Sign up for our weekly newsletter

कैसे पता चलता है कि मानसून की वापसी हो गई है अथवा नहीं?

वर्तमान मौसम के पूर्वानुमान और जलवायु मॉडल में बादलों का सटीक रूप से पता लगाने के लिए क्या आवश्यक है?

By Dayanidhi

On: Friday 18 June 2021
 
कैसे पता चलता है कि मानसून की वापसी हो गई है अथवा नहीं?
Photo : Wikimedia Commons Photo : Wikimedia Commons

डाउन टू अर्थ की खास पेशकश, 'मानसून के बारे में जाने' की श्रृंखला में आज जानिए - मानसून की वापसी सहित रुका हुआ और सक्रिय मानसून मंत्र क्या है

हम मानसून की वापसी को कैसे परिभाषित करते हैं?
मानसून आने के शुरुआती मानदंडों की तरह, मानसून की वापसी के मानदंडों में भी बदलाव आया है। देश के उत्तर-पश्चिमी हिस्सों से मानसून की वापसी की घोषणा के लिए आईएमडी द्वारा उपयोग किए जाने वाले वर्तमान मानदंडों को 2006 में अपनाया गया था और इसमें निम्नलिखित विशेषताएं शामिल हैं जिन पर केवल 1 सितंबर के बाद विचार किया जाता है।

i) यदि इलाके में 5 दिनों तक लगातार वर्षा की गतिविधि नहीं होती है तो, मानसून की वापसी के संकेत हो सकते हैं।

ii) निचले ट्रोपोस्फेरिक स्तरों (850 एचपीए और नीचे) में प्रतिचक्रवात की शुरुआत होना।

iii) उपग्रह जल वाष्प इमेजरी और टेफिग्राम से अनुमान के अनुसार नमी की मात्रा में बहुत कमी आना आदि मानसून की वापसी के संकेत हैं।

स्थानीय निरंतरता, नमी में कमी जैसा कि जल वाष्प छवियों में देखा गया है और 5 दिनों तक शुष्क मौसम को ध्यान में रखते हुए मानसून की देश से वापसी की घोषणा की जाती है। दक्षिण प्रायद्वीप और पूरे देश से 15 अक्टूबर के आसपास दक्षिण-पश्चिम मानसून वापस चला जाता है, जब परिसंचरण पैटर्न दक्षिण-पश्चिमी हवा में बदलाव होने का संकेत देता है।  

रुका हुआ और सक्रिय मानसून मंत्र क्या है?
जुलाई के महीने में मध्य भारत में दक्षिण-पश्चिम मानसून के आने के बाद, देश के बड़े हिस्सों में प्रचुर मात्रा में बारिश होती है, जिसमें अधिकतम बारिश मध्य भारत में होती है। मौसम के चरम मानसून वर्षा के महीनों में जुलाई और अगस्त के दौरान, मानसून की ट्रफ अपनी सामान्य स्थिति से उत्तर और दक्षिण में बदल जाती है। जिसके अधार पर स्थानीय और पूरे देश के अलग-अलग हिस्सों में दोनों पैमानों पर वर्षा होने में भिन्नता होती है।

शुष्क मानसून की स्थितियों के दौरान, जुलाई और अगस्त में कई दिनों के लिए मॉनसून ट्रफ ज़ोन (जिस क्षेत्र के बीच में मानसून ट्रफ़ में उतार-चढ़ाव होता है) उन जगहों पर बड़े पैमाने पर वर्षा होने में बाधा आती है। जिसे रुकने या ब्रेक के रूप में जाना जाता है। दूसरी ओर सामान्य से अधिक वर्षा होने पर शुष्क मानसून की स्थिति के बीच के अंतराल को सक्रिय मंत्र के रूप में जाना जाता है।

मानसून की वर्षा में रुकने या ब्रेक को उन स्थितियों के रूप में परिभाषित किया जाता है जब सतह पर दबाव कम नहीं होता है और 2 दिनों से अधिक के लिए समुद्र तल से लगभग 1.5 किमी तक निचले ट्रोपोस्फेरिक स्तरों में पूर्वी हवाएं नहीं चलती हैं।

मानसून के मामले में विज्ञान के मुद्दे क्या हैं?
अल नीनो और हिंद महासागर द्विध्रुव (इक्विनू) से परे मानसून की अंतर-वार्षिक परिवर्तनशीलता को कैसे और क्यों नियंत्रित किया जाता है?

वर्तमान जलवायु मॉडल में इससे जुड़े हुए परिवर्तनशीलता (मानसून की अंतर-वार्षिक परिवर्तनशीलता का पहला भाग) में सुधार कैसे करें?

वर्तमान मौसम के पूर्वानुमान और जलवायु मॉडल में बादलों का सटीक रूप से पता लगाने के लिए क्या आवश्यक है?

मानसून की निगरानी और पूर्वानुमान के लिए आईएमडी की भविष्य की योजना
प्रमुख शहरों के लिए असरदार पूर्वानुमान (आईबीएफ) लगाना। मानसून के दौरान मौसम संबंधी सेवाओं के लिए आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस और मशीन लर्निंग तकनीक (एआईएमएल) के उपयोग की खोज करना। स्वचालित मौसम स्टेशनों (एडब्ल्यूएस) और स्वचालित वर्षा गेज स्टेशनों (एआरजी) की संख्या बढ़ाना।

मानसून के क्षेत्र में विशेष रूप से सीमा परत और ऊपरी हवा में उन्नत और निरंतर अवलोकन करना। मौसम, जलवायु मॉडल अत्यधिक उच्च समाधान वाले युग्मित मॉडल (छोटी सीमा: वैश्विक स्तर पर 5 किमी और स्थानीय रूप से 1 किमी, तक फैली हो और लंबी दूरी का पूर्वानुमान 25 किमी तक लगाया जा सके) का उपयोग करने, जिसमें चक्रवातों सहित मौसम, जलवायु पूर्वानुमानों की सटीकता में सुधार अवलोकनों द्वारा किया जा सके।

पूर्वानुमान की सटीकता में सुधार के लिए मॉडल आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस और मशीन लर्निंग तकनीकों को भी जोड़ना।

एमओईएस संस्थानों के विभिन्न मॉडलों का उपयोग करते हुए छोटे से मध्यम श्रेणी के लिए अलग-अलग मॉडलों का उपयोग कर पूर्वानुमान लगाना।

दक्षिण-एशिया क्षेत्र के लिए मानसून की निगरानी। मौसमी भविष्यवाणी के लिए मल्टी मॉडल एनसेंबल (एमएमई) तकनीक का उपयोग।

मौसम की जानकारी के लिए एकीकृत मोबाइल ऐप का विकास।

डॉपलर वेदर रडार नेटवर्क का विस्तार।

मानसून से संबंधित आंतरिक अनुसंधान गतिविधियों में वृद्धि करना आदि।