Sign up for our weekly newsletter

मानसून अपडेट: मानसून अब 3 जून को केरल में देगा दस्तक: आईएमडी

इससे पहले 31 मई को मानसून के केरल पहुंचने का अनुमान लगाया गया था

By Dayanidhi

On: Monday 31 May 2021
 
मानसून अपडेट: मानसून अब 3 जून को दस्तक देगा केरल में : आईएमडी
Photo : Wikimedia Commons Photo : Wikimedia Commons

आईएमडी ने केरल में मानसून के आने में दो दिन की देरी होने का अनुमान लगाया है। राज्य में अब मानसून के 3 जून तक पहुंचने का पूर्वानुमान है। आईएमडी ने इससे पहले पूर्वानुमान लगाया था कि मानसून केरल में 31 मई को आएगा।

मौसम विभाग ने बताया कि दक्षिण-पश्चिम मानसून की उत्तरी सीमा से गुजरना जारी है। भारत मौसम विज्ञान विभाग (आईएमडी) के नवीनतम मौसम संबंधी पूर्वानुमान के अनुसार, दक्षिण-पश्चिमी हवाएं 01 जून से धीरे-धीरे और मजबूत हो सकती हैं, जिसके परिणामस्वरूप केरल में बारिश में वृद्धि होने का अनुमान है। इसके चलते केरल में मानसून की शुरुआत 03 जून के आसपास होने की संभावना है।

निचले स्तर की दक्षिण-पश्चिमी हवाओं के मजबूत होने के कारण, अगले 5 दिनों के दौरान पूर्वोत्तर राज्यों में कुछ जगहों पर मूसलाधार बारिश होने का अनुमान है। 

पश्चिमी विक्षोभ मध्य और ऊपरी ट्रोपोस्फेरिक स्तरों में जारी है, पश्चिमी हवाओं की धुरी समुद्र तल से औसतन 5.8 किमी ऊपर है। उत्तरी अरब सागर से उत्तर पश्चिमी भारत के मैदानी इलाकों के निचले स्तर पर इन हवाओं के साथ नमी आ रही है और अगले 3-4 दिनों तक इसके जारी रहने का अनुमान है। इसके प्रभाव में अगले 5 दिनों के दौरान अधिकतम तापमान में कोई खास बदलाव नहीं होगा। इसके अलावा, अगले 4-5 दिनों के दौरान पश्चिमी हिमालयी क्षेत्र और उत्तर पश्चिम भारत के आसपास के मैदानी इलाकों के कुछ हिस्सों में गरज बौछारें पड़ने और बारिश होने का अनुमान है।

समुद्र तल से 3.1 किमी ऊपर कर्नाटक तट से दूर पूर्व मध्य अरब सागर के ऊपर चक्रवाती परिसंचरण बना है और अगले 5 दिनों के दौरान इसके इस इलाके से गुजरने के आसार हैं। अगले 2-3 दिनों के दौरान दक्षिण-पश्चिमी हवाओं के भी तेज होने की आशंका है। इन अनुकूल मौसम स्थितियों के प्रभाव के चलते अगले 4-5 दिनों के दौरान कर्नाटक और केरल और माहे में भारी बारिश होने तथा कुछ जगहों पर गरज के साथ बौछारें पड़ने का अनुमान है। दक्षिण प्रायद्वीपीय भारत के शेष हिस्सों में बारिश होने, कुछ जगहों पर गरज के साथ मूसलाधार बारिश हो सकती है।

अगले 5 दिनों के दौरान केरल और माहे में भारी बारिश होने के आसार हैं। 01-03 जून के दौरान तटीय कर्नाटक और 02 और 03 जून को दक्षिण आंतरिक कर्नाटक में मूसलाधार बारिश होने का अनुमान है।

देश में कैसा रहेगा आज का मौसम

आज, 31 मई को पंजाब और हरियाणा, चंडीगढ़ और दिल्ली में अलग-अलग स्थानों पर बिजली गिरने, गरज के साथ बौछारें पड़ने और 40-50 किमी प्रति घंटे तक की गति के साथ तेज हवाएं चलने का अनुमान है।

आज उत्तराखंड, उत्तर प्रदेश, पूर्वी राजस्थान, बिहार, झारखंड, पश्चिम बंगाल और सिक्किम, मध्य महाराष्ट्र, मराठवाड़ा, कोंकण और गोवा, तेलंगाना और केरल और माहे में अलग-अलग स्थानों पर, हिमाचल प्रदेश, पूर्वी मध्य प्रदेश, विदर्भ, छत्तीसगढ़, ओडिशा, अंडमान और निकोबार द्वीप समूह, अरुणाचल प्रदेश, असम और मेघालय, नागालैंड, मणिपुर, मिजोरम और त्रिपुरा, तटीय आंध्र प्रदेश और यनम, रायलसीमा, कर्नाटक, तमिलनाडु में अलग-अलग स्थानों पर, पुडुचेरी और कराईकल और लक्षद्वीप में अलग-अलग जगहों पर बिजली गिरने, गरज के साथ बौछारें पड़ने और 30-40 किमी प्रति घंटे तक की दर से तेज हवाएं चलने के आसार हैं।

