Sign up for our weekly newsletter

मौसम अपडेट: जानें किन राज्यों में है भारी बारिश से भूस्खलन और बाढ़ की आशंका

मौसम विज्ञान विभाग ने 4 अप्रैल तक के मौसम का अनुमान जारी किया

By Dayanidhi

On: Wednesday 31 March 2021
 
Weather update: know, how will the weather of the country be for the next five days
Photo : Wikimedia Commons Photo : Wikimedia Commons

भारत मौसम विज्ञान विभाग (आईएमडी) के राष्ट्रीय मौसम पूर्वानुमान केंद्र के अनुसार, अगले 4 दिनों में अंडमान और निकोबार द्वीप समूह के अधिकतर इलाकों में गरज के साथ बारिश होने, बिजली गिरने और तेज हवाएं चलने का अनुमान है। 31 मार्च से 1 अप्रैल के बीच पूर्वोत्तर भारत में अलग-अलग स्थानों पर गरज के साथ हल्की से मध्यम वर्षा और ओलावृष्टि होने के आसार हैं।

बंगाल की दक्षिणपूर्व खाड़ी और दक्षिण अंडमान सागर में चक्रवाती हवाओं के प्रभाव से, इन जगहों पर एक कम दबाव का क्षेत्र बन गया है। यह चक्रवाती हवाएं समुद्र तल से 5.8 किमी ऊपर तक फैली हुई हैं। इसकी वजह से अगले 24 घंटों के दौरान उत्तरी अंडमान सागर और उसके आस-पास की जगहों पर अधिक प्रभाव पड़ने के अनुमान है।

31 मार्च से 1अप्रैल, 2021 के दौरान अंडमान और निकोबार द्वीप समूह पर भारी बारिश का अनुमान है। मौसम विभाग ने मछुआरों को सलाह दी जाती है कि वे 31 मार्च से लेकर 02 अप्रैल, 2021 तक दक्षिण पूर्व बंगाल की खाड़ी और दक्षिण अंडमान सागर से सटे अंडमान सागर और बंगाल की खाड़ी के आस-पास के इलाकों में मछली पकड़ने का जोखिम न उठाएं।

Source : IMD

31 मार्च को असम और मेघालय और नागालैंड, मणिपुर, मिजोरम और त्रिपुरा के छिटपुट इलाकों में बारिश होने का अनुमान है। 31 मार्च से 1अप्रैल के दौरान अरुणाचल प्रदेश में भारी बारिश का अनुमान है।

31 मार्च से 1 अप्रैल के दौरान दक्षिण असम, मेघालय, त्रिपुरा और मिजोरम में अलग-अलग स्थानों पर भारी बारिश की वजह से भूस्खलन और निचले इलाकों में बाढ़ आ सकती है।

अगले 2 दिनों के दौरान उत्तर-पश्चिम भारत के मैदानी इलाकों में अधिकतम तापमान में 3-5 डिग्री सेल्सियस की गिरावट आने की संभावना है, जिससे राजस्थान में लू नहीं चलेगी। हालांकि 03 अप्रैल, 2021 से उत्तर पश्चिमी भारत के मैदानी इलाकों में लू चलने का अनुमान है।

Source : IMD

31 मार्च-01 अप्रैल के दौरान राजस्थान, हरियाणा, दिल्ली, पश्चिम उत्तर प्रदेश, पंजाब, उत्तरी मध्य प्रदेश, पूर्वी उत्तर प्रदेश, झारखंड और पश्चिम बंगाल में 30-40 किमी प्रति घंटे तक की जोरदार सतही हवाएं चलने के आसार हैं।

अगले 5 दिनों में तापमान को लेकर मौसम का पूर्वानुमान

  • अगले 3 दिनों के दौरान उत्तरपश्चिम भारत के मैदानी इलाकों के अधिकतम तापमान में 3-5 डिग्री सेल्सियस की गिरावट और उसके बाद 03 अप्रैल से तापमान में वृद्धि होने का अनुमान है।
  • अगले 3 दिनों के दौरान मध्य भारत के अधिकतम तापमान में 3-5 डिग्री सेल्सियस की गिरावट का अनुमान है।
  • अगले 24 घंटों के दौरान सौराष्ट्र और कच्छ में अधिकतम तापमान में कोई उल्लेखनीय परिवर्तन नहीं होगा और इसके बाद तापमान में 2-3 डिग्री सेल्सियस की वृद्धि होने के आसार हैं। 
  • आंध्र प्रदेश और तेलंगाना में 2-3 दिनों के दौरान अधिकतम तापमान में वृद्धि होगी।
  • अगले 5 दिनों के दौरान देश के बाकी हिस्सों में अधिकतम तापमान में कोई ज्यादा बदलाव नहीं होगा।

