Sign up for our weekly newsletter

इम्यून सिस्टम की घड़ी से बीमारी और मृत्यु का लगेगा पूर्वानुमान

इस घड़ी में तेजी से हृदय संबंधी उम्र बढ़ने का पता लगाने की क्षमता है। इसकी मदद से सभी तरह की बीमारियों, विकारों का सबसे अच्छा और तेजी से इलाज किया जा सकता है।

By Dayanidhi

On: Wednesday 14 July 2021
 
इम्यून सिस्टम घड़ी से लगेगा बीमारी और मृत्यु का पूर्वानुमान
 Photo : Wikimedia Commons
Photo : Wikimedia Commons

शोधकर्ताओं ने शरीर में सूजन के बढ़ने वाली उम्र यानी इंफ्लेमेटरी ऐज वाली घड़ी बनाई है। जो आपके उम्र के बारे में सटीक अनुमान लगा सकती है। यह इस बात का अनुमान लगाती है कि आपकी प्रतिरक्षा प्रणाली कितनी मजबूत है। शोध में कहा गया है कि आपकी उम्र आपकी प्रतिरक्षा प्रणाली के बराबर है। यह कारनामा स्टैनफोर्ड यूनिवर्सिटी स्कूल ऑफ मेडिसिन और बक इंस्टीट्यूट फॉर रिसर्च ऑन एजिंग के वैज्ञानिकों ने किया है।

इस प्रक्रिया में वैज्ञानिकों ने एक खून से संबंधित पदार्थ के बारे में पता लगाया, जिसकी अधिकता से हृदय की उम्र तेजी से बढ़ सकती है। शोधकर्ता डेविड फुरमैन ने कहा हर साल, कैलेंडर हमें बताता है कि हम एक साल बड़े हो गए हैं। लेकिन सभी लोगों की जैविक उम्र एक समान नहीं होती है। आप इसे अस्पताल में देखते हैं, कुछ वृद्ध लोग बेहद बीमारी से ग्रस्त होते हैं, जबकि अन्य स्वस्थ होते हैं।

फुरमैन ने कहा यह अंतर, बड़े हिस्से में अलग-अलग दरों का पता लगाता है। जिस पर लोगों की प्रतिरक्षा प्रणाली में गिरावट आती है। प्रतिरक्षा प्रणाली कोशिकाओं, पदार्थों और रणनीतियों का एक संग्रह है। जो हमें माइक्रोबियल, रोग फैलाने, चोट लगने जैसे खतरों से निपटने के लिए सुरक्षा देता है। उदाहरण के लिए जब आपको उंगली में चोट लगती है, तो आपकी उंगली लाल और सूज जाती है, इसके बाद शरीर उसका तेजी से उपचार करना शुरू करता है।

जैसे-जैसे हमारी उम्र बढ़ती है, तो लगातार पूरे शरीर में एक तरह की सूजन आनी शुरू हो जाती है। इस सूजन के चलते उस अंग को नुकसान हो जाता है। शरीर कमजोर हो जाता है और लगभग हर अंग प्रणाली कैंसर सहित कई बीमारियों की चपेट में आसानी से आ जाती हैं। इसमें मनुष्य को दिल का दौरा पड़ना, आघात लगना, मस्तिष्क में न्यूरॉन्स से संबंधित गड़बड़ी और रोगों का अपने आप लगना शामिल है।

फुरमैन ने कहा आज तक लोगों के शरीर में आने वाली सूजन की स्थिति का सटीक आकलन करने के लिए कोई पैमाना नहीं बना है, जिससे ​​समस्याओं का पूर्वानुमान लगाया जा सके। इनका उपचार करने या उन्हें दूर करने के तरीकों के बारे में पता लगाया जा सके। लेकिन अब अध्ययन ने एक ऐसा पैमाना विकसित किया है जो इन सबका पता लगा सकता है।