Source : IMD

30 मई शाम से मौसम में हुए बदलाव के साथ ही दिल्ली में बारिश होने का अनुमान लगाया जा रहा हैं। बुधवार तक दिल्ली में तेज हवाओं के साथ बारिश होने का पूर्वानुमान लगाया गया है। दिल्ली के अलग-अलग हिस्सों में सोमवार और मंगलवार को मूसलाधार बारिश होने का अनुमान है।

धूल भरी आंधी की चेतावनी

आज, 31 मई को पश्चिम राजस्थान के अलग-अलग हिस्सों में बिजली गिरने, गरज के साथ बौछारें पड़ने और 30-40 किमी प्रति घंटे तक की गति से धूल भरी आंधी आने की आशंका है। 

आज इन जगहों पर होगी भयंकर बारिश

आज असम और मेघालय में अलग-अलग स्थानों पर बहुत भारी वर्षा होने और उप-हिमालयी पश्चिम बंगाल और सिक्किम, अरुणाचल प्रदेश और केरल और माहे में अलग-अलग स्थानों पर मूसलाधार बारिश का अनुमान है। 

चेतावनी

पूर्वी मध्य, उत्तर-पश्चिम, दक्षिण-पश्चिम अरब सागर, कोमोरिन क्षेत्र और केरल तट से दूर दक्षिण-पूर्व अरब सागर में 40-50 किमी प्रति घंटे की दर से तेज हवाएं चलने का अनुमान है। मौसम विभाग ने मछुआरों को सलाह दी है कि इन इलाकों में मछली पकड़ने तथा किसी तरह के व्यापार से संबंधित काम के लिए जाने से बचें।

कल कहां हुई बारिश और कहां पड़ी बौछारें

बीते दिन यानी 30 मई को, 8:30 से 5:30 बजे के दौरान झारखंड, असम और मेघालय, अरुणाचल प्रदेश, तटीय कर्नाटक और अंडमान और निकोबार द्वीप समूह में कई स्थानों पर, बिहार, उप-हिमालयी पश्चिम बंगाल और सिक्किम, विदर्भ और केरल में कुछ स्थानों पर और माहे में, पश्चिम राजस्थान, पश्चिम बंगाल के गंगा के तटीय इलाकों, पूर्वी उत्तर प्रदेश, छत्तीसगढ़, पूर्वी मध्य प्रदेश, मध्य महाराष्ट्र, रायलसीमा, मध्य प्रदेश, नागालैंड, मणिपुर, मिजोरम और त्रिपुरा, ओडिशा और तमिलनाडु, पुडुचेरी और कराईक में अलग-अलग जगहों पर बारिश हुई या गरज के साथ बौछारें पड़ी।

कल कहां कितनी वर्षा रिकॉर्ड की गई

कल यानी 30 मई को 8:30 बजे से 5:30 बजे के दौरान कूच बिहार में 3 सेमी, पोर्ट ब्लेयर, नासिक सिटी, पूर्णिया और कार निकोबार प्रत्येक जगह में 2 सेमी, शांति निकेतन, जमशेदपुर, सागर, अमरावती, अकोला, कारवार, ईटानगर, गोलाघाट, भवानीपटना, वलपराई और उत्तरी लखीमपुर हर जगह 1 सेमी वर्षा रिकॉर्ड की गई।

कल कहां चली लू

कल पश्चिमी राजस्थान के कुछ हिस्सों में हीट वेव (लू) महसूस की गई

कल कहां पड़ी तेज हवा के साथ बौछारें

कल यानी 30 मई को 8:30 बजे के दौरान मध्य महाराष्ट्र में कुछ स्थानों पर, पश्चिम राजस्थान, हरियाणा, चंडीगढ़, दिल्ली, पश्चिम उत्तर प्रदेश, मध्य प्रदेश, मराठवाड़ा, छत्तीसगढ़, कोंकण और गोवा, झारखंड, ओडिशा, बिहार, पश्चिम बंगाल और सिक्किम, असम और मेघालय, तटीय आंध्र प्रदेश और यनम और तटीय कर्नाटक में अलग-अलग जगहों पर तेज हवाओं के साथ बौछारें पड़ी, इन जगहों पर, आज 5:30 बजे के दौरान इसी तरह की गतिविधि के आसार बन रहे हैं।

कहां रिकॉर्ड किया गया सबसे अधिक तापमान

कल देश भर में चुरू (पश्चिम राजस्थान) में अधिकतम तापमान 45.5 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया था।

कहां रिकॉर्ड किया गया सबसे कम तापमान

कल, देश के मैदानी इलाकों में छपरा (बिहार) में न्यूनतम तापमान 19.5 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया था।