 अगले 5 दिनों के दौरान मौसम संबंधी चेतावनी

31 मार्च : असम, मेघालय, नागालैंड, मणिपुर, मिजोरम और त्रिपुरा के अलग-अलग स्थानों पर गरज के साथ बारिश होने, बिजली गिरने और 40-50 किमी प्रति घंटे तक की गति की तेज हवाएं चलने का अनुमान है। वहीं उप-हिमालयी पश्चिम बंगाल और सिक्किम, ओडिशा, अंडमान और निकोबार द्वीप समूह, केरल और माहे, लक्षद्वीप और अरुणाचल प्रदेश में अलग-अलग स्थानों पर हल्की और 30-40 किमी प्रति घंटे की गति से चलने वाली तेज़ हवाओं के साथ आंधी आने के आसार हैं।

अंडमान और निकोबार द्वीपसमूह पर अलग-अलग स्थानों पर भारी से बहुत भारी वर्षा और असम और मेघालय, अरुणाचल प्रदेश, नागालैंड, मणिपुर, मिजोरम और त्रिपुरा और उप-हिमालयी पश्चिम बंगाल और सिक्किम के अलग-अलग स्थानों पर भारी वर्षा होने का अनुमान है।

01 अप्रैल: पूर्वी असम और मेघालय में अलग-अलग स्थानों पर गरज के साथ छीटे पड़ने, बिजली गिरने, ओलावृष्टि और 40-50 किमी प्रति घंटे तक की गति से तेज हवाएं चलने के आसार हैं। उप-हिमालयी पश्चिम बंगाल और सिक्किम, अंडमान और निकोबार द्वीप समूह, केरल और माहे, अरुणाचल प्रदेश और नागालैंड, मणिपुर के अलग-अलग स्थानों पर हल्की और तेज़ हवाएं चलने जिनकी गति 30-40 किमी प्रति घंटे हो सकती है।

अंडमान और निकोबार द्वीपसमूह के अलग-अलग स्थानों पर भारी से बहुत भारी वर्षा और अरुणाचल प्रदेश और उप-हिमालयी पश्चिम बंगाल और सिक्किम में अलग-अलग स्थानों पर भारी वर्षा होने का अनुमान है।

लू: विदर्भ, ओडिशा और तेलंगाना में अलग-अलग जगहों में लू चलने की आशंका है।

अंडमान सागर और आस-पास के क्षेत्रों में दक्षिण-पूर्व और पूर्व मध्य बंगाल की खाड़ी और कोमोरिन क्षेत्र और मन्नार की खाड़ी में 40-50 किमी प्रति घंटे की गति से हवाएं चलने का अनुमान है, मछुआरों को सलाह दी जाती है कि वे इन जगहों पर जाने, मछली पकड़ने से परहेज करें।

02 अप्रैल: उप-हिमालयी पश्चिम बंगाल और सिक्किम, अंडमान और निकोबार द्वीप समूह, ओडिशा, तटीय आंध्र प्रदेश, यनम,  केरल और माहे में अलग-अलग स्थानों पर गरज के साथ बौछार होने और 30-40 किमी प्रति घंटे की गति से तेज़ हवाएं चलने का अनुमान है।

लू : तेलंगाना और सौराष्ट्र और कच्छ के अलग-अलग जगहों में लू के आसार हैं।

अंडमान सागर और आस-पास के क्षेत्रों, बंगाल की खाड़ी, कोमोरिन क्षेत्र और मन्नार की खाड़ी में 45-55 किमी प्रति घंटा से 65 किमी प्रति घंटे गति तक की हवा चलने के आसार है। मछुआरों को सलाह दी जाती है कि वे इन जगहों पर जाने, मछली पकड़ने से परहेज करें।

03 अप्रैल: पश्चिम बंगाल खासकर गंगा के किनारे वाले इलाकों, तटीय आंध्र प्रदेश और यनम और केरल और माहे में अलग-अलग स्थानों पर गरज के साथ बारिश होने और 30-40 किमी प्रति घंटे तक की गति की तेज़ हवाओं के साथ आंधी आने का अनुमान है।

लू : सौराष्ट्र और कच्छ के अलग-अलग जगहों में हीट वेव के आसार हैं।

उत्तर अंडमान सागर में डराने वाला मौसम रहेगा यहां हवा की गति 40-50 किमी प्रति घंटा से 60 किमी प्रति घंटे तक पहुंच सकती है। मछुआरों को सलाह दी जाती है कि वे इन जगहों पर जाने, मछली पकड़ने से परहेज करें।

04 अप्रैल: पश्चिम बंगाल खासकर गंगा के किनारे वाले इलाकों, तटीय आंध्र प्रदेश, यनम, केरल और माहे में अलग-अलग स्थानों पर 30-40 किमी प्रति घंटे की गति से तेज हवाएं चलने और गरज के साथ बौछार होने का अनुमान है।

लू : सौराष्ट्र और कच्छ के अलग-अलग जगहों में लू चलने के आसार हैं।