Science & Technology

मोबाइल, लैपटॉप की बैटरी बनाने वाले वैज्ञानिकों को मिला नोबेल

तीन वैज्ञानिकों को लीथियम बैटरी का अविष्कार करने के लिए नोबेल का कैमेस्ट्री का नोबेल पुरस्कार दिया गया है 

 
By DTE Staff
Last Updated: Wednesday 09 October 2019
John B Goodenough, M Stanley Whittingham and Akira Yoshino won the Chemistry Nobel Prize 2019. Photo: Nobel Media
John B Goodenough, M Stanley Whittingham and Akira Yoshino won the Chemistry Nobel Prize 2019. Photo: Nobel Media  John B Goodenough, M Stanley Whittingham and Akira Yoshino won the Chemistry Nobel Prize 2019. Photo: Nobel Media

बुधवार को साल 2019 का रसायन विज्ञान का नोबेल पुरस्कार की घोषणा की गई। यह पुरस्कार जॉन बी गुडइनफ, एम स्टैनली विटंगम और अकीरा योशिनो को दिया गया है। इन वैज्ञानिकों को लीथियम बैटरी का अविष्कार करने के लिए यह पुरस्कार दिया गया है।

जॉन गुडइनफ अमेरिका से हैं। इसके अलावा विटंगम स्टैनली इंग्लिश अमेरिकन केमिस्ट हैं और अभी बिंगम्टन यूनिवर्सिटी में प्रोफेसर हैं। जबकि अकारी योशिनो जापान से हैं।

निर्णायक मंडल द्वारा जारी घोषणा में कहा गया है कि इन हल्की और रिचार्ज हो सकने वाली और शक्तिशाली बैटरियों का इस्तेमाल लैपटॉप, मोबाइल फोन, टैब, इलेक्ट्रिकल वाहनों में हो रहा है और ये सौर या पवन ऊर्जा से रिचार्ज की जा सकती हैं। इससे पेट्रोल डीजल जैसे जीवाश्म ईंधन से मुक्त समाज की ओर बढ़ना संभव हो रहा है।

इससे पहले मंगलवार को फिजिक्स के नोबेल पुरस्कार की घोषणा की गई थी। यह पुरस्कार भी तीन वैज्ञानिकों को दिया गया था। इसमें अमेरिकी वैज्ञानिक जेम्स पीबल्स, स्विटजरलैंड के वैज्ञानिक माइकल मेयर और डिडियर क्लोजोव शामिल हैं। जेम्स को कॉस्मोलॉजी के सिद्धांत की खोज के लिए और अन्य दो को यह पुरस्कार सूरज जैसे तारे के अक्जोप्लेलेट ऑबिटिंग से संबंधित खोज के लिए दिया गया।

Subscribe to Weekly Newsletter :

Comments are moderated and will be published only after the site moderator’s approval. Please use a genuine email ID and provide your name. Selected comments may also be used in the ‘Letters’ section of the Down To Earth print edition.