चक्रवाती तूफान 'आसनी' ओडिशा तट से 510 किमी दूर, इन हिस्सों में तेज हवाओं के साथ भारी बारिश

आज 10 मई को तटीय आंध्र प्रदेश के अलग-अलग हिस्सों में भारी से बहुत भारी वर्षा होने की आशंका जताई गई है।

By Dayanidhi

On: Tuesday 10 May 2022
 
चक्रवाती तूफान 'आसनी' ओडिशा तट से 510 किमी दूर, इन हिस्सों में तेज हवाओं के साथ भारी बारिश

भारत मौसम विज्ञान विभाग (आईएमडी) के मुताबिक खतरनाक चक्रवाती तूफान ‘आसनी’ पिछले 6 घंटों के दौरान दक्षिण-पूर्व और उससे सटे पश्चिम-मध्य बंगाल की खाड़ी से 07 किमी प्रति घंटे की रफ्तार से पश्चिम-उत्तर-पश्चिम की ओर बढ़ गया है।

आज यानी 10 मई को सुबह 2:30 बजे के दौरान दक्षिण-पश्चिम बंगाल की खाड़ी से सटे  काकीनाडा (आंध्र प्रदेश) से 330 किमी दक्षिण-पूर्व में, विशाखापत्तनम (आंध्र प्रदेश) से 350 किमी दक्षिण-दक्षिण पूर्व, गोपालपुर (ओडिशा) से 510 किमी दक्षिण-दक्षिण पश्चिम और पुरी (ओडिशा) से 590 किमी दक्षिण-दक्षिण पश्चिम में केंद्रित है।

इसके आज 10 मई की रात तक लगभग उत्तर-पश्चिम की ओर बढ़ने और उत्तरी आंध्र प्रदेश तट और आसपास के ओडिशा तट से पश्चिम बंगाल की खाड़ी तक पहुंचने के आसार हैं। इसके बाद, इसके उत्तर, उत्तर-पूर्व की ओर मुड़ने और उत्तर आंध्र प्रदेश और ओडिशा के तटों से दूर बंगाल की उत्तर-पश्चिमी खाड़ी की ओर बढ़ने की आशंका जताई गई है। इसके अगले 24 घंटों के दौरान धीरे-धीरे कमजोर होकर चक्रवाती तूफान में बदलने के आसार हैं।

चक्रवाती तूफान आसनी के कारण आज 10 मई को  तटीय आंध्र प्रदेश के अलग-अलग हिस्सों में भारी से बहुत भारी वर्षा होने की आशंका जताई गई है। साथ ही इन्हीं इलाकों के कुछ हिस्सों में हल्की से मध्यम वर्षा होने का अनुमान है और आज शाम से तटीय ओडिशा के अलग-अलग हिस्सों में मूसलाधार बारिश होने के आसार हैं।

11 मई को उत्तर तटीय आंध्र प्रदेश के कुछ हिस्सों में हल्की से मध्यम वर्षा के साथ कुछ इलाकों में भारी से बहुत भारी वर्षा हो सकती है। तटीय ओडिशा और आसपास के तटीय पश्चिम बंगाल के अलग-अलग हिस्सों में भी भारी वर्षा होने की आशंका जताई गई है।

12 मई को ओडिशा और पश्चिम बंगाल के तटीय इलाकों के कुछ हिस्सों में हल्की से मध्यम बारिश होने का अनुमान लगाया गया है, वहीं इन्हीं इलाकों के अलग-अलग हिस्सों में भारी बारिश के आसार हैं।

आज 10 मई को पश्चिम मध्य और उससे सटे दक्षिण-पश्चिम बंगाल की खाड़ी में 95 से 105 किमी प्रति घंटे की रफ्तार से चलने वाली तेज हवाओं के और तेज होकर 115 किमी प्रति घंटे की रफ्तार में तब्दील होने की आशंका जताई गई है।

शाम से पश्चिम-मध्य और इससे सटे उत्तर-पश्चिम बंगाल की खाड़ी में 80 से 90 किमी प्रति घंटे की दर से चलने वाली हवाओं की गति घटकर 100 किमी प्रति घंटे हो जाएगी। उत्तर आंध्र प्रदेश तट के साथ और उसके बाहर तेज हवाओं की गति 40 से 50 किमी प्रति घंटे से 60 किमी प्रति घंटे तक पहुंचने के आसार हैं।

Source : IMD

11 मई को सुबह से पश्चिम मध्य और इससे सटे उत्तर-पश्चिम बंगाल की खाड़ी में 70 से 80 किमी प्रति घंटे की रफ्तार से चलने वाली तेज हवाओं के 90 किमी प्रति घंटे की रफ्तार में तब्दील होने की आशंका है। शाम से हवाओं की रफ्तार धीरे-धीरे घटकर 60 से 70 किमी प्रति घंटे होगी और उसके बाद हवाओं की रफ्तार फिर से बढ़कर 80 किमी प्रति घंटे हो जाएगी। उत्तर आंध्र प्रदेश और ओडिशा तटों पर 40 से 50 किमी प्रति घंटे की रफ्तार से चलने वाली तेज हवाओं के 60 किमी प्रति घंटे की रफ्तार में तब्दील होने का अनुमान है।

12 मई को बंगाल की खाड़ी के उत्तर-पश्चिम में 50 से 60 किमी प्रति घंटे की रफ्तार से चलने वाली हवाओं के और तेज होकर 70 किमी प्रति घंटे की रफ्तार में तब्दील होने के आसार हैं। हवाओं के धीरे-धीरे कम होकर दोपहर तक 60 किमी प्रति घंटे की रफ्तार से 40 से 50 किमी प्रति घंटा हो जाएगी।

ओडिशा और पश्चिम बंगाल के तटों पर 40 से 50 किमी प्रति घंटे की रफ्तार से चलने वाली हवाओं के और तेज होकर 60 किमी प्रति घंटे की गति तक पहुंचने की आशंका है।

मछुआरों को समुद्र से दूर रहने की चेतावनी

मौसम विभाग ने कहा है  कि 10 से 11 मई के दौरान पश्चिम मध्य और उससे सटे बंगाल की खाड़ी में और 10 से 12 मई तक बंगाल की खाड़ी के उत्तर-पश्चिम में मछली पकड़ने तथा किसी तरह के व्यापार से संबंधित काम के लिए न जाएं।

वहीं 10 और 11 मई के दौरान पश्चिम-मध्य बंगाल की खाड़ी में और 10 से 12 मई के दौरान बंगाल की उत्तर-पश्चिमी खाड़ी में मछुआरों को न जाने की सलाह दी गई है। साथ ही मौसम विभाग ने जो भी समुद्र में मछली पकड़ने गए हैं उन्हें तट पर लौटने की सलाह दी है।

Subscribe to our daily hindi newsletter