Sign up for our weekly newsletter

खुले में शौच मुक्त नहीं हुआ है भारत, एनएसएसओ की रिपोर्ट में खुलासा

दो अक्टूबर 2019 को प्रधानमंत्री ने दावा किया था कि ग्रामीण भारत में 100 फीसदी घरों में शौचालय बन गए हैं, लेकिन एनएसएसओ की रिपोर्ट ने इसके विपरीत आंकड़े जारी किए हैं 

क्लीन सिटी-2: क्यों है भोपाल देश की सबसे साफ राजधानी?

स्वच्छ सर्वेक्षण में भोपाल दो बार दूसरा सबसे साफ शहर रह चुका है, हालांकि वर्ष 2019 में इसकी रैंकिंग फिसलकर 19 रह गई। यह शहर अभी भी देश में सबसे साफ राजधानी का खिताब रखता है

क्लीन सिटी-1: कचरे से चली बस, प्लास्टिक से बना डीजल, इंदौर ऐसे बना सबसे साफ शहर

देश में लगातार तीसरी बार सबसे साफ शहर का दर्जा पाने वाले इंदौर शहर में आखिर ऐसा क्या हो रहा है कि इसे स्वच्छता में सर्वोत्तम माना जाता है? 

ग्रामीण भारत में आज भी महिलाओं के लिए लग्जरी है बाथरूम

आखिर स्वच्छ भारत मिशन के अंतर्गत क्यों नहीं आता बाथरूम, क्या टॉयलेट की तरह बाथरूम का मुद्दा स्वच्छता से जुड़ा नहीं है

 

ओडीएफ मध्यप्रदेश में फिर हुई खुले में शौच करते बच्चे की हत्या

पुलिस की जांच में सामने आया है कि पीड़ित और आरोपी दोनों परिवार आसपास रहते थे और दोनों के कच्चे मकान में शौचालय नहीं बना था

 

स्वच्छ भारत मिशन: भ्रम है ओडीएफ भारत का दावा, मैला ढोने को विवश हो सकते हैं लोग  

देश को 2015 में बताया में गया था कि अनुमानित 62 हजार एमएलडी सीवेज पैदा होता है जिसमें से महज 18 हजार एमएलडी सीवेज का ही उपचार किया जाता है। इसके बाद का आंकड़ा उपलब्ध नहीं है।

ग्राउंड रिपोर्ट: चौंकाने वाली है ओडीएफ घोषित हरियाणा की सच्चाई

अब नहीं होना होगा शर्मसार, खुले में शौच से मिली मुक्ति-4: जून 2017 में ओडीएफ घोषित हरियाणा के कई गांवों में हालात नहीं बदले हैं 

उत्तर प्रदेश में मिशन पूरा पर परिवार से अलग युवाओं के घर में नहीं हैं शौचालय

अब नहीं होना होगा शर्मसार, खुले में शौच से मिली मुक्ति-3 : डाउन टू अर्थ ने स्वच्छ भारत मिशन की सफलता की पड़ताल के लिए ग्राउंड रिपोर्ट की, प्रस्तुत है, उत्तर प्रदेश की जमीनी हकीकत-