Sign up for our weekly newsletter

ग्लोबल वार्मिंग की वजह से आएंगे छोटी अवधि में और अधिक भयानक तूफान

गर्म हवा में अधिक नमी होती है, तापमान बढ़ने के साथ वर्षा की तीव्रता बढ़ जाती है

By Dayanidhi

On: Thursday 04 March 2021
 
More thunderstorms will come in short period due to global warming
Photo : Wikimedia Commons Photo : Wikimedia Commons

जलवायु विशेषज्ञों ने खुलासा किया है कि बढ़ते तापमान की वजह से भविष्य में बहुत तेज बारिश होगी, साथ ही साथ तूफानों में सबसे अधिक वृद्धि होगी। न्यूकैसल यूनिवर्सिटी के नए शोध से पता चला है कि दुनिया भर में, खासकर ब्रिटेन के कुछ क्षेत्रों में तापमान में वृद्धि से छोटी अवधि में वर्षा की तीव्रता में अत्यधिक वृद्धि देखी गई हैं, जिसके कारण गर्मियों में और भयंकर बाढ़ आ सकती है।

इन घटनाओं की संख्या सर्दियों में आने वाले तूफानों की तुलना में काफी अधिक बढ़ रही है। न्यूकैसल विश्वविद्यालय के स्कूल ऑफ इंजीनियरिंग के प्रोफेसर हेले फाउलर के नेतृत्व में किया गया यह अध्ययन, जलवायु परिवर्तन से निपटने के उपायों की तत्काल आवश्यकता पर प्रकाश डालता है। क्योंकि छोटी अवधि में होने वाली भारी वर्षा दुनिया भर में भयंकर बाढ़ और अत्यधिक वर्षा के जोखिम को बढ़ाती है।

जर्नल नेचर रिव्यूज़ अर्थ एंड एन्वायरमेंट में अपने निष्कर्षों को प्रकाशित करते हुए, अंतरराष्ट्रीय टीम ने वर्षा की चरम तीव्रता की जांच करने के लिए अवलोकन, सैद्धांतिक और मॉडलिंग अध्ययनों से आंकड़ों का विश्लेषण किया, जो इन चरम सीमाओं जिसके कारण भयंकर बाढ़ आ सकती है, उन प्रभावों के बारे में पता लगाते हैं।

वैज्ञानिकों ने पाया कि वर्षा की चरम सीमा तापमान बढ़ने के साथ तेज हो जाती है, जो आमतौर पर बढ़ते  वायुमंडलीय नमी की दर के अनुरूप होती है। हालांकि, अध्ययन से पता चला है कि कुछ क्षेत्रों में तापमान में वृद्धि अकेले वायुमंडलीय नमी में वृद्धि की तुलना में कम अवधि में भारी वर्षा को प्रभावित करती है, इस पहेली का उत्तर स्थानीय आधार पर बादलों की प्रणाली (क्लाउड सिस्टम) पर निर्भर करता है।

प्रोफ़ेसर फाउलर ने कहा हम जानते हैं कि जलवायु परिवर्तन की वजह से गर्म, शुष्क ग्रीष्मकाल और गर्म, नमी वाली सर्दियां हो सकती हैं। लेकिन, अतीत में, हमने चरम वर्षा की घटनाओं पर विस्तार से जानकारी हासिल करने के लिए संघर्ष किया है क्योंकि ये घटनाएं स्थानीय स्तर पर हो सकती हैं और यह घंटे या मिनट की बात हो सकती है।

तापमान में वृद्धि से किस तरह होती है अत्यधिक वर्षा

हमारे नए शोध से अब हम इस बारे में अधिक जानते हैं कि जलवायु परिवर्तन से वास्तव में भारी वर्षा कैसे हो सकती है। क्योंकि गर्म हवा में अधिक नमी होती है, तापमान बढ़ने के साथ वर्षा की तीव्रता बढ़ जाती है।

यह नया काम दर्शाता है कि तीव्रता में वृद्धि से छोटी और भारी घटनाएं और भी अधिक हो सकती हैं, जिसका अर्थ है कि स्थानीय आधार पर आने वाली भयंकर बाढ़ हमारे भविष्य की जलवायु की एक प्रमुख विशेषता होगी।

वर्षा की तीव्रता में परिवर्तन

विश्लेषणों से पता चलता है कि रोज (मुख्यतः प्रति घंटा) वर्षा की आवृत्ति और तीव्रता में वृद्धि होती है, उदाहरण के लिए, ऑस्ट्रेलिया, चीन के कुछ हिस्सों, दक्षिण पूर्व एशिया, यूरोप और उत्तरी अमेरिका में आंकड़ों के आधार पर ऐसा पाया गया है।

विश्व के बड़े क्षेत्रों में होने वाले परिवर्तनों को समझने के लिए आंकड़ों की कमी या उन तक पहुंच नहीं हो पाती है और आंकड़े मौजूद होने पर भी, रोज के वर्षा के आंकड़ों की गुणवत्ता-नियंत्रण जांच हमेशा सही नहीं होती है।

चरम वर्षा की घटना को समझने के लिए आंकड़ों का उपयोग

दैनिक चरम वर्षा में होने वाले परिवर्तनों को समझने और भविष्य के लिए अनुमान लगाने में काफी सफलता हासिल की गई है। अंतर्राष्ट्रीय समुदाय द्वारा आंकड़ों को इकट्ठा करने के इस प्रयास से दुनिया भर के दैनिक वर्षा के डेटा सेट की प्राप्ति हुई है। जिसमें 25,000 से अधिक स्टेशन उपलब्ध हैं, जिनमें से 16,000 में 10 वर्षों से अधिक के आंकड़े शामिल हैं। साथ ही ओपन-सोर्स कोड गुणवत्ता नियंत्रण के लिए उपलब्ध है जिससे विशेषज्ञों को जलवायु परिवर्तन का पता लगाने में मदद मिलती है।

सतही बाढ़ का प्रबंधन

यह स्पष्ट नहीं है कि तापमान  के बढ़ने से तूफान का आकार बढ़ेगा या घटेगा। हालांकि, शोधकर्ताओं ने चेतावनी दी है कि बारिश की तीव्रता में वृद्धि होती है जो एक तूफान आने की घटना की शक्ल ले सकता है, इस दौरान कुल वर्षा में काफी वृद्धि कर सकती है।

हाल के वर्षों में भारी वर्षा की घटनाओं ने पूरी दुनिया में बहुत व्यवधान पैदा किया है, खासकर ब्रिटेन में। हाल के उदाहरणों में अगस्त 2020 में गंभीर बाढ़ और भूस्खलन और अगस्त 2019 में पीक जिले में टॉडब्रुक जलाशय को नुकसान होना इसमें शामिल है।

अध्ययनकर्ताओं ने कहा कि सतही बाढ़ के प्रबंधन के लिए वर्तमान और भविष्य में होने वाली वर्षा की तीव्रता के बारे में जानकारी महत्वपूर्ण है, साथ ही नए विकास और सीवर डिजाइन पर सतही जल प्रबंधन के लिए यह हमारा मार्गदर्शन होगा।