1000 इम्यूनोम प्रोजेक्ट के लिए, 2009 और 2016 के बीच 8-96 आयु वर्ग के 1,001 स्वस्थ लोगों से रक्त के नमूने लिए गए थे। नमूनों को साइटोकिन्स नामक प्रतिरक्षा-प्रोटीन के स्तर का निर्धारण करने का विश्लेषण किया गया। कई प्रतिरक्षा की सक्रियता के जवाब में कोशिका के प्रकार और उन कोशिकाओं में से प्रत्येक में हजारों जीनों की गतिविधि की जांच की गई। यहां बताते चले कि 'इम्युनोम' जीन और प्रोटीन का समूह है जो प्रतिरक्षा प्रणाली का निर्माण करता है।

नए अध्ययन ने इन सभी आंकड़ों को एक साथ जोड़ा और इसका उपयोग कृत्रिम बुद्धिमत्ता के लिए किया गया। जिसे शोधकर्ता एक सूजन वाली घड़ी के रूप में दिखाते हैं। उन्होंने पाया, साइटोकिन्स नामक लगभग 50 प्रतिरक्षा प्रोटीन का एक समूह था। उन लोगों के स्तर, एक कठिन एल्गोरिथ्म द्वारा स्कोर उत्पन्न करने के लिए काफी थे। जिनका किसी व्यक्ति की प्रतिरक्षात्मक प्रतिक्रिया में अच्छी तरह से पता लगाया जा सकता है। उनमें उम्र बढ़ने से संबंधित विभिन्न प्रकार की बीमारियों के होने की आशंका का पता लगाया जा सकता है।

2017 में वैज्ञानिकों ने 65 वर्ष या उससे अधिक उम्र के लगभग 30 प्रतिभागियों के 1000 इम्यूनोम प्रोजेक्ट का आकलन किया। जिनका रक्त 2010 में लिया गया था। उन्होंने प्रतिभागियों की गति को एक कुर्सी से उठने और एक निश्चित दूरी तक चलने और एक प्रश्नावली के माध्यम से, उनकी क्षमता को मापा। प्रश्नावली में पूछा गया था कि क्या आप स्वतंत्र रूप से रहते हैं, क्या आप अपने आप चल सकते हैं?, क्या आपको कपड़े पहनने में मदद चाहिए? आदि। सात साल बाद कमजोरियों से संबंधी पूर्वानुमान शरीर में सूजन के बढ़ने वाली उम्र (इंफ्लेमेटरी ऐज) कालानुक्रमिक उम्र से बेहतर साबित हुई।

इसके बाद, फुरमैन और उनके सहयोगियों ने बोलोग्ना, इटली में असाधारण रूप से लंबे समय तक जीवित रहने वाले लोगों के रक्त के नमूने लिए और उन पर अध्ययन किया। 29 लोगों की शरीर में सूजन के बढ़ने वाली उम्र (इंफ्लेमेटरी ऐज) सभी को छोड़कर 18 लोगों की तुलना में 50 से 79 वर्ष के लोगों के साथ की थी। वृद्ध लोगों की इंफ्लेमेटरी ऐज वास्तविक आयु से 40 वर्ष कम थी। फुरमैन ने कहा कि इस हिसाब से एक 105 वर्षीय व्यक्ति की उम्र 25 वर्ष की थी।

मृत्यु दर पर इंफ्लेमेटरी ऐज के असर का और अधिक आकलन करने के लिए, फुरमैन की टीम ने फ्रामिंघम अध्ययन की ओर रुख किया। जो 1948 से हजारों व्यक्तियों में स्वास्थ्य परिणामों पर नज़र रख रहा है। फ्रामिंघम अध्ययन में रक्त-प्रोटीन के स्तर पर पर्याप्त आंकड़ों का अभाव था। लेकिन जीन की गतिविधि का स्तर काफी हद तक इंफ्लेमेटरी ऐज की घड़ी के साइटोकिन्स का उत्पादन करता है। शोधकर्ताओं ने फ्रामिंघम विषयों की कोशिकाओं में उन साइटोकाइन-एन्कोडिंग जीन की गतिविधि के स्तर को मापा। साइटोकिन्स के स्तर के लिए यह फ्रामिंघम प्रतिभागियों के बीच सभी तरह की मृत्यु दर से जुड़े हुए थे।  

