News Updates
Popular Articles
Videos
  • German government sued over failure to meet climate goals

  • 5 billion people globally exposed to toxic trans fat linked to heart disease: WHO

स्वच्छता की कसौटी पर क्यों विफल हो रहे हैं शहर?

देशभर के 299 शहर ही 2022 में कचरा मुक्त शहर प्रमाणीकरण में उत्तीर्ण हुए

अनाधिकृत विज्ञापनों से पटे शहर खो हो रहे हैं शहरी परिदृश्य और राजस्व

शहरों में लगातार अवैध विज्ञापन सरकार द्वारा संचालित स्वच्छ भारत मिशन को बट्टा लगा रहे हैं

संसद में आज: भारत के 4,372 शहरों तथा शहरी निकायों को खुले में शौच मुक्त घोषित किया गया है

सरकार ने आत्मनिर्भर भारत भारत अभियान (एबीए) के तहत एमएसएमई सहित 20 लाख करोड़ रुपये के विशेष आर्थिक और व्यापक पैकेज की घोषणा की है

आम बजट 2022-23:स्वच्छ भारत मिशन (ग्रामीण) पर फिर से ध्यान देना जरूरी क्यों?

जल-स्रोत में मिलने से पहले मल के उचित निस्तारण के मोर्चे पर काफी कुछ करना अभी बाकी है

जब 2.85 लाख आंगनबाड़ी केंद्रों और 38 हजार स्कूलों में नहीं है शौचालय तो कैसे खुले में शौच मुक्त हुआ भारत!

एक तरफ जहां देश कोविड-19 महामारी से जूझ रहा है वहीं बड़े दुःख की बात है कि अभी भी 285,103 स्कूलों में हाथ धोने की पर्याप्त सुविधा उपलब्ध नहीं ...

कैसे जीतेंगें कोरोना से जंग: 10 में से 3 लोगों के पास घर पर नहीं है हाथ धोने की पर्याप्त सुविधा

अनुमान है कि हाथों की स्वच्छता पर यदि प्रति व्यक्ति हर वर्ष एक डॉलर का निवेश किया जाता है तो उससे लाखों लोगों की जान बचाई जा सकती है

देश को कूड़ामुक्त बनाने का अभियान शुरू करेंगे मोदी

शहरी भारत रोजाना करीब 0.15 टन मिलियन ठोस कचरा पैदा करता है, जिसमें से केवल 68 फीसद नष्ट करने के लिए इकट्ठा किया जाता है

अभी भी खुले में शौच करते हैं दुनिया के 49.4 करोड़ लोग

2015 में देश की करीब 40 फीसदी ग्रामीण आबादी खुले में शौच करती थी, लेकिन 2020 में यह आंकड़ा घटकर 22 फीसदी रह गया ह