Sign up for our weekly newsletter

जानवरों को अपना घर छोड़ने के लिए मजबूर करती हैं इंसानी गतिविधियां

39 सालों में 167 पशु प्रजातियों पर 208 अलग-अलग अध्ययनों का संकलन और विश्लेषण करने के बाद रिपोर्ट जारी की गई है

By Dayanidhi

On: Tuesday 02 February 2021
 
Human activities force animals to move from their habitat up to 70%
Human disturbance causes widespread disruption of animal movement Human disturbance causes widespread disruption of animal movement

पहली बार वैज्ञानिकों ने जानवरों की आवाजाही पर मानव गतिविधि के दुनिया भर में पड़ने वाले प्रभावों की गणना की है। जिसमें प्रजातियों के अस्तित्व और जैव विविधता को खतरा पैदा करने वाले व्यापक प्रभावों का खुलासा किया गया है।

शहरीकरण जैसी गतिविधियों का वन्यजीवों पर बड़ा प्रभाव हो सकता है, ऑस्ट्रेलिया में सिडनी विश्वविद्यालय और डीकिन विश्वविद्यालय के वैज्ञानिकों द्वारा किए गए अध्ययन से पता चलता है कि शिकार, सैन्य गतिविधि और मनोरंजन जैसी लगातार चलने वाली गतिविधियों से भी जानवरों के व्यवहार में बड़े बदलाव हो सकते हैं।

सिडनी विश्वविद्यालय में वन्यजीव पारिस्थितिकीविद् और प्रमुख अध्ययनकर्ता डॉ टिम डोहर्टी ने कहा कि यह महत्वपूर्ण है कि हम उस प्रभाव के पैमाने को समझते हैं जो मनुष्यों की अन्य जानवर प्रजातियों पर पड़ती है। जानवरों की बदली हुई गतिविधि के परिणाम गहरे हो सकते हैं और जानवरों का स्वस्थ रहना कम हो सकता है। उनके जीवित रहने की संभावना कम हो सकती है, प्रजनन दर कम हो सकती है, आनुवंशिक से अलग और यहां तक कि स्थानीय विलुप्ति भी हो सकती है।

अध्ययन के मुख्य निष्कर्ष इस प्रकार हैं:

  • गड़बड़ी होने पर जानवरों की गतिविधि तथा उनके आवाजाही में परिवर्तन आम हैं
  • शिकार, विमान का उपयोग, सैन्य गतिविधि और मनोरंजन जैसे लगातार होने वाली मानव गतिविधियां, उनके रहने वाली जगहों में बदलाव करना जैसे कृषि आदि के लिए उपयोग के कारण उनके आवाजाही की दूरी में बहुत अधिक वृद्धि हो सकती सकती हैं।
  • लगातार होने वाली गड़बड़ी उनकी गतिविधि में कुल मिलाकर 35 प्रतिशत परिवर्तन में वृद्धि या कमी के लिए मजबूर करती है। निवास के बदलावों में 12 प्रतिशत परिवर्तन होता है
  • जा‍नवरों की आवाजाही में वृद्धि औसतन 70 प्रतिशत रही
  • जा‍नवरों की आवाजाही में कमी औसतन 37 प्रतिशत रही

अध्ययन में कहा गया है कि लोगों की गतिविधि के द्वारा अशांति से होने वाले पशु आवाजाही पर प्रभाव न पड़े इसके लिए दुनिया भर में पुनर्गठन की आवश्यकता है, जिसके कारण जानवरों की आबादी, प्रजातियों और पारिस्थितिकी तंत्र प्रक्रियाओं पर गहरा प्रभाव पड़ता है।

डॉ. डोहर्टी ने कहा कि जानवरों के अस्तित्व के लिए उनकी आवाजाही महत्वपूर्ण है, लेकिन यह मानवीय गड़बड़ी से बाधित हो सकती है। जानवर मानव गतिविधियों को समायोजित करने के लिए व्यवहार में इसे अपनाते हैं, जैसे कि मनुष्यों का भागना या बचना, भोजन या साथी को खोजने के लिए आगे की यात्रा करना या मनुष्यों या शिकारियों से बचने के लिए नए आश्रय की खोज करना।

