Climate Change

विलुप्ति के कगार पर पहुंची प्रजातियों की सूची लंबी हुई

प्रजातियों की विलुप्ति रोकने का लक्ष्य 2020 तक हासिल करना है, लेकिन लगातार विलुप्ति बढ़ने की बातें सामने आ रही हैं 

 
By DTE Staff
Last Updated: Friday 19 July 2019
Photo: Creative commons
Photo: Creative commons Photo: Creative commons

इंटरनेशनल यूनियन फॉर कंजरवेशन ऑफ नेचर (आईयूसीएन) की ताजा रिपोर्ट में कहा गया है कि वैश्विक स्तर की लगभग 20 फीसदी प्रजातियां लुप्त होने के कगार पर हैं। आईयूसीएन द्वारा विलुप्ति के खतरे से जूझ रही प्रजातियों की एक रेड लिस्ट जारी की जाती है। इस बार यह लिस्ट 18 जुलाई को जारी की गई है। इसमें कहा गया है कि अगर हालात नहीं सुधारे तो कई अन्य प्रजातियां विलुप्त हो सकती हैं।

आईयूसीएन की यह लिस्ट 1,05,732 प्रजातियों के आकलन के बाद तैयार की गई है। अब तक 1 लाख प्रजातियों पर ही अध्ययन किया गया था, लेकिन अब इसका दायरा बढ़ गया है। आईयूसीएन के कार्यवाहक महानिदेशक ग्रेटेल एगिलर ने कहा कि अब एक लाख से अधिक का मूल्यांकन किया गया है, इसअपडेट से पता चलता है कि दुनिया भर के मानव वन्यजीवों की तुलना में कितने अधिक हैं।

नई सूची के अनुसार 28,338 प्रजातियों के विलुप्त होने का खतरा है। जो हाल ही में जारी आईपीबीईएस ग्लोबल बायोडायवर्सिटी एसेसमेंट की हालिया रिपोर्ट के करीब है। रिपोर्ट में कहा गया है, मानव इतिहास में प्रकृति को अभूतपूर्व नुकसान हो रहा है और प्रजातियों के विलुप्त होने की दर तेज हो रही है। वैश्विक आकलन के अनुसार, लगभग 10 लाख पशु और पौधों की प्रजातियां विलुप्त होने के कगार पर है। इनमें से हजारों आने वाले दशकों के भीतर विलुप्त हो जाएंगे। 

आईयूसीएन जैव विविधता संरक्षण समूह के वैश्विक निदेशक जेन स्मार्ट ने कहा कि यह नई रेड लिस्ट इस मूल्यांकन के निष्कर्षों की पुष्टि करती है।

इस नई लिस्ट में ताजा पानी और गहरे समुद्र में रहने वाली प्रजातियों की गिरावट को खतरनाक माना गया है। उदाहरण के लिए, जापान की ताजे पानी में रहने वाली मछलियों में से 50 प्रतिशत से अधिक विलुप्त होने के कगार पर है।

आईयूसीएन की एक प्रेस विज्ञप्ति में कहा गया है कि नदियों में ताजे पानी के बहाव और कृषि क्षेत्र और शहरों में बढ़ते प्रदूषण के कारण प्रजातियां विलुप्त हो रही हैं।  

कई अलग-अलग कारणों से ताजे पानी में रहने वाली 18,000 प्रजातियां खतरे में है। महासागरीय प्रजातियों में, वेज फिश और विशालकाय गिटार मछली, जिन्हें सामूहिक रूप से राइनो किरणों के रूप में जाना जाता है, को उनके लम्बी सांसों के कारण, दुनिया में सबसे अधिक समुद्री मछली परिवारों के रूप में सूचीबद्ध किया गया है।

आईयूसीएन के मूल्यांकन में इनमें लगभग 50 फीसदी विलुप्ति का आकलन किया गया है। रिपोर्ट में कहा गया है कि इनमें से लगभग 873 पहले से ही विलुप्त हो चुके हैं जबकि 6,127 ऐसे हैं, जो विलुप्ति के कगार पर हैं।

यहां यह उल्लेखनीय है कि जैव विविधता के लिए वैश्विक रणनीतिक योजना (2011-2020) के लक्ष्य-12 के मुताबिक प्रजातियों के विलुप्त होने के सिलसिले को 2020 तक रोका जाना होगा। इसमें यह भी लक्ष्य रखा गया है कि प्रजातियों की संरक्षण स्थिति में सुधार लाया जाएगा, लेकिन इससे एक साल पहले आई यह रिपोर्ट चिंताजनक है।

Subscribe to Weekly Newsletter :

Comments are moderated and will be published only after the site moderator’s approval. Please use a genuine email ID and provide your name. Selected comments may also be used in the ‘Letters’ section of the Down To Earth print edition.