Sign up for our weekly newsletter

एन-95 मास्क को कीटाणुरहित कर देगा यह डिवाइस, दस बार कर सकेंगे इस्तेमाल

आईआईटी दिल्ली-इनक्यूबेटेड स्टार्टअप 'चक्र इनोवेशन' ने ऐसा डिवाइस बनाया है, जो एन-95 मास्क को दस बार इस्तेमाल करने लायक बना देगा

By DTE Staff

On: Friday 10 July 2020
 
फोटो : आईआईटी, दिल्ली
फोटो : आईआईटी, दिल्ली फोटो : आईआईटी, दिल्ली

कोरोनोवायरस के खिलाफ लड़ने के लिए स्वास्थ्य कार्यकर्ताओं द्वारा एन 95 मास्क पर उच्च निर्भरता का एहसास करते हुए आईएएन-फंड समर्थित आईआईटी दिल्ली-इनक्यूबेटेड क्लीनटेक स्टार्टअप चक्र इनोवेशन ने चक्र डिकोव यानी एक ओजोन-बेस्ड डिकंटेमिनेटिंग (कीटाणुरहित) डिवाइस विकसित किया है। ताकि एन95 मास्क को सुरक्षा के साथ दोबारा इस्तेमाल लायक बनाया जा सके।

यह इनोवेशन यानी चक्र डिकोव एक ऐसे समय में लॉन्च किया गया है, जब देश को महामारी के खिलाफ अपनी लड़ाई को मजबूत करने के लिए इसकी सबसे अधिक आवश्यकता है। एन 95 मास्क का असुरक्षित पुन: इस्तेमाल स्वास्थ्य पेशेवरों के जीवन को खतरे में डाल सकता है। इसके अलावा, बायोमेडिकल कचरे में वृद्धि अतिरिक्त संक्रमण और पर्यावरणीय जोखिम का कारण बन सकती है। इन समस्याओं को हल करने के लिए आईआईटी दिल्ली-इनक्यूबेटेड स्टार्टअप ने चक्र डिकोव के रूप में सस्ती तकनीक ईजाद की है जो सिर्फ 90 मिनटों में एन 95 मास्क को सुरक्षित व पुन: इस्तेमाल करने योग्य बनाने में मदद करता है।

एक कैबिनेट के आकार में डिजाइन चक्र डिकोव एक इनोवेटिव डिकंटेमिनेशन मैकेनिज्म के साथ बनाया गया है, जो एन95 मास्क के छिद्रों की सफाई के लिए ओजोन गैस की हाई पेनिट्रेबिलिटी का उपयोग करता है। साथ ही इसकी जटिल परतों का फुल कंटेमिनेशन सुनिश्चित करता है। ओजोन एक मजबूत ऑक्सीडाइजिंग एजेंट है जो प्रोटीन कोट के माध्यम से डिफ्यूज होता है और वायरस को नष्ट करता है। इसके परिणामस्वरूप वायरल आरएनए को नुकसान पहुंचता है।

ओजोन की उचित खुराक और एक्सपोज़र से सार्स कोविड-2 को निष्क्रिय किया जा सकता है और बैक्टीरिया में 99.9999% की कमी हो सकती है। इसके बाद एन95 मास्क को फिल्ट्रेशन इफिशियंसी (एसआईटीआरए द्वारा परीक्षित) पर किसी भी प्रभाव के बिना 10 बार तक फिर से इस्तेमाल किया जा सकता है। यूवी लाइट-बेस्ड डिकंटेमिनेशन के साथ आमतौर पर उपलब्ध सिस्टम में से कुछ शैडो इफेक्ट के कारण और एन-95 मास्क के छिद्रों से सीमित प्रवेश के कारण इतने प्रभावी नहीं रहते हैं।

वीपी इंजीनियरिंग के तुषार बॉथम के नेतृत्व में चक्र इनोवेशन की टीम ने आईआईटी दिल्ली में प्रोफेसरों और शोधकर्ताओं के करीबी मार्गदर्शन में इस प्रोडक्ट को विकसित किया है। आईआईटी दिल्ली के सेंटर फॉर बायोमेडिकल इंजीनियरिंग में इस टेक्नोलॉजी का परीक्षण किया गया है। सुरक्षा और विश्वसनीयता के लिए कठोर इन-हाउस परीक्षण किए हैं। वांछित सामग्री में वायरस निष्क्रियता (एन-95 मास्क सहित पारगम्य सामग्री) की प्रभावशीलता का परीक्षण आईसीएमआर-एनआईवी द्वारा किया गया है।

