Sign up for our weekly newsletter

मैंग्रोव वनों में जितनी ज्यादा होंगी प्रजातियां, उतना अधिक होगा कार्बन स्टोर

मैंग्रोव वन जल शोधन, तटीय संरक्षण, आवास प्रावधान और कार्बन भंडारण सहित कई पारिस्थितिक सेवाएं प्रदान करते हैं।

By Dayanidhi

On: Wednesday 24 February 2021
 
More diverse mangrove forest species store more carbon
Photo : Wikimedia Commons Photo : Wikimedia Commons

एक नए शोध में पाया गया है कि मैंग्रोव वनों की प्रजातियों में जितनी अधिक विविधता होती है, वे उतना अधिक कार्बन का भंडारण कर सकते हैं। चीन के हैनान द्वीप में मैंग्रोव वनों में यह अध्ययन किया गया।

अध्ययन के दौरान शोधकर्ताओं ने पाया कि मैंग्रोव वनों में प्रजातियों की विविधता बायोमास उत्पादन (कार्बनिक पदार्थ की मात्रा), मिट्टी और कार्बन भंडारण दोनों को बढ़ाती है। जलवायु परिवर्तन को कम करने के लिए प्रकृति आधारित समाधान के रूप में मैंग्रोव वनों की जैव विविधता का संरक्षण करना महत्वपूर्ण है।

द्वीप के पूर्व की ओर सबसे अधिक मैंग्रोव बायोमास, विविधता और कार्बन भंडारण पाया गया, जिसका औसत 537 टन कार्बन प्रति हेक्टेयर है। इसकी तुलना पूरे द्वीप में 328 टन कार्बन प्रति हेक्टेयर और दुनिया भर के 386 टन कार्बन प्रति हेक्टेयर के मैंग्रोव वनों से है।

मैंग्रोव बायोमास और कार्बन भंडारण को लेकर जैव विविधता के सकारात्मक प्रभाव को साबित करने के लिए गहन अध्ययन पर आधारित यह पहला अध्ययन है।

मैंग्रोव उष्णकटिबंधीय क्षेत्रों में बढ़ते हैं और धरती पर सबसे अधिक कार्बन भंडारण करने वाले पारिस्थितिक तंत्र में से एक हैं। दुनिया भर में मैंग्रोव की 70 से अधिक प्रजातियां हैं, इनमें से चीन में 27 पाई जाती है, जिनमें से शोधकर्ताओं द्वारा 26 का अध्ययन किया गया है।

अध्ययन क्षेत्र में मैंग्रोव प्रजातियों की अधिक संख्या होने के कारण, शोधकर्ताओं का मानना है कि परिणाम चीन के अन्य क्षेत्रों और दुनिया के बाकी हिस्सों, विशेष रूप से अन्य एशियाई देशों में लागू किए जा सकते हैं, जिनके पास मैंग्रोव प्रजातियों की विविधता है।

शोधकर्ताओं ने यह भी पाया कि मिट्टी में नाइट्रोजन की अधिक मात्रा और वार्षिक वर्षा वाले क्षेत्रों में मैंग्रोव बायोमास और कार्बन भंडारण क्षमता अधिक थी। जो यह दर्शाता है कि मिट्टी की उर्वरता, जलवायु परिवर्तन को कम करने वाले मैंग्रोव विविधता और कार्बन भंडारण के क्षेत्रों को निर्धारित करते हैं।

सिंघुआ विश्वविद्यालय के डॉ. गुआंगुई लिन ने कहा हमारे निष्कर्ष बताते हैं कि अधिक विविधता वाले मैंग्रोव वनों में उच्च कार्बन भंडारण क्षमता और संरक्षण क्षमता भी होती है। इस प्रकार, मैंग्रोव की जैव विविधता संरक्षण के लिए मैंग्रोव वनों को सुनिश्चित करना महत्वपूर्ण है। ये जलवायु परिवर्तन को कम करने में सक्षम हैं। हम इनको फिर से लगाने और संरक्षण परियोजनाओं के माध्यम से मैंग्रोव विविधता को बढ़ा सकते हैं, विशेष रूप से स्थानीय देशी प्रजातियों को बढ़ावा देकर।

मैंग्रोव प्रजातियों की विविधता में वृद्धि का एक और फायदा यह है कि यह जलवायु परिवर्तन और चरम मौसम जैसी गड़बड़ी के खिलाफ मैंग्रोव पारिस्थितिकी प्रणालियों की स्थिरता को बनाए रखने में मदद करेगा। बदले में यह सुनिश्चित करता है कि मैंग्रोव वन उन सैकड़ों प्रजातियों के लिए एक निवास स्थान प्रदान करते रहें जो उन पर भरोसा करते हैं। यह शोध ब्रिटिश इकोलॉजिकल सोसाइटी जर्नल फंक्शनल इकोलॉजी में प्रकाशित हुआ है।

मैंग्रोव वनों में उष्णकटिबंधीय और उपोष्णकटिबंधीय तटीय क्षेत्रों के ज्वारीय क्षेत्रों में उगने वाले पेड़, झाड़ियां और अन्य पौधे होते हैं। वे जल शोधन, तटीय संरक्षण, आवास प्रावधान और कार्बन भंडारण सहित कई पारिस्थितिक सेवाएं प्रदान करते हैं।

हैनान द्वीप पर पाए जाने वाले 26 मैंग्रोव प्रजातियां, एविनेनिया मरीना जैसे 30 मीटर ऊंचे पेड़ों की सोनरैटिया और ब्रुगुएरिया प्रजाति के थे। अध्ययन में शोधकर्ताओं ने हैनान द्वीप के पूरे समुद्र तट में मैंग्रोव जैव विविधता और कार्बन भंडारण का गहन सर्वेक्षण किया, जिसमें चीन के मैंग्रोव वन क्षेत्र का लगभग 20 फीसदी हिस्सा है।

कुछ वर्ष पूर्व उन्होंने द्वीप पर चार मुख्य मैन्ग्रोव वाली जगहों पर फैले 23410 वर्ग मीटर भूखंडों से आंकड़े एकत्र किए। प्रत्येक भूखंड में उन्होंने मैंग्रोव प्रजातियों के आकार, घनत्व और संख्या के साथ-साथ पानी और मिट्टी की लवणता और पीएच के आंकड़े एकत्र किए।

फिर उन्होंने प्रत्येक प्रजाति की पहचानी गई कार्बन सांद्रता और प्रत्येक से मिट्टी के नमूनों का उपयोग करके कार्बन और नाइट्रोजन सामग्री के उपयोग से पौधों के बायोमास के कार्बन भंडारण की गणना की।