Sign up for our weekly newsletter

मध्यप्रदेश के आधे मरीज कैसे आए कोरोना की चपेट में, न ट्रेवल हिस्ट्री न कोई संपर्क

कोरोना वायरस के संक्रमण के मामले में केवल 9 फीसदी मरीजों का विदेश का कोई ट्रैवल रिकॉर्ड है। बाकी मरीजों को यह संक्रमण स्थानीय स्तर पर हुआ है

By Manish Chandra Mishra

On: Thursday 02 April 2020
 
इंदौर में सार्वजनिक स्थानों को संक्रमण रहित बनाने के लिए छिड़काव किया जा रहा है। फोटो: मनीष चंद्र मिश्र
इंदौर में सार्वजनिक स्थानों को संक्रमण रहित बनाने के लिए छिड़काव किया जा रहा है। फोटो: मनीष चंद्र मिश्र इंदौर में सार्वजनिक स्थानों को संक्रमण रहित बनाने के लिए छिड़काव किया जा रहा है। फोटो: मनीष चंद्र मिश्र

 

मध्यप्रदेश में एक अप्रैल की देर रात तक संक्रमण का आंकड़ा 98 पहुंच गया। यहां इंदौर में सबसे अधिक 75 संक्रमित मरीज हैं। मध्यप्रदेश का स्थान कोरोना पॉजिटिव मामलों में देश में 10वां है। मध्यप्रदेश के लोक स्वास्थ्य एवं कल्याण विभाग ने अटल बिहारी वाजपेयी इंस्टीट्यूट ऑफ गुड गवर्नेंस के साथ मिलकर कोरोना वायरस से संबंधित आंकड़ों पर एक विस्तृत रिपोर्ट जारी की।

रिपोर्ट में कई चौकानेवाले तथ्य सामने आए हैं। यह रिपोर्ट कहती हैं कि मध्यप्रदेश में तकरीबन आधे मरीज यानि 49 फीसदी मरीजों का न कोई विदेश यात्रा का इतिहास मिला है न ही उनका कोई संक्रमित मरीज से संपर्क में आने का रिकॉर्ड है। यानि, आशंका है कि उन्हें यह संक्रमण सामुदायिक स्तर पर हुआ। संक्रमित मरीजों में 42 फीसदी मरीज ऐसे हैं जिन्हें किसी दूसरे मरीज से इसका संक्रमण हुआ।

इनमें मरीजों के परिवार के सदस्य और उनकी देखभाल करने वाले स्वास्थ्यकर्मी शामिल हैं। 9 प्रतिशत मरीजों का विदेश यात्रा का रिकॉर्ड पाया गया है।

राष्ट्रीय स्तर पर 27 प्रतिशत पॉजिटिव मामलों में विदेश यात्रा या संक्रमित मरीज से कोई संपर्क का रिकॉर्ड नहीं मिला है। वहीं, 31 प्रतिशत संक्रमित मरीजों की हालिया विदेश यात्रा का रिकॉर्ड है। देश में 43 प्रतिशत पॉजिटिव मामलों में संक्रमित व्यक्ति के संपर्क में आने का रिकॉर्ड मिला है। मध्यप्रदेश में सबसे अधिक 21 से 30 आयुवर्ग के लोगों में संक्रमण पाया गया है जिसकी संख्या 15 है। बुजुर्ग मरीजों में 61 से 70 आयुवर्ग में सिर्फ 8 मरीज मिले हैं।

13 दिन में 100 के करीब पहुंचा आंकड़ा

मध्यप्रदेश में कोरोना वायरस संक्रमण का पहला मामला 20 मार्च को सामने आया था। इस दिन चार संक्रमित मरीज सामने आए थे। इसके बाद 6 दिन के भीतर पहली बार दो अंकों में मामला 26 मार्च को 11 संक्रमण के साथ सामने आया। 12हवें दिन पहली बार 20 मरीज एकसाथ पॉजिटिव पाए गए। मध्यप्रदेश में एक अप्रैल की देर रात तक कोरोना वायरस के 98 मरीज सामने आए जिनमें से 6 मरीजों की इलाज के दौरान मृत्यु हो गई है।

किस देश से कितने मरीज

आंकड़ों के मुताबिक प्रदेश में कोरोना वायरस का संक्रमण सबसे अधिक यूएई से आया जहां से 5 मरीजों का संक्रमण का रिकॉर्ड मिल रहा है। जर्मनी और यूके से एक-एक मरीज संक्रमित होकर मध्यप्रदेश में आए। बाहर यात्रा के रिकॉर्ड में एक मरीज का ऋषिकेश यात्रा का रिकॉर्ड भी मिला है। मध्यप्रदेश में अब तक 6 जिलों में कोरोना वायरस का संक्रमण सामने आया है। ये जिले हैं इंदौर (75), भोपाल (4), जबलपुर (8), उज्जैन (7), ग्वालियर (2) और शिवपुरी (2).