Sign up for our weekly newsletter

बेरुत में भयंकर विस्फोट करने वाले रसायन के बारे में जानें सब कुछ

2015 में तियानजिन (चीन) विस्फोट में हुआ था, जिसमें 173 लोग रसायन के जलने के कारण मारे गए थे

By Gabriel da Silva

On: Thursday 06 August 2020
 
beirut blast
लेबनान की राजधानी बेरुत में हादसे का दृश्य। फोटो: twitter: @Malik52049441
लेबनान की राजधानी बेरुत में हादसे का दृश्य। फोटो: twitter: @Malik52049441

 

लेबनान की राजधानी बेरूत में मंगलवार की शाम हुए एक जबरदस्त विस्फोट में लगभग 78 लोग मारे गए और हजारों की संख्या में घायल हो गए। इस घटना पर प्रधानमंत्री हसन दीब ने कहा कि शहर में यह भयंकर विस्फोट कार्गो पोर्ट के नजदीक लगभग 2,700 टन अमोनियम नाइट्रेट के कारण हुआ। वीडियो फुटेज में स्पष्ट रूप से दिखाई पड़ रहा है कि विस्फोट से पूर्व नजदीक में आग जल रही थी। अमोनियम नाइट्रेट का रासायनिक सूत्र एनएचफोर एनओथ्री (NH₄NO₃ ) है। यह विश्व में वृहद पैमाने पर उपयोग किए जाने वाले उर्वरकों में से यह एक है।

यह खदानों में खनन के दौरान किए जाने वाले कई प्रकार के विस्फोटकों में से एक मुख्य घटक है, जहां इसे ईंधन तेल के साथ मिलाया जाता है व विस्फोटक चार्ज के माध्यम से विस्फोट किया जाता है। यहां ध्यान देनेवाली बात है कि अमोनियम नाइट्रेट स्वयं ज्वलनशील नहीं है। यह वास्तव में ऑक्सीजन के स्रोत के रूप में कार्य करता है जो कि अन्य सामग्रियों के जलने में तेजी ला सकता है।

जलने के लिए ऑक्सीजन की मौजूदगी जरूरी है। अमोनियम नाइट्रेट की गोलियों से प्राप्त ऑक्सीजन आपूर्ति पर्यावरण के ऑक्सीजन की तुलना में बहुत अधिक होती है। यही कारण है कि यह खदानों में खनन के दौरान किए गए जाने वाले विस्फोटक में प्रभावी होता है, जहां इसे तेल और अन्य ईंधन के साथ मिलाया गया होता है। उच्च पर्याप्त तापमान पर हालांकि अमोनियम नाइट्रेट अपने आप भयंकर रूप से विघटित हो सकता है। यह प्रक्रिया वास्तव में नाइट्रोजन ऑक्साइड व जल वाष्प के साथ गैसों का निर्माण करती है। यह गैसों को तेजी से छोड़ती है और यही विस्फोट का कारण बनती है।

यदि कोई विस्फोट होता है और यदि पास में ही तेजी से आग लगी हो तो अमोनियम नाइट्रेट अपघटन को बंद किया जा सकता है। 2015 में तियानजिन (चीन) विस्फोट में हुआ था, जिसमें 173 लोग रसायन के जलने के कारण मारे गए थे और तब पूर्वी चीन के एक रसायनिक कारखाने में अमोनियम नाइट्रेट एक साथ रखा गया था। हालांकि यह स्पष्ट  नहीं हो पाया है कि बेरूत में हुए विस्फोट का वास्तव में कारण क्या था। इस घटना के जो फुटेज दिखाई पड़ते हैं उससे तो इसी बात का संकेत मिलता है कि आग लगने से पहले ही शहर के बंदरगाह क्षेत्र में आग लगी होगी।

आग की शुरूआत को और आमोनियम नाइट्रेट के विस्फोट को आपस में जोड़ना वास्तव में अपेक्षाकृत थोड़ा कठिन है। आग पर काबू पाने की जरूरत होगी और अमोनियम नाइट्रेट समान क्षेत्र में सीमित है। इसके अलावा, प्रिल खुद आग के लिए ईंधन नहीं हैं इसलिए उन्हें कुछ अन्य ज्वलनशील सामग्री के साथ पैक करने की आवश्यकता होगी।

बेरूत विस्फोट के संबंध में बताया गया है कि 2,700 टन अमोनियम नाइट्रेट बिना किसी सुरक्षा के छह साल के लिए एक गोदाम में रख दिया गया था। यह लगभग निश्चित रूप से दुखद है, जिसके कारण एक सामान्य औद्योगिक आग इस तरह के विनाशकारी विस्फोट का कारण बन गई।

अमोनियम नाइट्रेट विस्फोट से नाइट्रोजन ऑक्साइड का भारी मात्रा में उत्पादन होता है। नाइट्रोजन डाइऑक्साइड एक लाल बदबूदार गैस है। नाइट्रोजन ऑक्साइड आमतौर पर शहरी वायु प्रदूषण में मौजूद होते हैं और श्वसन प्रणाली को परेशान कर सकते हैं। बेरुत में इसका धुआं स्थानीय निवासियों के स्वास्थ्य के लिए खतरा बने रहेंगे और ये स्थानीय मौसम पर निर्भर करता है कि कितने दिन और लगेंगे।

अधिकांशत: खनन में उपयोग के लिए ऑस्ट्रेलिया में बड़ी मात्रा में अमोनियम नाइट्रेट का उत्पादन और आयात होता है। यह तरल नाइट्रिक एसिड के साथ अमोनिया गैस को मिलाकर बनाया गया है जो खुद अमोनिया से बना होता है।

अमोनियम नाइट्रेट को खतरनाक सामान के रूप में वर्गीकृत किया जाता है और इसके उपयोग के सभी पहलुओं को विनियमित किया जाता है। पिछले कई दशकों से बिना किसी खतरे के ऑस्ट्रेलिया में अमोनियम नाइट्रेट का उत्पादन, भंडारण व उपयोग किया जाता रहा है।

 

लेखक, यूनिवर्सिटी ऑफ मेलबॉर्न में केमिकल इंजीनियरिंग विभाग के सीनियर लेक्चरार हैं। यह लेख द कंवर्सेशन में प्रकाशति हुआ है, जिसे क्रिएटिव कॉमन्स लाइसेंस के तहत पुन: प्रकाशित किया गया है।  मूल लेख पढ़ें.