Sign up for our weekly newsletter

देश मांगे ऑक्सीजन : छत्तीसगढ़ बना कई राज्यों का जीवनदाता

राज्य में 388.87 मीट्रिक टन ऑक्सीजन का उत्पादन हो रहा है जबकि प्रदेश को 150 मीट्रिक टन ऑक्सीजन की खपत है। छत्तसीगढ़ ऑक्सीजन उत्पादन के मामले में सरप्लस राज्य बना हुआ है। 

By Avdhesh Mallick

On: Sunday 25 April 2021
 

Photo Credit : Pixabay

इन दिनों पूरे भारत में कोरोना पीड़ित मरीजों के ऑक्सीजन आपूर्ति हेतु कोहराम मचा हुआ है। दिल्ली, महाराष्ट्र, गुजरात, उत्तर प्रदेश जैसे राज्यों के ज्यादातर अस्पतालों में मात्र कुछ घंटों का ऑक्सीजन बचा हुआ है। लोग बिना ऑक्सीजन के मर रहे हैं। ऐसे में पूरे भारत में एक ही राज्य बचा हुआ है जिसके और अन्य सभी राज्य आशा भरी नज़रों से देख रहें हैं- वह है आदिवासी बाहुल्य राज्य छत्तीसगढ़ और प्रदेश सरकार ने भी ऑक्सीजन आपूर्ति हेतु बिना देर करते हुए झट से इसके लिए हां कर दी है।

छत्तीसगढ़ से महाराष्ट्र, आंध्र प्रदेश, गुजरात, मध्य प्रदेश जैसे विकसित राज्यों को ऑक्सीजन की आपूर्ति की जा रही है। 11 अप्रैल  से  19 अप्रैल 2021 तक छत्तसीगढ़ ने महाराष्ट्र को 554.28 मीट्रिक टन, तेलंगाना को 397.6 मीट्रिक टन, गुजरात को 12.4 मीट्रिक टन, मध्य प्रदेश को 448.57 मीट्रिक टन, गुजरात को 176.69 मीट्रिक टन ऑक्सीजन की आपूर्ति की है।

23 मार्च, 2021 को प्रधानमंत्री के साथ मुख्यमंत्रियों के ऑनलाइन वीडियो कांफ्रेंसिंग के दौरान भी मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने स्पष्ट रूप से कहा था हमें इस बात से कोई आपत्ति नहीं है कि जिन राज्यों को ऑक्सीजन की जरूरत है उन्हे इसकी आपूर्ति की जानी चाहिए। मुख्यमंत्री बघेल ने यह भी निवेदन किया कि रेमडेसिवीर जैसे इंजेक्शन एवं जीवन रक्षक दवाएं, वैक्सीन जिन राज्यों में उत्पादन हो रहा है वे भी पर्याप्त मात्रा में प्रदेश में भेजे जाने में सहयोग करें।  

प्रदेश में ऑक्सीजन की स्थिति

आईएएस डॉ. अयाज तंबोली जिनको ऑक्सीजन सप्लाई का नोडल अधिकारी बनाया गया है बताते हैं - छत्तीसगढ़ में मार्च 3, 2021 तक मेडिकल ऑक्सीजन की मांग मात्र मीट्रिक टन थी जो 22 तारीख तक बढ़कर 138 मीट्रिक टन तक हो गई है। प्रत्येक हफ्ते इसमें करीब 8 मीट्रिक टन का इजाफा हो रहा है। इसकी सप्लाई लगातार बनी रहे इसके लिए हम लगातार कोशिश कर रहे हैं।

