Sign up for our weekly newsletter

News Updates
Popular Articles
Videos
  • Animals can feel an upcoming earthquake, says study

  • Visakhapatnam gas leak: LG Polymers neglected safety norms, finds govt probe

लू / शीत लहर

भारत में गर्मी का मौसम शुरू, क्या कम होगा कोरोनावायरस संक्रमण?

अगले 2 सप्ताह महत्वपूर्ण होंगे। इस दौरान मौसम से संबंधित अधिक आंकड़े आएंगे। साथ ही, वायरस, आर्द्रता और अल्ट्रा-वायलेट विकिरण से संबंधित जानकारी भी सामने आएगी

लू / शीत लहर

बढ़ रहे हैं गर्मी व उमस भरे दिन, 2100 तक प्रभावित हो सकते हैं 1.2 अरब लोग

ग्लोबल वार्मिंग की वजह से गर्म व उमस के दिनों की संख्या में लगातार वृद्धि हो रही है

लू / शीत लहर

एक साल पहले लगाया जा सकेगा अल नीनो का पूर्वानुमान, वैज्ञानिकों ने खोजा नया तरीका

वैज्ञानिक रूप से, अल-नीनो प्रशांत महासागर के भूमध्यीय क्षेत्र की उस मौसमी घटना का नाम है, जिसमें पानी की सतह का तापमान सामान्य से ...

लू / शीत लहर

लू की बजाय शीत लहर से हो रही हैं अधिक मौतें, 9 साल में 4500 लोगों की मौत

आंकड़े बताते हैं कि 1980 से लेकर 2018 के दौरान बीते 38 में से 23 साल ऐसे बीते हैं, जब लू की बजाय शीत ...

लू / शीत लहर

बारिश-ओलों ने बढ़ाई किसानों की मुसीबत, आलू-दलहन को नुकसान की आशंका

बेमौसमी बारिश और ओलों ने किसानों को भारी नुकसान पहुंचाया है। विशेषज्ञों का कहना है कि आलू को ब्लाइट रोग का खतरा पैदा हो गया ...

2018 और 19 में दक्षिण अमेरिका में चरम पर पहुंचा आकाशीय बिजली गिरने का सिलसिला

एक तरह ब्राजील में आकाशीय बिजली ने रिकॉर्ड 709 किलोमीटर की दूरी तय की थी| वहीं दूसरी और अर्जेंटीना में बिजली चमकने की एक घटना में चमक 16.73 सेकंड तक दिखाई दी थी

मुआवजे और संवेदना व्यक्त करने से नहीं थमेगी आकाशीय बिजली की मार

बिहार में आकाशीय बिजली गिरने से एक दिन में 83 लोगों की मौत हुई है। हर साल होने वाली इन मौतों को रोकने के लिए सरकारों ने क्या किया?

पूर्वोत्तर में बिगड़ा मौसम का मिजाज: कहीं बाढ़, तो कहीं सूखा

असम के कुछ जिलों मसलन धेमाजी और डिब्रूगढ़ में काफी बारिश हुई है, जबकि मणिपुर और मिजोरम में सामान्य से कम बारिश दर्ज की गई है

मौसम की मार: 5 साल में 8,723 की मौत, 14.796 करोड़ हेक्टेयर क्षेत्र में लगी फसलों का नुकसान

डाउन टू अर्थ की स्टेट ऑफ इंडियाज एनवायरनमेंट 2020 इन फिगर्स रिपोर्ट में भारत में अतिशत मौसमी घटनाओं का विश्लेषण किया जाता है

क्या है हिमालयी क्षेत्र में बदलते मौसम का कारण

विशेषज्ञों का कहना है कि अप्रैल-मई में हिमालयी क्षेत्र में मौसम का पैटर्न बदल रहा है, इसलिए इसके व्यापक अध्ययन की जरूरत है

अंफान चक्रवात अंडमान में दक्षिण-पश्चिम मानसून को आगे बढ़ा सकता है : आईएमडी

2019 में मानसून को लेकर आने वाली व्यापारिक पवनों को चक्रवात ने बाधा पहुंचाई थी जिसके कारण 21 जून तक मानसून केरल, तमिलनाडु और कर्नाटक में ही बंधा रहा। 

अप्रैल में ही बिहार में आकाशीय बिजली का तांडव, एक सप्ताह में 19 की मौत

26 अप्रैल को सारण, जमुई और भोजपुर में आकाशीय बिजली गिरने से 12 किसानों की मौत हो गई