अगली सदी में एक अरब लोगों की मौत की वजह बन जाएगा बदलता मौसम: अध्ययन

मौत से बचने के लिए, औद्योगिक, कृषि, यातायात, आवासीय और घरेलू उपभोक्ताओं के लिए सरकारी कार्यक्रमों द्वारा समर्थित बेहतर ऊर्जा संरक्षण और दक्षता और ऊर्जा का तर्कसंगत उपयोग करना होगा

By Dayanidhi

On: Thursday 31 August 2023
 
फोटो साभार: आईस्टॉक12jav.net12jav.net

एक नए अध्ययन के मुताबिक, साल 2100 तक ग्लोबल वार्मिंग दो डिग्री सेल्सियस तक पहुंच जाती है या इससे अधिक हो जाती है, तो अमीर लोग अगली शताब्दी में लगभग एक अरब गरीब लोगों की मौत के लिए जिम्मेदार होंगे। यह अध्ययन यूनिवर्सिटी ऑफ वेस्टर्न ओंटारियो के शोधकर्ताओं की अगुवाई में किया गया है। 

तेल और गैस उद्योग, जिसमें दुनिया के कई सबसे शक्तिशाली व्यवसाय शामिल हैं, प्रत्यक्ष और अप्रत्यक्ष रूप से 40 फीसदी से अधिक कार्बन उत्सर्जन के लिए जिम्मेदार है। यह अरबों लोगों के जीवन को प्रभावित कर रहा है, जिनमें से कई लोग दुनिया के सबसे दूरदराज के इलाकों में रहते हैं और कम संसाधनों के साथ जीते हैं।

एमडीपीआई नामक पत्रिका में प्रकाशित अध्ययन में आक्रामक ऊर्जा नीतियों का प्रस्ताव दिया गया है, जो कार्बन उत्सर्जन में तत्काल और भारी कमी लाने में सफलता के लिए सुझाव देता है। यह दुनिया भर की अर्थव्यवस्था से कार्बन में कमी या डीकार्बोनाइजेशन में तेजी लाने के लिए सरकार, कॉर्पोरेट और लोगों द्वारा कार्रवाई के ऊंचे स्तर की सिफारिश करती है, जिसका लक्ष्य अनुमानित लोगों की मौतों की संख्या को कम करना है।

अध्ययन के हवाले से प्रमुख अध्ययनकर्ता जोशुआ पीयर्स ने कहा, ऐसी सामूहिक मौत स्पष्ट रूप से अस्वीकार्य है। यह वास्तव में बहुत डरावना है, खासकर हमारे बच्चों के लिए। उन्होंने कहा, जब जलवायु वैज्ञानिक अपने मॉडल चलाते हैं और फिर उन पर रिपोर्ट करते हैं, तो हर कोई नियमों को मानने की बात करता है, क्योंकि कोई भी मौतों के लिए अपने आपको जिम्मेवार नहीं मानना चाहता है। हमने यहां भी ऐसा किया है जो कि अच्छा नहीं है।

वैज्ञानिकों के 180 से अधिक अध्ययनों की समीक्षा, जिसे ऑस्ट्रिया के ग्राज विश्वविद्यालय के रिचर्ड पारनकट द्वारा प्रकाशित किया गया था।

मानव मृत्यु और कार्बन उत्सर्जन की मात्रा : 1,000 टन नियम

अध्ययनकर्ताओं ने पाया कि कार्बन उत्सर्जन की मानव मृत्यु दर पर अध्ययनों की समीक्षा जो 1,000 टन नियम पर आधारित है। जो इस बात का एक अनुमान है कि हर बार लगभग 1,000 टन जीवाश्म कार्बन जलने से भविष्य में समय से पहले मौत हो जाती है।

अध्ययनकर्ता ने कहा, मेगावाट जैसी ऊर्जा संख्याएं हमारे लिए मायने रखती हैं, लेकिन ज्यादातर लोगों के लिए नहीं। इसी तरह, जब जलवायु वैज्ञानिक कार्बन डाइऑक्साइड के प्रति मिलियन भागों के बारे में बात करते हैं, तो ज्यादातर लोगों के लिए इसका कोई मतलब नहीं होता है। 

