Sign up for our weekly newsletter

कैंसर के इलाज में सहायक है शाकाहारी भोजन : अध्ययन

अध्ययन से पता चला है कि रेड मीट, अंडे कम खाने से कैंसर के इलाज में मदद मिल सकती हैं

By Dayanidhi

On: Monday 05 August 2019
 
Photo: GettyImages
Photo: GettyImages Photo: GettyImages

खुद को स्वस्थ रखने और बीमारियों से बचने के लिए खानपान में बदलाव करना आवश्यक है। कुछ ऐसी बीमारियां होती हैं, जिनमें शाकाहारी भोजन लाभकारी होता है। अध्ययन से पता चला है कि रेड मीट, अंडे कम खाने से कैंसर के इलाज में मदद मिल सकती हैं। आहार पहले ही मधुमेह और उच्च रक्तचाप जैसे रोगों के उपचार में एक महत्वपूर्ण हिस्सा माना जाता है, लेकिन नए शोध से यह पता चलता है कि हम सही आहार का चुनाव कर कैंसर जैसे रोग से भी निजात पा सकते हैं।

जर्नल नेचर में प्रकाशित अध्ययन में बताया गया है कि रेड मीट और अंडों में पाए जाने वाले अमीनो एसिड के सेवन बंद करने से कैंसर कारक ट्यूमर में वृद्धि कम होती है। अमीनो एसिड का यह प्रयोग चूहों पर किया गया था। अमेरिका के नॉर्थ कैरोलिना राज्य में ड्यूक यूनिवर्सिटी के स्कूल ऑफ मेडिसिन के एसोसिएट प्रोफेसर, शोधकर्ता जेसन लोकसेले ने कहा कि ये महत्वपूर्ण बात है, यदि हम आहार की ओर ध्यान देते हैं तो इसके साथ-साथ दवाओं का परिणाम भी सार्थक साबित होगा। 

उन्होंने बताया कि कई ऐसी स्थितियाँ हैं जहाँ कोई दवा स्वयं काम नहीं करती है, लेकिन यदि दवा को आहार के साथ जोड़ते हैं तो इसके सकारात्मक  परिणाम दिखते है। कैंसर जैसे रोग में विकिरण चिकित्सा अच्छी तरह से काम नहीं करती है, लेकिन यदि इसका आहार के साथ सही संयोजन किया जाए तो यह अच्छी तरह से काम करती है। 

यह अध्ययन अमीनो एसिड मेथियोनीन के सेवन को बंद करने पर केंद्रित है, जो एक प्रक्रिया है जिसे वन-कार्बन मेटाबोलिज्म कहते हैं, जो कैंसर  कोशिकाओं को बढ़ने में मदद करता है मेथियोनीन  प्रतिबंध पहले से ही एंटीएजिंग और वजन घटाने दोनों के साथ जुड़ा हुआ है, लेकिन कैंसर कोशिकाओं के लिए इसको महत्वपूर्ण बताया गया है, यह कैंसर के उपचार को बढ़ाने का एक कारगर तरीका भी हो सकता  है।

हांलाकि उन्होंने बताया कि अब तक यह कैंसर का परीक्षण और शोध मनुष्यों में नहीं किया गया है।“निश्चित रूप से यह कैंसर का रामबाण इलाज नहीं है। इसके उपचार के लिए अभी बहुत कुछ किया जाना बाकी है। यूके के कैंब्रिज विश्वविद्यालय में कैंसर महामारी विज्ञान के प्रोफेसर पॉल फरोहा कहते है कि - कैंसर के इलाज के लिए एक दृष्टिकोण के रूप में आहार पर रोक लगाने के बारे में कोई निष्कर्ष निकालने से पहले मानव, आहार पर अध्ययन की आवश्यकता है।

उन्होंने भविष्य में उम्मीद जताई कि जहां डॉक्टर अंततः कैंसर रोगियों को उनके उपचार में सहायता के लिए विशिष्ट आहारों का पालन करने की सलाह दे सकेंगे।