यकता है।

गांद्रा ने कहा कि भारत में, एक अनियमित निजी क्षेत्र में 75 फीसदी स्वास्थ्य देखभाल में 90 फीसदी एंटीबायोटिक बिक्री होती है। उन्होंने कहा यह जबरन एंटीबायोटिक लेने की सलाह देते हैं। निम्न और मध्यम आय वाले देश सांस संबंधी बीमारियों के लिए नैदानिक परीक्षण को छोड़ देते हैं क्योंकि अधिकांश रोगी इसे बर्दाश्त नहीं कर सकते हैं, इसलिए वे इस धारणा के तहत एंटीबायोटिक्स दवाओं का उपयोग करते हैं। अमेरिका में आमतौर पर सर्दी या खांसी के रोगी स्ट्रेप गले जैसे जीवाणु संक्रमण के लिए परीक्षण से गुजरना और परीक्षण सकारात्मक होने पर ही एंटीबायोटिक्स दी जाती है।

विशेष रूप से, शोधकर्ताओं ने सभी एंटीबायोटिक दवाओं की कुल बिक्री की मात्रा के साथ-साथ एज़िथ्रोमाइसिन की बिक्री की मात्रा की जांच की। अध्ययन कोरोना बीमारी के बीच में किया गया था, क्योंकि कुछ देशों ने महामारी के शुरुआती दिनों में एज़िथ्रोमाइसिन की बिक्री में वृद्धि का अनुभव किया था। यह इसलिए भी बढ़ गया था क्योंकि अवलोकन संबंधी अध्ययनों ने सुझाव दिया था कि एंटीबायोटिक कोविड-19 के इलाज में मदद कर सकता है, हालांकि बाद के अध्ययनों ने इस दावे को विवादित करार दिया।

शोधकर्ताओं ने पता लगाया कि 2020 में भारत में एंटीबायोटिक दवाओं की कुल 1629 करोड़ खुराक बेची गईं, जोकि 2018 और 2019 में बेची गई मात्रा से थोड़ा कम है। हालांकि, जब शोधकर्ताओं ने वयस्क खुराक पर गौर किया, तो 2018 में उपयोग 72.6 फीसदी बढ़ गया और 2019 में 72.5 फीसदी से 2020 में 76.8 फीसदी हो गया था।

इसके अतिरिक्त, भारत में वयस्कों के लिए एज़िथ्रोमाइसिन की बिक्री 2018 में 4 फीसदी और 2019 में 4.5 फीसदी से बढ़कर 2020 में 5.9 फीसदी हो गई। अध्ययन में डॉक्सीसाइक्लिन और फ़ैरोपेनेम की बिक्री में उल्लेखनीय वृद्धि भी देखी गई, दो एंटीबायोटिक्स आमतौर पर सांस के संक्रमण के इलाज के लिए उपयोग किए जाते हैं।

शोधकर्ताओं ने अमेरिका और अन्य उच्च आय वाले देशों में ऐसी दवाओं के उपयोग के साथ भारत के एंटीबायोटिक उपयोग की तुलना करने के लिए पहले प्रकाशित अध्ययनों का उपयोग किया। उन देशों में, शोधकर्ताओं ने पाया कि 2018 और 2019 में इस तरह के उपयोग की तुलना में महामारी के दौरान वयस्क एंटीबायोटिक उपयोग में भारी कमी आई है।

गांद्रा ने कहा यह मानना महत्वपूर्ण है कि 2020 में उच्च आय वाले देशों में एंटीबायोटिक का उपयोग कम हो गया। लॉकडाउन के दौरान लोगों को अलग-अलग कर दिया गया, स्कूल और कार्यालय बंद हो गए और कम लोगों को फ्लू हुआ और कुल मिलाकर, महामारी के पहले वर्षों की तुलना में लोग ज्यादा स्वस्थ रहे। इसने एंटीबायोटिक दवाओं की आवश्यकता को भी कम कर दिया, जैसा कि दंत प्रक्रियाओं और पेशेंट सर्जरी को रद्द कर दिया।

भारत में भी लॉकडाउन के दौरान मलेरिया, डेंगू, चिकनगुनिया और अन्य रोगों में कमी आई थी, जबकि आमतौर पर एंटीबायोटिक दवाओं के साथ इन सभी का इलाज किया जाता था। एंटीबायोटिक का उपयोग कम होना चाहिए था, लेकिन ऐसा नहीं हुआ। इतना ही नहीं बल्कि कोविड मामलों के बढ़ने के साथ-साथ एंटीबायोटिक का उपयोग भी बढ़ा है।

मौसमी और अनिवार्य लॉकडाउन अवधि के लिए शोधकर्ताओं ने अनुमान लगाया कि कोविड-19 ने जून 2020 से सितंबर 2020 तक वयस्कों के लिए एंटीबायोटिक दवाओं की 21.64 करोड़ अतिरिक्त खुराक और वयस्कों के लिए एज़िथ्रोमाइसिन की 3.8 करोड़ अतिरिक्त खुराक में योगदान दिया, भारत में यह सब कोविड-19 के दौरान के चार महीनों में हुआ। गांद्रा ने कहा कि हमारे नतीजे बताते हैं कि कोविड-19 से पीड़ित लगभग सभी को भारत में एंटीबायोटिक दिया गया।

एज़िथ्रोमाइसिन टाइफाइड के बुखार, टाइफाइड साल्मोनेला और ट्रैवेलर्स डायरिया के इलाज के लिए एक महत्वपूर्ण दवा है। गांद्रा ने कहा, अनावश्यक उपयोग से इन बीमारियों का कारण बनने वाले जीवाणुओं में प्रतिरोध पैदा होगा। ये संक्रमण भारत और अन्य निम्न और मध्यम आय वाले देशों में अत्यधिक प्रचलित हैं। एज़िथ्रोमाइसिन पाकिस्तान में टाइफाइड बुखार के लिए उपलब्ध एकमात्र प्रभावी मौखिक उपचार विकल्प है। यह शोध पीएलओएस मेडिसिन में प्रकाशित हुआ है

शोधकर्ताओं ने हाइड्रोक्सीक्लोरोक्वीन का भी अध्ययन किया, जो एक मलेरिया की दवा है, जिसे पहले कोविड-19 महामारी में के दौरान संभावित उपचार के रूप में जाना जाता था। भारत में, सरकार द्वारा हाइड्रॉक्सीक्लोरोक्वीन की बिक्री पर कड़े प्रतिबंध लगाते हुए एक आपातकालीन आदेश जारी करने के बाद दवा की बिक्री में कमी आई। गांद्रा ने कहा कि भारत सरकार को एज़िथ्रोमाइसिन और अन्य एंटीबायोटिक दवाओं के लिए समान प्रतिबंध अनिवार्य करने पर दृढ़ता से विचार करना चाहिए।