Sign up for our weekly newsletter

प्रजातियों के भीतर छिपी हुई जैव विविधता का लगातार नुकसान हो रहा है : अध्ययन

अध्ययन से पता चला है कि प्रजातियों के भीतर विविधता के नुकसान के गंभीर पारिस्थितिक परिणाम हो सकते हैं, यह प्राकृतिक सामग्री और प्राकृतिक उत्पादों से स्वच्छ पानी और दवाएं प्रदान करते हैं।

By Dayanidhi

On: Wednesday 03 March 2021
 
There is a continuous loss of hidden biodiversity within the species: study

प्रजातियों के भीतर भिन्नता का नुकसान एक छिपी हुई जैव विविधता पर संकट की तरह है। एक नए अध्ययन में इस बारे में पता लगाया गया कि यह विविधता आवश्यक पारिस्थितिक कार्यों को किस तरह पूरा करती है और प्रकृति लोगों के लिए किस तरह फायदे पहुंचाती है।

यूनिवर्सिटी ऑफ़ कैलिफ़ोर्निया सांता क्रूज़ (यूसी सांता क्रूज़) में पारिस्थितिकी और विकासवादी जीव विज्ञान के प्रोफेसर एरिक पल्कोवाक्स ने कहा जैव विविधता का मतलब केवल प्रजातियों की संख्या नहीं बल्कि इससे कहीं अधिक है, जब हम प्रजाति आधारित विलुप्ति की बात करते हैं, तो हम कहानी के केवल एक हिस्से पर प्रकाश डाल रहे होते हैं।

एक प्रजाति के भीतर (इंट्रासेप्सिक) भिन्नता जैव विविधता का एक ऐसा पहलू है जिस पर ध्यान नहीं दिया गया है, लेकिन इसका लोगों के लिए बहुत महत्व है, हमें जैव विविधता के इस रूप को पहचानने और इसे संरक्षित करने की आवश्यकता है।

यूसी सांता क्रूज़ के एक पोस्टडॉक्टोरल शोधकर्ता सिमोन डे रोचेस के नेतृत्व में किए गए एक अध्ययन से पता चला है कि प्रजातियों के भीतर विविधता के नुकसान के गंभीर परिणाम हो सकते हैं। यह प्राकृतिक सामग्री और प्राकृतिक उत्पादों से स्वच्छ पानी और दवाएं प्रदान करते हैं।

नए अध्ययन में उन्होंने किए गए अध्ययनों के वैज्ञानिक साहित्य का सर्वेक्षण किया, जिसमें दिखाया गया था कि कैसे एक प्रजाति के भीतर (इंट्रासेप्सिक) परिवर्तन पारिस्थितिकी तंत्र सेवाओं और लोगों के लिए प्रकृति के योगदान के अन्य पहलुओं के बारे में बताता है।

उन्होंने मछली और व्यवसायिक मत्स्य, कीट और फसल में परागण करने वाले, पौधों और वानिकी उत्पादों, कई अलग-अलग फसलों और उनके जंगली पूर्वजों सहित प्रजातियों की एक विस्तृत विविधता में अच्छी तरह से संबंध पाया।

पल्कोवाक्स  ने कहा कई मामलों में जब हम विविधता खो देते हैं, तब कई तरह के नुकसान हो सकते हैं। उदाहरण के लिए एक व्यवसायिक मत्स्य पालन है, जहां मछली की विविध प्रजातियों के भंडार समग्र आबादी को स्थिर करने में मदद करते हैं।

उदाहरण के लिए, सैल्मन की उप-प्रजातियां स्थानीय रूप से विभिन्न जलक्षेत्रों की स्थितियों के अनुकूल हैं, जिससे समग्र आबादी स्थिर बनी रहती है क्योंकि पर्यावरणीय उतार-चढ़ाव कुछ आबादी में गिरावट और दूसरों में वृद्धि का कारण बनते हैं। सैल्मन की आबादी बांधों के कारण कम हो जाती है, जो महत्वपूर्ण रूप से उनके अंडे वाले स्थान से उप-विभाजन को रोकते हैं, जो आनुवंशिक विविधता को कम कर सकते हैं। सैल्मन में अंतर-भिन्नता का नुकसान आबादी के चक्रों को जन्म दे सकता है जो मत्स्य पालन में लंबे समय के लिए हानिकारक हैं। 

डेस रोचेस ने कहा कि लोग लंबे समय से घरेलू और कृषि संबंधी महत्वपूर्ण प्रजातियों की भिन्नता पर निर्भर हैं। उन्होंने कहा हमारा इतिहास सैकड़ों पालतू प्रजातियों का रहा है, इन प्रजातियों के भीतर असामान्य और फायदा पंहुचाने वाली विशेषताएं होती है। हमने अक्सर इसे बहुत दूर कर दिया है और इस तरह घरेलू प्रजातियों में महत्वपूर्ण आनुवंशिक विविधता को खो दिया है। हम इस विविधता को बहाल करने के लिए अधिक आनुवंशिक रूप से बदलने वाले जंगली प्रकार या पैतृक आबादी के साथ विजाति प्रजनन (आउटब्रेडिंग) पर निर्भर करते हैं।

पल्कोवाक्स  ने कहा कि औषधीय महत्व वाले पौधे की प्रजाति के भीतर (इंट्रासेप्सिक) भिन्नता महत्वपूर्ण है। एक ही पौधे की विभिन्न प्रजातियों में विभिन्न औषधीय गुण हो सकते हैं, जैसे कि अलग-अलग एंटीमाइरियल दवाएं जो उन पौधों की आनुवांशिक विविधता पर निर्भर करती हैं जिनसे वे उत्पन्न होती हैं।

उन्होंने कहा कि पश्चिमी विज्ञानिकों ने प्रजातियों के स्तर के विलुप्त होने पर अत्यधिक ध्यान केंद्रित किया है, केवल जीवों के सबसे अच्छी तरह से अध्ययन किए गए समूहों के भीतर की विविधता का वर्णन किया गया है। उदाहरण के लिए, इंटरनेशनल यूनियन फॉर कंजर्वेशन ऑफ नेचर (आईयूसीएन) द्वारा मूल्यांकन की गई सभी प्रजातियों में से केवल 1 प्रतिशत प्रजातियों का ही निचले स्तर का मूल्यांकन किया गया है और उनमें से कई की विविधता में गिरावट देखी गई है।

उन्होंने कहा कि ऐसे व्यावहारिक कदम हैं जो अब उठाए जा सकते हैं, इस विविधता का बेहतर ढंग से दस्तावेजीकरण करना, जैव विविधता को संरक्षित करना और लोगों की भलाई के लिए इसके योगदान की रक्षा करना है।

नए जीनोमिक उपकरण, उदाहरण के लिए, प्रजातियों के भीतर भिन्नता को जल्दी और व्यवस्थित करने के लिए उपलब्ध हैं। इस भिन्नता को सीधे जैव विविधता आकलन में शामिल किया जा सकता है, जैसे कि आईयूसीएन और जैव विविधता और पारिस्थितिकी तंत्र सेवाओं पर अंतर-सरकारी विज्ञान-नीति मंच द्वारा किया गया।

अध्ययनकर्ताओं ने कहा कि जैव विविधता के इस पहलू के बारे में जानकारी जुटाना, वैश्विक संरक्षण प्रयासों का एक प्रमुख लक्ष्य होना चाहिए। उन्होंने कहा कि तेजी से बदलती दुनिया में, यह विविधता महत्वपूर्ण है ताकि प्रजातियों को अप्रत्याशित भविष्य की परिस्थितियों के अनुकूल बनाया जा सके।