Sign up for our weekly newsletter

फिर बिगड़ी दिल्ली की हवा, दो दिन रहेगा असर

4 नवंबर को दिन भर राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली में एयर क्वालिटी इंडेक्स काफी खराब रहा

By DTE Staff

On: Wednesday 04 November 2020
 
Delhi air slips to ‘very poor’, will deteriorate in next 2 days. Photo: Wikimedia Commons

चार नवंबर को एक बार फिर राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली की आबोहवा बिगड़ गई। केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड द्वारा जारी एयर क्वालिटी इंडेक्स काफी खराब रहा, जिसके अगले दो दिन तक जारी रहने की आशंका जताई गई है।

केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड के मुताबिक, 4 नवंबर को दिल्ली का एयर क्वालिटी इंडेक्स 343 रहा। दिन भर हवा न चलने और स्थानीय प्रदूषण स्त्रोतों की वजह से यह स्थिति बनी।

बोर्ड की रिपोर्ट के मुताबिक, दिल्ली के जहांगीरपुरी, बवाना, नरेला, रोहिणी और वज़ीरपुर जैसे क्षेत्रों में एयर क्वालिटी इंडेक्स पहले से ही 'गंभीर' श्रेणी में था। बुधवार को हवा की गति तीन से पांच किलोमीटर प्रति घंटा से अधिक न होने के कारण स्थिति और बिगड़ गई।

4 नवंबर को पीएम 2.5 की सघनता में पंजाब और हरियाणा की ओर से आने वाले पराली के धुएं की मात्रा लगभग पांच फीसदी रही।

गौरतलब है कि 0-50 के बीच एक एयर क्वालिटी इंडेक्स को 'अच्छा', 51-100 'संतोषजनक', 101-200 'मध्यम', 201-300 'गरीब', 301-400 'बहुत गरीब' और 401-500 'गंभीर' माना जाता है। 500 से ऊपर-गंभीर-प्लस या आपातकालीन 'श्रेणी में रखा गया है।

सोमवार यानी 2 नवंबर को दिल्ली का एयर क्वालिटी इंडेक्स् 293 था, जबकि मंगलवार को 302 दर्ज किया गया था।

केंद्रीय पृथ्वी विज्ञान मंत्रालय के सिस्टम ऑफ एयर क्वालिटी एंड वेदर फोरकास्टिंग एंड रिसर्च (सफर) के अनुसार, अगले दो दिन में एयर क्वालिटी इंडेक्स बहुत खराब की श्रेणी में पहुंच सकता है।

गौरतलब है कि इन दिनों दिल्ली-एनसीआर में बढ़ता वायु प्रदूषण एक बड़ा चुनौती बना हुआ है। बल्कि इस मुद्दे को सरकार ने इस बार नया मोड़ दे दिया है। सरकार ने वायु प्रदूषण प्रबंधन के लिए एक नया कमीशन का गठन किया है। इसके लिए 28 अक्टूबर को द कमीशन फॉर एयर क्वालिटी मैनेजमेंट इन नेशनल कैपिटल रीजन एंड एडज्वाइनिंग एरियाज ऑर्डिनेंस 2020 जारी किया गया। 

हालांकि इसके बाद से ही यह सवाल उठ रहे हैं कि क्या आयोग बनाने से दिल्ली की हवा की गुणवत्ता में सुधार किया जा सकता है या पहले से पहले लागू नियमों की पालना करने से वायु प्रदूषण को कम किया जा सकता है।