ओजोन की वजह से मनुष्यों को होने वाले किसी भी खतरे के खिलाफ सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए सिस्टम को बायोसेफ्टी डोर और एक कैटेलिटिक रिडक्शन सिस्टम के साथ डिज़ाइन किया गया है। वे पुणे में इस उत्पाद के लिए सफल पायलट चला रहे थे और अब अच्छी तरह से परीक्षण के बाद और विश्वसनीय उत्पाद का विनिर्माण करने के लिए तैयार हैं।  

 स्टार्टअप इस प्रोडक्ट का सफल पायलट पुणे में कर रहा है और इस बहु परीक्षित व विश्वसनीय प्रोडक्ट को अब बड़े स्तर पर लोगों तक पहुँचाने के लिए तैयार है |

चक्र इनोवेशन के सीईओ कुशाग्र श्रीवास्तव ने बताया “चक्र डिकोव एक इनोवेटिव ओजोन-बेस्ड डिकंटेमिनेशन मैकेनिज्म के साथ विकसित किया गया है, जो अस्पताल के माहौल में आवश्यकतानुसार उच्च विश्वसनीयता और सुरक्षा के साथ प्रभावी डिकंटेमिनेशन सुनिश्चित करता है। हम यह भी मानते हैं कि हमारा प्रोडक्ट नोवल कोरोनवायरस का इलाज करते समय बायोमेडिकल वेस्ट को लेकर बढ़ती चिंताओं को हल करने में मदद करेगा। हमें अपने प्रोजेक्ट के लिए आईसीआईसीआई, कोल इंडिया और मिनरल एक्सप्लोरेशन कॉर्पोरेशन लिमिटेड जैसे संगठनों से समर्थन मिला है, जिन्होंने विकास और पायलट प्रोजेक्ट के लिए फंडिंग की है। ”

आईआईटी दिल्ली के डायरेक्टर प्रो. वी. रामगोपाल राव ने कहा, "आईआईटी दिल्ली अपने तकनीकी कौशल के माध्यम से कोविड-19 समस्या का समाधान करने के लिए प्रतिबद्ध है। जब बात अस्पतालों और हमारे चिकित्सा पेशेवरों की सेवा करने की आती है, तो उच्च गुणवत्ता वाले पीपीई किट प्रदान करना बेहद आवश्यक है। साथ ही साथ, बायोसेफ्टी के दृष्टिकोण से उनका संभावित दोबारा इस्तेमाल और सुरक्षित निपटान सुनिश्चित करना आवश्यक है। इस महामारी से उत्पन्न चुनौतियों को कम करने की दिशा में चक्र इनोवेशन को काम करते हुए देखना और इस प्रोडक्ट को डेवलप करना, हमारे लिए बेहद खुशी का विषय है।”

इस पहल पर बोलते हुए, डॉ. सौरभ श्रीवास्तव, पद्मश्री अवार्डी, संस्थापक - नैसकॉम, आईवीसीए, टीआईई, आईएएन ने कहा, "यह आविष्कार चक्र इनोवेशन द्वारा अत्याधुनिक तकनीक का इस्तेमाल करते हुए अनूठा और स्थायी समाधान पेश करने के विजन का प्रमाण है।”

चक्र इनोवेशन के बारे में

चक्र इनोवेशन प्रदूषण से उत्पन्न गंभीर खतरे का मुकाबला करने के लिए इनोवेटिव, टिकाऊ उत्पादों का सूट बनाने पर फोकस है। कुशाग्र श्रीवास्तव, अर्पित धूपर और भारती सिंगला द्वारा 2016 में स्थापित यह स्टार्ट-अप अत्याधुनिक तकनीक का इस्तेमाल करते हुए डीजल जनरेटर से निकलने वाले धुएं से और प्रदूषण पैदा करने वाले कणों से काली स्याही और पेंट बनाने पर काम करता है। अपनी प्रतिबद्धता को आगे बढ़ाते हुए स्टार्ट-अप ने लोगों के स्वास्थ्य की रक्षा करने और बायोमेडिकल कचरे को कम करने के उद्देश्य से चक्र डिकोव विकसित किया है। पिछले साल, चक्र इनोवेशन ने अपनी सीरीज ए फंडिंग का दौर किया था, जिसका नेतृत्व इयान फंड ने ओएनजीसी, परम्परा कैपिटल और श्री ज्योति सागर के साथ किया था।