Sign up for our weekly newsletter

नेपाल के रास्ते आने वाले कोरोनावायरस को रोकने की तैयारी

बिहार से जुड़े नेपाल की अंतर्राष्ट्रीय सीमा पर लगभग 50 हजार लोगों की स्क्रीनिंग की गई है

By Pushya Mitra

On: Monday 17 February 2020
 
चीन के वुहान से लाए गए लोगों से बातचीत करते केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री डॉ. हर्षवर्धन। इन लोगों के टेस्ट नेगेटिव पाया गया, जिसके बाद उन्हें घर भेजा गया। फोटो: Twitter @MoHFW_INDIA
चीन के वुहान से लाए गए लोगों से बातचीत करते केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री डॉ. हर्षवर्धन। इन लोगों के टेस्ट नेगेटिव पाया गया, जिसके बाद उन्हें घर भेजा गया। फोटो: Twitter @MoHFW_INDIA चीन के वुहान से लाए गए लोगों से बातचीत करते केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री डॉ. हर्षवर्धन। इन लोगों के टेस्ट नेगेटिव पाया गया, जिसके बाद उन्हें घर भेजा गया। फोटो: Twitter @MoHFW_INDIA

बिहार से जुड़े नेपाल की अंतर्राष्ट्रीय सीमा पर कोरोना वायरस को लेकर इन दिनों सघन जांच अभियान चल रहा है। 26 जनवरी से शुरू हुए इस अभियान के तहत अब तक 50 हजार से अधिक लोगों की स्क्रीनिंग की जा चुकी है। राज्य में अब तक कुल 28 लोगों को कोरोना वायरस का संदिग्ध मरीज मानकर उन्हें घर में ही आइसोलेशन में रखा गया है। बिहार सरकार के स्वास्थ्य विभाग को आशंका है कि नेपाल स्थित खुली सीमा के रास्ते कोरोना वायरस के मरीज बिहार में आ सकते हैं, क्योंकि नेपाल के एयरपोर्ट पर अभी भी चीन के विमानों की आवाजाही जारी है।

बिहार में राज्य स्वास्थ्य समिति से जुड़ी निगरानी इकाई की प्रमुख रागिनी मिश्रा ने डाउन टू अर्थ को बताया कि कोरोना वायरस के लिहाज से भारत-नेपाल की खुली सीमा को हमलोग बहुत संवेदनशील मानकर चल रहे हैं। बिहार के दस जिले दोनों देशों की सीमा से जुड़े हैं। इसलिए हमने इन सीमावर्ती इलाकों पर 49 स्थानों पर 26 जनवरी, 2020 से सभी आने वाले लोगों की स्क्रीनिंग शुरू की है, इस अभियान के तहत अब तक 50 हजार लोगों की स्क्रीनिंग की जा चुकी है।

रागिनी मिश्रा ने बताया कि इस स्क्रीनिंग के दौरान हमें अब तक सिर्फ एक संदिग्ध मिला है, जो सुपौल का रहने वाला है। उस व्यक्ति को उसके घर में ही आइसोलेशन में रखा गया है और स्वास्थ्य विभाग के कर्मी उसकी नियमित निगरानी रख रहे हैं। उसे 28 दिनों तक आइसोलेशन में रखा जायेगा।

उन्होंने बताया कि इसी तरह राज्य में अब तक कुल 28 लोग कोरोना वायरस के संदिग्ध मिले हैं, जिन्हें होम आइसोलेशन में रखा गया है। इनमें से दस लोगों के सैंपल हमने जांच के लिए भेजे थे, पांच के नतीजे आ गये और वे नेगेटिव हैं। पांच अन्य लोगों के नतीजे आने बाकी है।

रागिनी मिश्रा ने बताया कि इसके अलावा स्वास्थ्य विभाग सीमावर्ती जिलों में पंचायती राज्य संस्थाओं के जरिये इस वायरस को लेकर जागरूकता अभियान भी चला रहा है और लोगों को बता रहा है कि इससे बहुत अधिक डरने की जरूरत नहीं है, पर बचाव और परहेज रखना जरूरी है।