Sign up for our weekly newsletter

पुडुचेरी और तमिलनाडु के समुद्र तट पर टकराया चक्रवाती तूफान निवार

चक्रवाती तूफान निवार की रफ्तार 120-130 किलोमीटर प्रति घंटे से बढ़कर 145 किमी प्रति घंटे की रफ्तार तक हो सकती है

By DTE Staff

On: Wednesday 25 November 2020
 
Nivar: Agriculture across south India could be affected by storm surges, rains. Photo: Earth Null School


चक्रवाती तूफान निवार 25-26 नवंबर की रात पुडुचेरी और तमिलनाडु के समुद्री तट से टकराया। जब निवार ने लैंडफाल किया, उस समय हवाओं की रफ्तार 120 से 140 किलोमीटर थी, इस वजह से तटीय क्षेत्रों भारी नुकसान की खबर है। हालांकि लैंडफाल के बाद हवाओं की रफ्तार कम हो गई।

पिछले कुछ घंटों के दौरान सबसे अधिक बारिश 246 मिलीमीटर रिकॉर्ड की गई। जबकि पुडुचेरी में 237 एमएस, चेन्नई में 89, कराईकल में 86 और नागप्पत्तिनम में 63 मिलीमीटर वर्षा हुई। 

 

मौसम विज्ञान विभाग ने अनुमान लगाया था कि चक्रवात का पूर्वानुमान ट्रैक और तीव्रता इस प्रकार रहेगा

तिथि/समय(भारतीय समय के अनुसार)

स्थिति

(अक्षांश 0उत्‍तरदेशांतर 0पूर्व)

हवा की सतह पर अधिकतम गति

(किमी प्रति घंटा)

चक्रवाती बाधा की श्रेणी

25.11.20/1130

11.0/81.3

110-120 से लेकर 135

गंभीर चक्रवाती तूफान

25.11.20/1730

11.6/80.6

120-130 से लेकर145

भीषण चक्रवाती तूफान

25.11.20/2330

12.1/80.0

120-130 से लेकर145

भीषण चक्रवाती तूफान

26.11.20/0530

12.6/79.4

90-100 से लेकर110

गंभीर चक्रवाती तूफान

26.11.20/1130

13.1/79.0

55-65 से लेकर75

गहरा दबाव

27.11.20/2330

13.8/78.5

35-45 से लेकर55

 

तूफान के गुजर जाने के बाद भी रहेगा असर

इससे पहले मौसम विभाग मौसम विभाग के महानिदेशक डॉ. एम. महापात्रा कह चुके हैं कि तूफान के गुजर जाने के बाद भी लगभग 6 घंटे तक चक्रवात की तीव्रता बनी रहेगी और धीरे-धीरे इसके कमजोर होने की संभावना है। उन्होंने कहा, 26 नवंबर को इसके प्रभाव के तहत अधिकांश स्थानों/ कई जगहों पर भारी से अत्यधिक भारी स्थानों पर भारी से अत्यधिक भारी बारिश होने की संभावना है जिनमें तमिलनाडु के रानीपेट, तिरुवन्नमलाई, तिरुपत्तूर, वेल्लोर जिले, आंध्र प्रदेश के चित्तूर, कुरनूल, प्रकासम और कुडप्पा जिले तथा दक्षिण-पूर्वी तेलंगाना के इलाके शामिल हैं। उत्तर आंतरिक तमिलनाडु, दक्षिण आंध्र प्रदेश और दक्षिण-पूर्व तेलंगाना के शेष जिलों में संभवतः अलग-अलग स्थानों पर भारी से अत्यधिक भारी बारिश होने की संभावना है।

तमिलनाडु के आंतरिक जिलों (रानीपेट, तिरुवन्नमलाई, तिरुपत्तूर, वेल्लोर) और आंध्र प्रदेश के चित्तूर जिले में 26- नवंबर को सुबह से शाम तक चलने वाली हवाओं की रफ्तार 65-75 किमी प्रति घंटे से बढ़कर 86 किलोमीटर प्रतिघंटे तक हो सकती है।

तमिलनाडु के रानीपेट, तिरुवन्नमलाई, तिरुपत्तूर, वेल्लोर जिलों और आंध्र प्रदेश के चित्तूर, कुरनूल, प्रकाशम और कुडप्पा जिलों में नुकसान की आशंका है।