अध्ययन में कहा गया है कि, यदि आप 1,000 टन के नियम की वैज्ञानिक सहमति को गंभीरता से लेते हैं और संख्याओं को चलाते हैं, तो मानवजनित ग्लोबल वार्मिंग अगली शताब्दी में एक अरब समयपूर्व मौतों के बराबर होगी। जाहिर है, हमें इसे रोकने का तेजी से कम करना होगा।

ऊर्जा नीति के विशेषज्ञ पियर्स ने उम्मीद जताई है कि ग्लोबल वार्मिंग की भाषा और मेट्रिक्स को बदलने और चुनौती देने से, ज्यादा से ज्यादा नीति निर्माता और उद्योग जगत के नेता जीवाश्म ईंधन पर दुनिया की निर्भरता के बारे में कठिन सच्चाइयों को बेहतर ढंग से समझ पाएंगे।

उन्होंने कहा, जैसे-जैसे जलवायु मॉडल के पूर्वानुमान स्पष्ट होते जा रहे हैं, हम बच्चों और भावी पीढ़ियों को जो नुकसान पहुंचाने जा रहे हैं, उसके लिए जिम्मेदार हमारे कामों को माना जा सकता है।

जब इस प्रत्यक्ष संबंध को मान्यता मिल जाती है, तो ग्रीनहाउस गैस उत्सर्जन के लिए जिम्मेदार लोगों को नजरअंदाज नहीं किया जा सकता है। अध्ययन में पाया गया कि भविष्य में ग्रीनहाउस गैस उत्सर्जन को सीमित करने और कई लोगों के जीवन को बचाने के लिए, ऊर्जा दक्षता और नवीकरणीय ऊर्जा के लिए अधिक आक्रामक दृष्टिकोण अपनाकर जीवाश्म ईंधन के उपयोग को जल्द से जल्द रोकने की जरूरत है

अध्ययन के अनुसार, जलवायु परिवर्तन को कम करने के लिए ऊर्जा नीति को निम्नलिखित मुख्य क्षेत्रों में प्राथमिकता दी जानी चाहिए

औद्योगिक, कृषि, यातायात, आवासीय और घरेलू उपयोगकर्ताओं के लिए सरकारी कार्यक्रमों द्वारा समर्थित बेहतर ऊर्जा संरक्षण और दक्षता और ऊर्जा का तर्कसंगत उपयोग करना।

भारी कार्बन ईंधन जिसमें कोयला, तेल और प्राकृतिक गैस को पूरी तरह बदलकर शून्य कार्बन सामग्री वाले ईंधन, यानी बिजली के लिए नवीकरणीय ऊर्जा स्रोतों को अपनाना। जिसमें जलविद्युत, पवन, भू-तापीय, बायोमास और सौर ऊर्जा शामिल है।

कार्बनिक अपशिष्ट प्रबंधन और कार्बन पृथक्करण और पुनर्योजी कृषि सहित सीओ 2 के प्राकृतिक संग्रहण और भंडारण के लिए तकनीकों का विकास करना।

कार्बन सब्सिडी को हटाना

अध्ययनकर्ता ने कहा, इस तरह भविष्य की सटीक भविष्यवाणी करना कठिन है। 1,000 टन का नियम केवल परिमाण का सबसे अच्छा अनुमान है। इससे होने वाली मौतों की संख्या एक व्यक्ति के दसवें हिस्से और प्रति 1,000 टन पर 10 लोगों के बीच होगी। उन्होंने कहा हमें तेजी से कार्य करने की जरूरत है जो अभी बिल्कुल स्पष्ट है।

ग्लोबल वार्मिंग के कारण एक अरब लोगों के लिए जीवन या मृत्यु का मामला है। लगभग हर कोई इस बात से सहमत है कि प्रत्येक मनुष्य का जीवन अमूल्य है, उम्र, सांस्कृतिक या नस्लीय पृष्ठभूमि, लिंग या वित्तीय संसाधनों से स्वतंत्र है। इसलिए, तेजी से ऊर्जा में बदलाव से बहुत कुछ बदलना होगा, जिसे अभी शुरू करना होगा।

Subscribe to our daily hindi newsletter