राज्य सरकार के आंकड़े बताते हैं 1 मार्च, 2021 को 199 कोविड पॉजिटिव मरीज ऑक्सीजन सपोर्ट पर थे और उन्हें मात्र 3.72 मीट्रिक टन ऑक्सीजन दिया जाता था। पर मार्च 21, 2021 में कोविड मरीजों की संख्या 8046 हो गई और 150.47 मीट्रिक टन ऑक्सीजन अब दिया जा रहा है। सर्वाधिक ऑक्सीजन की जरूरत रायपुर में आ रही है और यहां पर 70.39 मीट्रिक टन ऑक्सीजन की आपूर्ति की जा रही है।

नोडल अधिकारी तंबोली बताते हैं राज्य में 388.87 मीट्रिक टन ऑक्सीजन का उत्पादन हो रहा है जबकि प्रदेश को 150 मीट्रिक टन ऑक्सीजन की खपत है। हमारा प्रदेश ऑक्सीजन उत्पादन के मामले में सरप्लस है, हां कहीं कहीं ऑक्सीजन सिलिंडर सप्लाई में थोड़ी बहुत समस्या आ रही है उसको दुरुस्त करने की कोशिशें हो रही है। कुछ की कंपनियों से बात हुई है इस समस्या से निजात पा लिया जाएगा।

राज्य का दावा नहीं हुई ऑक्सीजन की कमी से मौत

स्वास्थ्य मंत्री टीएस सिंह देव कहते हैं ऑक्सीजन को लेकर तमाम अन्य प्रदेशों में महामारी की स्थिति है पर छत्तीसगढ़ में ऐसा नहीं है। हां कुछ एक जगह पर ऑक्सीजन बेड कम होने की शिकायतें मिली है और उसे दूर किया जा रहा है। ऑक्सीजन की कमी से छत्तीसगढ़ में कोई मौत मेरे नज़र में नहीं आया है। हो सकता है इक्का दुक्का अस्पतालों में कभी कमी हो गई है पर बड़े स्तर पर ऐसा कहीं भी देखने को नहीं मिला है।

आरटीआई एक्टिविस्ट उचित शर्मा बताते हैं कि - ऐसा नहीं हैं कि समय पर ऑक्सीजन नहीं मिलने से मौत नहीं हुई है क्योंकि कई बार जब मरीज अस्पताल पहुंचा और उसे जब तक ऑक्सीजन बेड मिला तब तक उसकी स्थिति काफी खराब हो चुकी थी पर उसको ऑक्सीजन की कमी के कारण मौत का नाम नहीं दिया जा सकता।  

कोरोना की स्थिति, 6674 व्यक्तियों की मौत

राज्य में 23 मार्च तक एक्टिव मरीजों की संख्या 1,21, 555 पहुंच गई है। हालांकि ताजा संक्रमण की बात करें तो। देश के चार ही राज्य ऐसे हैं जिनमें एक्टिव मरीजों की संख्या छत्तीसगढ़ से ज्यादा है। इस मामले में महाराष्ट्र पहले नंबर पर है। वहां 6,99, 858 एक्टिव केस हैं। दूसरे नंबर पर उत्तर प्रदेश है जहां एक्टिव केस 2, 59, 810 हैं। कर्नाटक तीसरे नंबर पर है, वहां 1,96,236 एक्टिव केस हैं। जबकि 1,56,224 एक्टिव मामलों के साथ केरल चौथे नंबर पर है।

अगर मौतों की बात करें तो कोरोना का पहला मामला 18 मार्च 2020 को प्रदेश में दिखा था और 31 मार्च 2021 तक 4,131 मौतें इस वायरस संक्रमण के कारण हो चुकी है। जबकि दूसरी लहर में केवल अप्रैल के 21 दिनों में ही 2,263 से ज्यादा लोगों की जान जा चुकी है। प्रदेश में कोरोना से रोज औसतन 112 लोगों की मौत हो रही है।

छत्तीसगढ़ सरकार के आंकड़ों के मुताबिक गुरुवार को 197 मरीजों की कोरोना संक्रमण के कारण मौत हो गई। कोरोना संक्रमण के कारण राज्य में अब तक 6674 व्यक्तियों की जान जा चुकी  है।