Sign up for our weekly newsletter

वैज्ञानिकों ने बनाया कार्बन डाइऑक्साइड से विमान का ईंधन

शोधकर्ताओं की एक टीम ने कार्बन डाइऑक्साइड का उपयोग करके जेट ईंधन का उत्पादन करने का एक तरीका विकसित किया है।

By Dayanidhi

On: Wednesday 30 December 2020
 
Scientists made aircraft fuel with carbon dioxide
Photo : Wikimedia Commons Photo : Wikimedia Commons

जलवायु परिवर्तन को लेकर बढ़ती चिंताओं के बीच यह एक आशाजनक खबर है, जिसमें विमान के ईंधन बनाने के लिए कार्बन डाइऑक्साइड का उपयोग या इसे बदलकर किया जा सकता है। विमान के ईंधन की खोज में यह विशेष रूप टिकाऊ और नवीकरणीय का सही मेल है।

यूके और सऊदी अरब में कई संस्थानों से जुड़े शोधकर्ताओं की एक टीम ने कार्बन डाइऑक्साइड का उपयोग करके जेट ईंधन का उत्पादन करने का एक तरीका विकसित किया है। नेचर कम्युनिकेशंस नामक पत्रिका में प्रकाशित पेपर में इसके बारे में वर्णन किया गया है।

वैज्ञानिकों ने वातावरण में उत्सर्जित होने वाली कार्बन डाइऑक्साइड की मात्रा को कम करने के तरीकों की तलाश जारी रखी है। उन्होंने कुछ व्यावसायिक क्षेत्रों पर ध्यान केंद्रित किया है। उन क्षेत्रों में से एक विमानन उद्योग है, जहां परिवहन से संबंधित कार्बन डाइऑक्साइड का उत्सर्जन  लगभग 12 फीसदी है।

विमान के अंदर भारी-भरकम बैटरी फिट करने की कठिनाई के कारण अभी तक विमानन उद्योग में कार्बन उत्सर्जन पर अंकुश लगाना चुनौतीपूर्ण साबित हुआ है। इस नए प्रयास में, शोधकर्ताओं ने एक रासायनिक प्रक्रिया विकसित की है जिसका उपयोग बिना कार्बन के जेट ईंधन का उत्पादन करने के लिए किया जा सकता है।

शोधकर्ताओं ने हवा में कार्बन डाइऑक्साइड को जेट ईंधन और अन्य उत्पादों में परिवर्तित करने के लिए जैविक दहन (आर्गेनिक कम्बस्चन) विधि नामक एक प्रक्रिया का उपयोग किया। इसमें हाइड्रोजन, साइट्रिक एसिड और कार्बन डाइऑक्साइड के साथ 350 डिग्री सेल्सियस तक गर्म होने के साथ एक लोहे के उत्प्रेरक जिसमें अतिरिक्त पोटेशियम और मैंगनीज का उपयोग करना शामिल था। इस प्रक्रिया ने कार्बन के परमाणुओं के अलावा सीओ 2 अणुओं में ऑक्सीजन परमाणुओं को मजबूर किया, जो तब हाइड्रोजन परमाणुओं के साथ बंधे थे, जिससे तरल जेट ईंधन वाले हाइड्रोकार्बन अणुओं का उत्पादन हुआ। इस प्रक्रिया में पानी के अणु और अन्य उत्पादों का निर्माण भी हुआ।

परीक्षण से पता चला कि 20 घंटे की प्रक्रिया के दौरान 38 फीसदी कार्बन डाइऑक्साइड को एक दबाव कक्ष में जेट ईंधन और अन्य उत्पादों में बदल दिया। जेट ईंधन से बने अन्य उत्पादों का 48 फीसदी हिस्सा बना जिसमें पानी, प्रोपलीन और एथिलीन शामिल थे। शोधकर्ता इस बात पर भी ध्यान देते हैं कि विमान में इस ईंधन का उपयोग बिना कार्बन के होगा क्योंकि इसे जलाने से कार्बन डाइऑक्साइड की समान मात्रा जारी होगी जो इसे बनाने के लिए इस्तेमाल की गई थी।

शोधकर्ताओं ने यह भी दावा किया हैं कि उनकी प्रक्रिया हवाई जहाज के लिए ईंधन का उत्पादन करने के लिए इस्तेमाल की जाने वाली अन्य विधियों की तुलना में कम खर्चीली है, जैसे कि हाइड्रोजन और पानी को ईंधन में बदलना। मुख्य रूप से क्योंकि यह कम बिजली का उपयोग करता है। वे यह भी बताते हैं कि रूपांतरण प्रणाली उन संयंत्रों में स्थापित की जा सकती है जो वर्तमान में बहुत अधिक कार्बन डाइऑक्साइड का उत्सर्जन करते हैं, जैसे कि कोयले से चलने वाला बिजली संयंत्र आदि।