कुछ मामलों में मानव गतिविधियों ने जानवरों की आवाजाही में कमी लाने के लिए मजबूर किया है। अध्ययन में पाया गया कि लोगों के रहने वाले स्थानों तक भोजन की बढ़ती पहुंच के कारण, बदले गए निवास स्थान से दूसरी जगह जाने की क्षमता कम हो गई या शारीरिक बाधाओं से उनकी आवाजाही पर रोक लग रही है।

डॉ. डोहर्टी ने कहा जानवरों की प्रजातियों पर सीधा असर पड़ने के साथ ही दस्तक देने वाले प्रभाव भी हैं। जानवरों की आवाजाही महत्वपूर्ण पारिस्थितिक प्रक्रियाओं जैसे परागण, बीज फैलाव और मिट्टी की उर्वरा शक्ति से जुड़ा हुआ है, इसलिए जानवरों की आवाजाही पर रोक से पूरे पारिस्थितिकी तंत्र में बहुत खराब प्रभाव पड़ सकते हैं।

नीतियों को लागू करना

डॉ डोहर्टी ने कहा है कि निष्कर्षों में जानवरों की जैव विविधता के प्रबंधन के लिए महत्वपूर्ण नीतियों को लागू करने की आवश्यकता है। समुद्री वातावरण और परिदृश्य मानव प्रभाव से उतना प्रभावित नहीं है, यह महत्वपूर्ण है कि आवास में बदलाव से बचा जाना चाहिए।

यह मौजूदा संरक्षित क्षेत्रों को मजबूत बनाने और कानूनी सुरक्षा के लिए जंगल के अधिक क्षेत्रों को सुरक्षित करना इसमें शामिल हो सकता है। अध्ययन कहता है कि जंगल में, विशेष रूप से जानवरों के प्रजनन काल के दौरान, शिकार और पर्यटन जैसे कुछ गतिविधियों का सावधानीपूर्वक प्रबंधन करके गड़बड़ी के प्रभावों को कम करना आसान हो सकता है। यह अध्ययन नेचर इकोलॉजी एंड इवोल्यूशन में प्रकाशित हुआ है।

डॉ डोहर्टी ने कहा जहां निवास में बदलाव करना जरूरी न हो वहां बदलाव नहीं किए जाने चाहिए। अध्ययनकर्ता सुझाव देते हैं कि जानवरों की आवाजाही वाले व्यवहार की जानकारी और प्रबंधन के बारे में पता होना चाहिए ताकि जानवरों की आवाजाही सुरक्षित हो सके। उन्होंने कहा कि जानवरों की आवाजाही पर मानव गतिविधि के खराब प्रभावों को कम करने के लिए एक तेजी से मानव बहुल दुनिया में जैव विविधता हासिल करने के लिए महत्वपूर्ण होगा।

डॉ डोहर्टी ने कहा दुनिया के तेजी से विकसित हो रहे हिस्सों में जानवरों की आवाजाही और उनके आवासों में किए जा रहे बदलावों के प्रभाव को समझने के लिए और अधिक शोध की आवश्यकता है।

अध्ययन में 39 वर्षों में 167 पशु प्रजातियों पर 208 अलग-अलग अध्ययनों का संकलन और विश्लेषण किया, ताकि यह पता लगाया जा सके कि मानव गतिविधि से होने वाली अशांति से जानवरों की आवाजाही कैसे प्रभावित होती है। एक तिहाई से अधिक मामलों में, जानवरों को उन परिवर्तनों के लिए मजबूर किया गया, जिनमें उनकी आवाजाही में 50 प्रतिशत से अधिक की वृद्धि देखी गई।

अध्ययन में 0.05 ग्राम ग्राम स्लीपी नारंगी तितली से लेकर 2000 किलोग्राम से अधिक ग्रेट वाइट शार्क शामिल हैं। इसमें 37 पक्षी प्रजातियां, 77 स्तनपायी प्रजातियां, 17 सरीसृप प्रजातियां, 11 उभयचर प्रजातियां, 13 मछली प्रजातियां और 12 आर्थ्रोपॉड (कीट) प्रजातियां शामिल थीं।