जुड़वा चक्रवात: 'आसनी' के साथ-साथ सक्रिय हुआ 'करीम'

जुड़वां उष्णकटिबंधीय चक्रवात लगभग एक ही देशांतर पर घूमते हैं लेकिन इनकी दिशाएं विपरीत होती हैं

By DTE Staff

On: Tuesday 10 May 2022
 

चक्रवात आसनी भारत के पूर्वी तट के लिए खतरा नहीं है, लेकिन एक अनूठी घटना सामने आई है, जुड़वां चक्रवात हिंद महासागर में भूमध्य रेखा के दक्षिण में दक्षिणावर्त चल रहा है, क्योंकि आसनी घड़ी की विपरीत दिशा में घूमता है।

द वेदर चैनल के मुताबिक चक्रवात करीम 8 मई, 2022 को दक्षिणी हिंद महासागर के ऊपर उभरा, मौसम संबंधी यह गतिविधि तब सामने आई जैसे ही आसनी ने अंडमान सागर के ऊपर सक्रिय होकर हलचल मचाना शुरू किया।

करीम 112 किमी प्रति घंटे की रफ्तार से चलने वाली तेज हवाओं के साथ दूसरी श्रेणी के तूफान के रूप में वर्गीकृत किया गया है। वेदर चैनल ने कहा कि असानी बंगाल की खाड़ी के ऊपर एक खतरनाक चक्रवाती तूफान के रूप में बना हुआ है, जिसकी हवा की गति 100 से 110 किमी प्रति घंटे से लेकर 120 किमी प्रति घंटे तक है।

इसमें यह भी गौर किया गया कि विपरीत दिशाओं में घूमने वाले जुड़वां उष्णकटिबंधीय चक्रवात नए नहीं हैं। उदाहरण के लिए, चक्रवात फेन 2019 में बंगाल की खाड़ी के ऊपर बना था, जबकि उष्णकटिबंधीय चक्रवात लोर्ना दक्षिणी हिंद महासागर के ऊपर बना था।

इसमें कहा गया है कि जुड़वां उष्णकटिबंधीय चक्रवात लगभग एक ही देशांतर पर लेकिन विपरीत दिशाओं में घूमते हैं।

वेदर चैनल की वेबसाइट में दी गई जानकारी के मुताबिक चक्रवात पश्चिमी प्रशांत महासागर में भी आम हैं, लेकिन पूर्वी प्रशांत या अटलांटिक बेसिन में नहीं होते हैं क्योंकि उष्णकटिबंधीय चक्रवात वहां भूमध्य रेखा के दक्षिण में निचले अक्षांशों में नहीं होते हैं।

वेदर चैनल ने आगे कहा कि जब ऐसे जुड़वां तूफान एक-दूसरे के करीब होते हैं, यानी 1,000 किमी के भीतर, वे एक-दूसरे को प्रभावित भी करते हैं।

दी गई जानकारी के मुताबिक आसनी और करीम के एक दूसरे को प्रभावित करने की संभावना नहीं थी क्योंकि उनके बीच की दूरी 2,800 किमी से अधिक थी ।

यूनाइटेड स्टेट्स नेशनल एरोनॉटिक्स एंड स्पेस एडमिनिस्ट्रेशन ने कहा कि दो चक्रवात भूमध्य रेखा के उत्तर और दक्षिण में विपरीत दिशाओं में घूम रहे हैं। इसी तरह की घटना अप्रैल / मई 2019 से चक्रवात फानी और चक्रवात लोर्ना के साथ दिखाई दी थी।

चक्रवात की उत्पत्ति अक्सर ग्रहों की तरंगों के साथ मेल खाती है जो भूमध्य रेखा के उत्तर और दक्षिण में घूमती हैं। आम तौर पर, चक्रवातों को एक घूर्णी कारक की आवश्यकता होती है। महासागर गर्मी और नमी प्रदान कर सकते हैं। वातावरण उपयुक्त हवा की स्थिति प्रदान कर सकता है। ये तरंगें ही घूर्णन को गति प्रदान करती हैं। यदि अन्य स्थितियां उपयुक्त हैं, तो एक चक्रवात बन सकता है। इन तरंगों को रॉस्बी तरंगें कहा जाता है, इस बात की जानकारी पुणे के भारतीय उष्णकटिबंधीय मौसम विज्ञान संस्थान के जलवायु वैज्ञानिक रॉक्सी मैथ्यू कोल ने डाउन टू अर्थ को दी।

Subscribe to our daily hindi newsletter