Sign up for our weekly newsletter

आइए जानते हैं लू या हीट वेव से खुद को और दूसरों को कैसे बचाएं?

लू से शिशुओं से लेकर चार साल तक के बच्चे, 65 वर्ष से अधिक उम्र के लोग, अधिक वजन वाले और दवाओं का सेवन कर रहे लोगों को खतरा अधिक रहता है

By Dayanidhi

On: Friday 02 April 2021
 

पहले भाग में हमने लू से होने वाले नुकसान के बारे में पढ़ा था, आइए अब जानते हैं कि कैसे इससे अपने आप को सुरक्षित रखा जाए!

हीट वेव या लू कब घोषित की जाती है

भारत मौसम विज्ञान विभाग (आईएमडी) के अनुसार, हीट वेव तब मानी जाती है जब मैदानी इलाकों का अधिकतम तापमान 40 डिग्री सेल्सियस तक और पहाड़ी क्षेत्रों का तापमान 30 डिग्री सेल्सियस तक पहुंच जाता है।

ताप सूचकांक क्या है?

ताप सूचकांक वायु का तापमान और इसके सापेक्ष नमी दोनो का संयोजन है, यह इस बारे में पता लगाता है कि वायु का वास्तविक तापमान के सापेक्ष नमी में कितनी गर्मी महसूस होती है।

लू लगने अथवा गर्मी से संबंधित बीमारी के सबसे अधिक खतरे में कौन है?

सेंटर्स फॉर डिजीज कंट्रोल एंड प्रिवेंशन के अनुसार, गर्मी से संबंधित बीमारी के लिए सबसे अधिक खतरे में शिशुओं से लेकर चार साल तक के बच्चे, 65 वर्ष से अधिक उम्र के लोग, अधिक वजन वाले लोग और ऐसे लोग जो बीमार हैं या दवाओं का सेवन कर रहे हैं।

लू लगने से होने वाली थकावट क्या होती है?

लू लगने से होने वाली थकावट गर्मी से संबंधित बीमारी का एक उग्र रूप है जो शरीर के उच्च तापमान और तरल पदार्थों की कमी के कई दिनों के बाद विकसित हो सकता है। लू लगने से होनी वाली थकावट के सबसे अधिक शिकार बुजुर्ग लोग होते हैं, जिन्हें उच्च रक्तचाप है और जो गर्म वातावरण में काम करते हैं या रहते हैं।

क्या दवाएं गर्मी से संबंधित बीमारी का खतरा बढ़ा सकती हैं?

निम्नलिखित दवाओं का उपयोग करने वाले लोगों में गर्मी से संबंधित बीमारी और मृत्यु का खतरा अधिक होता है:

(1) साइकोट्रोपिक्स, जो मानसिक कार्य, व्यवहार या अनुभव को प्रभावित करते हैं (जैसे कि हेलोपरिडोल या क्लोरप्रोमज़ाइन)

(2) पार्किंसंस रोग के लिए दवाएं, क्योंकि वे पसीने को रोक सकते हैं

(3) ट्रैंक्विलाइज़र जैसे फेनोथियाज़ाइन्स, ब्यूट्रोफेनोन्स और थिओज़ेंथेनेस

(4) मूत्रवर्धक दवाएं जो शरीर में द्रव संतुलन को प्रभावित करती हैं।

तापमान बहुत अधिक होने पर अपने स्वास्थ्य की रक्षा कैसे करें?

शांत रहें, पर्याप्त मात्रा में तरल पदार्थ पीएं, हल्के, उपयुक्त कपड़े पहनें और सनस्क्रीन लगाएं, बाहरी गतिविधियों की सावधानीपूर्वक योजना बना कर पूरा करें।

गर्म मौसम में मुझे कितना पानी या पेय पीना चाहिए?

गर्म मौसम के दौरान तरल पदार्थ का सेवन अधिक करें। प्यास लगने की प्रतीक्षा न करें उससे पहले पानी पीएं। गर्म वातावरण में भारी व्यायाम न करें।

आपको क्या करना चाहिए, अगर आपको लगता है कि कोई व्यक्ति लू लगने से पीड़ित है?

  • व्यक्ति को छाया के नीचे किसी ठंडी जगह पर ले जाएं
  • यदि व्यक्ति अभी भी सचेत है तो पानी या एक निर्जल पेय दें
  • व्यक्ति पर हवा करें
  • यदि व्यक्ति बेहोश है या लंबे समय तक लक्षण खराब रहते हैं तो चिकित्सक से परामर्श करें
  • शराब, कैफीन या गैस युक्त पेय दें
  • व्यक्ति के चेहरे / शरीर पर एक गीला कपड़ा डालकर ठंडा करें
  • बेहतर हवादार और ढीले कपड़े पहनें

सनबर्न के लक्षण और इसके प्राथमिक उपचार क्या हैं?

लक्षण: त्वचा की लालिमा और दर्द, सूजन, छाले, बुखार और सिरदर्द।

प्राथमिक चिकित्सा: शरीर को प्राकृतिक रूप से ठंडा होने से रोकने वाले छिद्रों को हटाने के लिए साबुन का उपयोग करके, शॉवर का उपयोग करें। 

हीट वेव की जानकारी कैसे जुटाएं, ऐसा और क्या करे कि आप पर इसका असर न पड़े?

  • रेडियो सुनें, टीवी देखें, स्थानीय मौसम के पूर्वानुमान के लिए समाचार पत्र पढ़ें ताकि पता चल सके कि लू चल रही है या चलने वाली है
  • पंखे का प्रयोग करें, कपड़ों को नम करें और ठंडे पानी में स्नान करें।
  • कार्य स्थल के पास ठंडा पेयजल उपलब्ध कराएं।
  • श्रमिकों को सीधे धूप से बचने के लिए सावधानी बरतें।
  • बाहरी गतिविधियों को विराम दें।
  • गर्भवती महिलाओं और चिकित्सा हालत वाले श्रमिकों का अतिरिक्त ध्यान दिया जाना चाहिए।