क्या आप जानते हैं आरईडीडी+ के बारे में, यहां जानिए क्या होता है यह?

आरईडीडी+ का उद्देश्य अलग-अलग देशों की सरकारों द्वारा वनों पर मानव दबाव को कम करने के लिए गतिविधियों का कार्यान्वयन करना है

By Dayanidhi

On: Monday 23 August 2021
 
क्या आप जानते हैं आरईडीडी+ के बारे में, यहां जानिए क्या होता है यह?
फोटो : विकिमीडिया कॉमन्स फोटो : विकिमीडिया कॉमन्स

आरईडीडी+ क्या है?

वनों की कटाई और इनके नष्ट होने से उत्सर्जन में कमी या रिड्यूसिंग एमिशन्स फ्रॉम डेफोरेस्टशन एंड फारेस्ट डिग्रडेशन (आरईडीडी+), यूनाइटेड नेशंस फ्रेमवर्क कन्वेंशन ऑफ़ क्लाइमेट चेंज (यूएनएफसीसी) कांफ्रेंस ऑफ पार्टीज (कॉप) द्वारा जंगलों में गतिविधियों का मार्गदर्शन करने के लिए बनाया गया एक ढांचा है। जो पेड़ों को काटने और वन क्षरण से उत्सर्जन को कम करने के लिए है। साथ ही साथ वनों के स्थायी प्रबंधन और विकास में वन कार्बन स्टॉक के संरक्षण को बढ़ाता है।

आरईडीडी+ के उद्देश्य क्या हैं?

इसका उद्देश्य राष्ट्रीय सरकारों द्वारा वनों पर मानव दबाव को कम करने के लिए गतिविधियों का कार्यान्वयन करना है। जिसके परिणामस्वरूप राष्ट्रीय स्तर पर ग्रीनहाउस गैस उत्सर्जन होता है, लेकिन एक अंतरिम उपाय के रूप में उपराष्ट्रीय कार्यान्वयन को भी मान्यता देता है। आरईडीडी+ की गतिविधियों का कार्यान्वयन स्वैच्छिक है और यह प्रत्येक विकासशील देश की राष्ट्रीय परिस्थितियों, क्षमताओं और प्राप्त समर्थन के स्तर पर निर्भर करता है।

आरईडीडी+ की शुरुआत कब हुई?

फ्रेमवर्क या तंत्र को सामान्यतः वॉरसॉ फ्रेमवर्क फॉर आरईडीडी+ (डब्ल्यूएफआर) के रूप में जाना जाता है। जिसे वारसॉ में दिसंबर 2013 में कॉप 19 में अपनाया गया था। यह आरईडीडी+ की गतिविधियों के कार्यान्वयन के लिए संपूर्ण कार्यप्रणाली और वित्तीय मार्गदर्शन प्रदान करता है।

आरईडीडी+ को पेरिस समझौते के अनुच्छेद 5 में भी मान्यता दी गई है, जहां पार्टियों ने आरईडीडी+ गतिविधियों को लागू करने के लिए प्रोत्साहन को दोहराया और यह पेरिस समझौते का एक अभिन्न अंग होना चाहिए। इसलिए, डब्ल्यूएफआर वन क्षेत्र में जलवायु कार्यों के लिए उच्चतम स्तर की प्रतिबद्धता को पूरा करने के लिए आरईडीडी+ में लगे दलों के लिए एक नींव की तरह है।

आरईडीडी+ कार्यान्वयन की वर्तमान स्थिति क्या है?

डब्ल्यूएफआर ने क्षमता निर्माण, तकनीकी सहायता, प्रदर्शन गतिविधियों और परिणाम-आधारित वित्त सहित आरईडीडी+ कार्यान्वयन के लिए महत्वपूर्ण संसाधन जुटाए हैं। कई विकासशील देशों ने वनों की निगरानी और प्रबंधन क्षमता में उल्लेखनीय वृद्धि की है, जो कि लंबी अवधि में वन संरक्षण और वनों के सतत प्रबंधन को प्राप्त करने के लिए आवश्यक है। कई विकसित देशों और वित्तीय संस्थाओं ने आरईडीडी+ की तैयारी और प्रदर्शन गतिविधियों के लिए महत्वपूर्ण समर्थन दिया है और कार्यों की स्थिरता सुनिश्चित करने के लिए ऐसा करना जारी रखा गया है।

आरईडीडी+ से सीओ2 उत्सर्जन में अंदाजन कितनी कमी आई?

जनवरी 2020 तक, कुल 50 विकासशील देशों ने यूएनएफसीसी को तकनीकी मूल्यांकन के लिए आरईडीडी+ वन संदर्भ स्तर या वन संदर्भ उत्सर्जन स्तर प्रस्तुत किया है, जो विकासशील देशों के कुल वन क्षेत्र के 70 फीसदी से अधिक को कवर करता है। 15 देशों ने जानकारी का सारांश प्रस्तुत किया है कि किस तरह सुरक्षा उपायों को किया जा रहा है और उनका सम्मान किया जा रहा है। 12 देशों ने एक राष्ट्रीय रणनीति या कार्य योजना प्रस्तुत की है। आरईडीडी+ के लिए लीमा इंफॉर्मेशन हब में 6 देशों को सूचीबद्ध किया गया है, जिसमें आरईडीडी+ के लिए परिणाम-आधारित वित्त प्राप्त करने और प्राप्त करने के योग्य होने के लिए सभी तत्व मौजूद हैं। कुल मिलाकर, आरईडीडी+ के लिए लीमा सूचना हब में सूचीबद्ध आरईडीडी+ गतिविधियों के परिणामस्वरूप 6.3 बिलियन टन सीओ2 उत्सर्जन में कमी आई है।

अगले भाग में पढ़ना भूले आरईडीडी+परिणाम-आधारित अर्थव्यवस्था के बारे में