एक प्रमुख पदार्थ जो हमारे शरीर पर असर डालता है
वैज्ञानिकों ने देखा कि एक पदार्थ जिसे सीएक्ससीएल9 के रक्त स्तर ने इंफ्लेमेटरी ऐज के स्कोर में किसी भी अन्य घड़ी की तुलना में अधिक शक्तिशाली योगदान दिया। उन्होंने पाया कि सीएक्ससीएल9 का स्तर, एक साइटोकिन्स जो कुछ प्रतिरक्षा कोशिकाओं द्वारा एक संक्रमण की जगह पर अन्य प्रतिरक्षा कोशिकाओं को आकर्षित करने के लिए स्रावित होता है। यह औसतन 60 वर्ष की आयु के बाद तेजी से बढ़ना शुरू हो जाता है।

25 से 90 वर्षीय व्यक्तियों के एक नए समूह के बीच 1000 इम्यूनोम प्रोजेक्ट से उनके सबसे अच्छे स्वास्थ्य के लिए चुना गया। जिनमें किसी भी बीमारी के कोई लक्षण नहीं थे, जांचकर्ताओं ने हृदय संबंधी कमजोरी के छोटी से छोटी चीजों के बारे में पता लगाया। धमनी के एक संवेदनशील परीक्षण का उपयोग किया गया, जो आघात (स्ट्रोक), दिल के दौरे और गुर्दे के फेल हो जाने के बढ़ते खतरे के बारे में बताता है।

सीएक्ससीएल9 को हृदय रोग होने के लिए पहचाना गया है। प्रयोगशाला में प्रयोगों की एक श्रृंखला से पता चला है कि सीएक्ससीएल9 न केवल प्रतिरक्षा कोशिकाओं द्वारा बल्कि एंडोथेलियल कोशिकाओं द्वारा स्रावित होता है। जो रक्त वाहिकाओं की दीवारों का मुख्य घटक है। शोधकर्ताओं ने दिखाया कि अधिक उम्र में एंडोथेलियल कोशिकाओं के सीएक्ससीएल 9 स्तरों में उल्लेखनीय वृद्धि के साथ जुड़ी हुई होती है। एंडोथेलियल कोशिकाओं की माइक्रो वैस्कुलर नेटवर्क बनाने, उन्हें फैलाने और सिकुड़ने की क्षमता को कम करती है।

लेकिन चूहों और मानव कोशिकाओं के ऊतक पर किए गए प्रयोगशाला प्रयोगों में, सीएक्ससीएल9 के स्तर को कम करने से युवा एंडोथेलियल-कोशिका को संचालित किया जा सकता है। यह सुझाव देते हुए कि सीएक्ससीएल9 सीधे उन कोशिकाओं को कमजोर बनाने में योगदान देता है और इसे रोकता है जो अतिसंवेदनशील व्यक्तियों के हृदय रोग के खतरे को कम करने में प्रभावी साबित हो सकता है। यह शोध नेचर एजिंग में प्रकाशित हुआ है।

फुरमैन ने कहा हमारी इंफ्लेमेटरी ऐज बढ़ने की घड़ी में तेजी से हृदय तथा रक्त वाहिकाओं संबंधी (कार्डियोवैस्कुलर) उम्र बढ़ने का पता लगाने की क्षमता है। यह संभावित ​​प्रभाव के बारे में संकेत देती है। इसकी मदद से सभी तरह की बीमारियों, विकारों का सबसे अच्छा और तेजी से इलाज किया जा सकता है।