समुद्र के सतही पानी में तीन गुना से अधिक बढ़ा पारा: अध्ययन

समुद्र में पारा अत्यधिक जहरीले मिथाइलमर्करी के रूप में मछलियों में जमा हो जाता है। इंसानों द्वारा इन मछलियों का सेवन करने पर यह बच्चों में मस्तिष्क के विकास, वयस्कों में हृदय रोगों को पैदा कर सकता है।

By Dayanidhi

On: Thursday 30 September 2021
 
समुद्र के सतही पानी में तीन गुना से अधिक बढ़ा पारा: अध्ययन
फोटो : विकिमीडिया कॉमन्स फोटो : विकिमीडिया कॉमन्स

दुनिया भर में उद्योगों द्वारा वायुमंडल में छोड़ा गया पारा समुद्र में प्रवेश करता है। वायुमंडल में अकार्बनिक पारा (एचजी) का मानवजनित उत्सर्जन प्राकृतिक उत्सर्जन से पांच से दस गुना अधिक है। इस तरह सतही समुद्र के पानी में अकार्बनिक पारे (एचजी) की मात्रा तीन गुना से अधिक बढ़ गई है।

समुद्र में जरूरत से ज्यादा मछली पकड़ने और जलवायु परिवर्तन ने मछलियों में मोनो मिथाइल पारा (एमएमएचजी) के स्तर को बढ़ाने में अहम भूमिका निभाई है। अध्ययनकर्ताओं ने कहा कि भविष्य में पारे से इंसानों पर होने वाले खतरों का आकलन करने के लिए विस्तृत मॉडल की आवश्यकता है।   

अब बेसल विश्वविद्यालय के एक विश्लेषण के द्वारा पता लगाया गया है कि हानिकारक पदार्थ सबसे पहले समुद्र के पानी में किस तरह प्रवेश करते हैं। पहले माना गया था कि वातावरण में जारी पारा मुख्य रूप से वर्षा के माध्यम से समुद्र में प्रवेश कर रहा है, पर ऐसा नहीं है, बल्कि इसमें गैसों में बदलाव भी शामिल है। इसलिए पारा उत्सर्जन को कम करने के लिए किए जा रहे उपाय पहले की तुलना में तेजी से असरदार हो सकते हैं।

कोयले से चलने वाले बिजलीघरों और खनन गतिविधियों से हर साल 2,000 मीट्रिक टन गैसीय पारा वायुमंडल में मिल जाता है। यह हानिकारक पदार्थ तब विभिन्न रासायनिक रूपों को अपनाता है क्योंकि यह एक जटिल चक्र में हवा, मिट्टी और पानी के बीच घूमता है।

पारा समुद्र में खाद्य श्रृंखला में मिल जाता है। यह समुद्र के लिए बहुत खतरनाक है, जहां यह अत्यधिक जहरीले मिथाइलमर्करी के रूप में मछलियों में जमा हो जाता है। जब इंसान मछली का सेवन करते हैं तो यह शरीर में प्रवेश करता है। यह बच्चों में मस्तिष्क के विकास पर प्रतिकूल प्रभाव डाल सकता है और वयस्कों में हृदय रोगों को पैदा कर सकता है।  

बेसल विश्वविद्यालय में पर्यावरण विज्ञान विभाग के बायोकेमिस्ट मार्टिन जिस्क्रा कहते हैं कि यह अनुमान लगाया गया है कि औद्योगीकरण की शुरुआत के बाद से मानव गतिविधियों ने सतही महासागर में पारे की मात्रा को तीन गुना बढ़ा दिया है। पहले विशेषज्ञों का मानना था कि पारा मुख्य रूप से वर्षा के माध्यम से समुद्र में प्रवेश करता है। वे सिर्फ धारणाएं हैं, हालांकि, समुद्र के ऊपर वर्षा के लिए पारा जमा करने वाला कोई स्टेशन नहीं हैं।

केमिकल फिंगरप्रिंट से लगा पारे का पता

जैसा कि नेचर पत्रिका में प्रकाशित एक अध्ययन में बताया गया है अध्ययनकर्ता ने एक नई विधि का उपयोग करके समुद्री जल के नमूनों का विश्लेषण किया है। यह इस बात का पता लगाने में मदद करता है कि पारा वर्षा से उत्पन्न होता है या गैस में बदलाव के माध्यम से समुद्र में प्रवेश करता है।

फिंगरप्रिंटिंग के रूप में जाने जानी वाली यह तकनीक प्राकृतिक रूप से पाए जाने वाले पारा परमाणुओं के बीच छोटे वजन के अंतर को मापने पर आधारित है, जिसे आइसोटोप के रूप में जाना जाता है। अध्ययनकर्ताओं ने ऐक्स-मार्सिले विश्वविद्यालय, पॉल सबाटियर यूनिवर्सिटी  यूनिवर्सिटी  टूलूज़  और फ्रांसीसी नेशनल सेंटर फॉर साइंटिफिक रिसर्च (सीएनआरएस) के सहयोगियों के सहयोग से इस जानकारी के अंतर को पाट दिया है।

अध्ययनकर्ता जिस्क्रा ने बताया कि नमूने एकत्र करने के लिए, उन्होंने भूमध्य सागर पर कई बार नाव से यात्राएं कीं, जहां उनके द्वारा मार्सिले के तट से 1,400 मीटर तक की गहराई पर 20 लीटर पानी के नमूनों की एक श्रृंखला एकत्र की गई। उत्तरी अटलांटिक में शोध के लिए जहाजों द्वारा एकत्र किए गए नमूनों से अतिरिक्त आंकड़े लिए गए थे।

पारे के चक्र पर बेहतर समझ बनाना

विश्लेषणों से पता चला है कि पिछली धारणाओं के विपरीत समुद्र में केवल आधा पारा वर्षा से उत्पन्न होता है, जबकि दूसरा आधा गैसीय पारा के तेज होने के कारण महासागरों में प्रवेश करता है। जिस्क्रा कहते हैं वर्तमान में, वर्षा के कारण योगदान को कम करके आंका जाता है। इसके बजाय, उन्हें संदेह है कि पौधों द्वारा भारी मात्रा में पारे को जमीन में जमा करने के लिए प्रेरित करता है, जहां इसे मिट्टी में सुरक्षित रूप से अनुक्रमित किया जाता है जिससे इंसानों के लिए इससे खतरा कम होता है।

जिस्क्रा कहते हैं कि 2013 के मिनामाता कन्वेंशन के कार्यान्वयन के नए निष्कर्ष भी महत्वपूर्ण हैं, जिसमें 133 देशों ने पारे के उत्सर्जन को कम करने के लिए प्रतिबद्धता जताई थी। यदि वर्षा के माध्यम से समुद्र में कम पारा प्रवेश करता है, तो उत्सर्जन में कमी से समुद्री जल में पारा का स्तर उम्मीद से ज्यादा तेज गिर सकता है।