Health

रोजाना प्याज और लहसुन खाने से रुक सकता है स्तन कैंसर: स्टडी

शोधकर्ताओं ने कहा है कि प्याज और लहसुन का संयुक्त रूप से खाने में इस्तेमाल करने से स्तन कैंसर को बढ़ने से रोका जा सकता है 

 
By DTE Staff
Last Updated: Tuesday 24 September 2019
Photo: GettyImages
Photo: GettyImages Photo: GettyImages

रोजाना प्याज और लहसुन से बना खाना खाने से स्तन कैंसर के विकास को रोका जा सकता है। एक नए अध्ययन में यह दावा किया गया है।

बफेलो विश्वविद्यालय और प्यूर्टो रिको विश्वविद्यालय के शोधकर्ताओं द्वारा किए गए अध्ययन में कहा गया है कि जो महिलाएं लोकप्रिय लहसुन (सोफिर्टो) और प्याज से बने मसाले रोजाना एक से अधिक खाती हैं, उनमें लहसुन व प्याज न खाने वाली महिलाओं के मुकाबले स्तन कैंसर के मामलों में 67 प्रतिशत की कमी देखी गई।

लहसुन और प्याज दोनों में एंटीकार्सिनोजेनिक गुण होते हैं। लहसुन में S-allylcysteine, diallyl sulfide और diallyl disulfide, जबकि प्याज में alk (en) yl cccine sulphoxides होता है।

शोधकर्ताओं का कहना है कि इसका असर जानवरों पर भी समान रूप से देखा गया। बफेलो विश्वविद्यालय के स्कूल ऑफ पब्लिक हेल्थ एंड हेल्थ प्रोफेशन की प्रमुख लेखक और जानपदिक रोग विज्ञान की छात्रा गौरी देसाई ने कहा कि प्याज और लहसुन फ्लेवोनोल्स और ऑर्गेनोसल्फर यौगिकों से भरपूर होते हैं।

इस शोध का परिणाम न्यूट्रेशन एंड कैंसर जर्नल में प्रकाशित हुआ है। टीम ने स्तन कैंसर से पीड़ित 314 महिलाएं और प्यूर्टो रिको के नियंत्रण वाली 346 महिलाओं पर यह अध्ययन किया। शोधकर्ताओं ने कहा कि अकेले सॉफिटो ने कोई लाभ नहीं दिखाया लेकिन प्याज और लहसुन के संयुक्त सेवन से स्तन कैंसर को रोकने में मदद मिली।

इससे पहले किए गए पिछले अध्ययनों से पता चला है कि फेफड़े, प्रोस्टेट और पेट के कैंसर के जोखिम को कम करने के लिए प्याज और लहसुन फायदेमंद हैं।  विश्व भर में महिलाओं के कैंसर का सबसे आम रूप स्तन कैंसर है। वर्ल्ड कैंसर रिसर्च फंड के अनुसार, 2018 में पहचान किए गए कैंसर में सबसे अधिक मामले (25.4 प्रतिशत) स्तन कैंसर के थे।

विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) ने कहा कि स्तन कैंसर हर साल 21 लाख महिलाओं को प्रभावित कर रहा है और महिलाओं में कैंसर से संबंधित मौतों का प्रमुख कारण भी है। डब्ल्यूएचओ ने कहा कि 2018 में स्तन कैंसर से लगभग 627,000 महिलाओं की मौत हुई। जो कुल कैंसर से होने वाली मौतों के मुकाबले लगभग 15 प्रतिशत है। 

इसके अलावा रजोनिवृत्ति के बाद की महिलाओं में घातक कैंसर आम है, यह कम उम्र में भी विकसित हो सकता है। मैमोग्राफी स्क्रीनिंग, जल्दी जागना, एक स्वस्थ जीवन शैली को बनाए रखना बीमारी को खाड़ी में रखने के लिए महत्वपूर्ण हो सकता है।

Subscribe to Weekly Newsletter :

Comments are moderated and will be published only after the site moderator’s approval. Please use a genuine email ID and provide your name. Selected comments may also be used in the ‘Letters’ section of the Down To Earth print edition.