Sign up for our weekly newsletter

10 से 17 मार्च: जानिए कैसा रहेगा देश में मौसम का हाल

11 से 13 मार्च के बीच पूर्वी उत्तर प्रदेश, बिहार, पूर्वी मध्य प्रदेश, छत्तीसगढ़, झारखंड और ओडिशा के अलग-अलग हिस्सों में गरज के साथ हल्की बारिश हो सकती है

By Lalit Maurya

On: Tuesday 09 March 2021
 

अगले चार-पांच दिनों में उत्तरपश्चिम भारत के कुछ हिस्सों में बारिश होने की सम्भावना है। भारत मौसम विज्ञान विभाग (आईएमडी) ने इसके लिए पश्चिमी विक्षोभ को जिम्मेवार माना है।

आईएमडी द्वारा जारी पूर्वानुमान के अनुसार 10 मार्च को पश्चिमी हिमालय के क्षेत्रों में कहीं-कहीं पर बारिश और बर्फ़बारी हो सकती है। साथ ही अगले दो दिनों में पंजाब, हरियाणा, चंडीगढ़, दिल्ली, पश्चिमी उत्तर प्रदेश और उत्तरी राजस्थान में बारिश होने की सम्भावना है।

वहीं 11 से 13 मार्च के बीच पूर्वी उत्तर प्रदेश, बिहार, पूर्वी मध्य प्रदेश, छत्तीसगढ़, झारखंड और ओडिशा के अलग-अलग हिस्सों में गरज के साथ हल्की बारिश हो सकती है। वहीं साथ ही तूफान के साथ-साथ बिजली गिरने की भी सम्भावना जताई गई है।

12 मार्च को मध्य प्रदेश और छत्तीसगढ़ के कुछ हिस्सों में ओले पड़ सकते हैं। वहीं साथ ही कुछ क्षेत्रों में तूफान के साथ-साथ बिजली गिरने की भी सम्भावना जताई गई है।

11 से 17 मार्च के बीच जम्मू और कश्मीर में बारिश के सामान्य रहने की सम्भावना है। साथ ही पश्चिमी हिमालय (डब्ल्यूएचआर) के अन्य क्षेत्रों और पूर्वोत्तर के राज्यों में बारिश के सामान्य से ऊपर रहने की सम्भावना है, जबकि इस बीच देश के बाकि हिस्सों में सामान्य से कम बारिश होने की सम्भावना व्यक्त की गई है।

आईएमडी ने 10 और 11 मार्च के लिए जम्मू कश्मीर, हिमाचल प्रदेश और उत्तराखंड राज्यों के लिए ऑरेंज अलर्ट जारी किया है। वहीं उत्तराखंड में शुक्रवार को भी इसी तरह की स्थिति बनी रहने की सम्भावना है।

देश के पूर्वी हिस्सों में सामान्य से ज्यादा रहेगा तापमान

यदि तापमान की बात करें तो उत्तर-पूर्वी और उत्तर-पश्चिम भारत के साथ देश के पूर्वी हिस्सों में अधिकतम तापमान के सामान्य से 2-4 डिग्री सेल्सियस ज्यादा रहने की सम्भावना जताई है। हालांकि देश के किसी हिस्से में हीट वेब आने की कोई सम्भावना नहीं है।

वहीं यदि देश के अन्य हिस्सों में तापमान की बात करें तो उसके सामान्य या सामान्य से कम रहने की आशंका है। अगले एक सप्ताह के दौरान उत्तर हिंद महासागर में किसी भी तरह के चक्रवात की कोई संभावना नहीं है