Sign up for our weekly newsletter

नई तकनीक से 20 मिनट में लग जाएगा एंटी-वायरस एंटीबॉडी का पता

शोधकर्ताओं ने 20 मिनट के भीतर रक्त सीरम में एंटी-एवियन इन्फ्लूएंजा वायरस एंटीबॉडी का पता लगाने का दावा किया है

By Dayanidhi

On: Wednesday 27 May 2020
 
Photo: rawpixel
Photo: rawpixel Photo: rawpixel

शोधकर्ताओं ने 20 मिनट के भीतर रक्त सीरम में एंटी-एवियन इन्फ्लूएंजा वायरस एंटीबॉडी का पता लगाने का दावा किया है। उन्होंने एक पोर्टेबल विश्लेषक (एनालाइजर) विकसित किया है, जिसका उपयोग करके तेजी से जैव परीक्षण किए जा सकते हैं। यदि इसके अभिकर्मक (रीएजन्ट) में सुधार कर इसे विकसित किया जाय, तो इस तकनीक का उपयोग कोविड-19 के वायरस सार्स-सीओवी-2 के खिलाफ एंटीबॉडी का पता लगाने के लिए किया जा सकता है।

एवियन इन्फ्लूएंजा एक पक्षियों, मुर्गियों को होने वाली बीमारी है, जो इन्फ्लूएंजा वायरस के संक्रमण के कारण होती है। इस संक्रमण की निरंतर निगरानी, तेजी से प्रारंभिक उपचार, एवियन इन्फ्लूएंजा वायरस जैसे अत्यधिक संक्रामक रोग से होने वाले नुकसान को कम करने के लिए आवश्यक है। यह शोध सेंसर एंड एक्चुएटर बी : केमिकल नामक पत्रिका में प्रकाशित हुआ है।

आमतौर पर, पोलीमरेज़ चेन रिएक्शन (पीसीआर) विधि का उपयोग करके संक्रमित जीनोम का पता लगाया जाते है, लेकिन इस जटिल प्रक्रिया के लिए काफी समय की आवश्यकता होती है। एक अन्य विधि से वायरस के संक्रमण के कारण शरीर में उत्पादित एंटीबॉडी का पता लगाना शामिल है। हालांकि, व्यापक रूप से उपयोग किए जाने वाले एंटीबॉडी का पता लगाने के तरीके गलत हो सकते हैं, क्योंकि एंटीबॉडी का अस्तित्व आमतौर पर आंखों से देखकर निर्धारित होता है।

होइकिदो विश्वविद्यालय के ग्रेजुएट स्कूल ऑफ केमिकल साइंस एंड इंजीनियरिंग में डॉक्टरेट के छात्र कीन निशिआमा, विश्वविद्यालय  संकाय के प्रोफेसर मनाबू टोकेशी ने एक नया विश्लेषक (एनालाइजर) विकसित किया है। यह तेजी से, सुव्यवस्थित और चयनात्मक तरीके से एंटीबॉडीज की पहचान करने में सक्षम है। यह विधि पारंपरिक प्रतिदीप्ति ध्रुवीकरण इम्यूनोएसे (एफपीआईए) पर आधारित है, विश्लेषक को बहुत छोटा और पोर्टेबल बनाने के लिए इसमें अलग से एक माप तंत्र लगया गया है। इस विश्लेषक का वजन केवल 5.5 किलोग्राम है।

इसमें लिक्विड क्रिस्टल अणुओं का उपयोग किया गया है, एक इमेज सेंसर और माइक्रोफ्लुइडिक डिवाइस से एक साथ इससे कई नमूनों की जांच करना संभव है।

टीम ने एंटी-एच 5 एवियन इन्फ्लूएंजा वायरस एंटीबॉडी का पता लगाने के लिए एक अभिकर्मक (रीएजन्ट) भी विकसित किया, एक फ्लोरोसेंट-लेबल प्रोटीन जो केवल एंटीबॉडी के साथ बंध जाता है। अभिकर्मक (रीएजन्ट) हेमग्लगुटिनिन (एचए) प्रोटीन के टुकड़ों को पुन: उत्पन्न करके बनाया गया था, जो एच 5 एवियन इन्फ्लूएंजा वायरस की सतह पर प्रकट हो जाते हैं।

माप बनाने के लिए, पक्षियों से एकत्रित सीरम को अभिकर्मक (रीएजन्ट) के साथ मिलाया गया और 15 मिनट के लिए छोड़ दिया गया।

मिश्रण को माइक्रोफ़्लुइड डिवाइस में डाला गया था और पोर्टेबल प्रतिदीप्ति ध्रुवीकरण विश्लेषक के साथ मापा गया था। एंटीबॉडी के साथ बंधे अभिकर्मक (रीएजन्ट) के आणविक गति तरल में कम होती है। यह प्रणाली एंटी-एच 5 एवियन इन्फ्लूएंजा वायरस एंटीबॉडी का केवल 2 माइक्रोल सीरम नमूने से 20 मिनट के भीतर पता लगा सकती है।

टोकसी कहते हैं, यदि उपयुक्त अभिकर्मकों (रीएजन्ट) का विकास किया जाता है, तो हमारे विश्लेषक (एनालाइजर)  का अन्य जैव परीक्षण करने के लिए इस्तेमाल किया जा सकता है। समूह ने पहले से ही मायकोटॉक्सिन और ड्रग का सफलतापूर्वक पता लगाया है। विश्लेषक में कुछ सुधार करने पर इसका उपयोग एंटी-कोरोनावायरस एंटीबॉडी का पता लगाने के लिए भी किया जा सकता है।