Sign up for our weekly newsletter

News Updates
Popular Articles
Videos
  • It’s not honey: How the ‘magic syrup’ beat Indian testing protocols

  • Role of veterinarians in reducing antibiotic misuse in animals: A conversation with Ntombi Mudenda

वायु प्रदूषण

कोविड वाली दीपावली : रोक के बावजूद दगे पटाखे, दिल्ली-एनसीआर बना धुंध और धुएं का चैंबर

शाम से ही दिल्ली और आस-पास शहरों में पटाखे फोड़े जाने लगे और वायु गुणवत्ता बिगड़ना शुरु हो गई जो कि इस वक्त गंभीर स्तर पर पहुंच गई है। लोगों को घर से बाहर न निकलने की सलाह दी गई है। 

वायु प्रदूषण

हमें दिवाली के दौरान पटाखे से क्यों बचना चाहिए

एक वीडियो में देखिए, क्यों हमें दिवाली पर पटाखों से दूर रहना चाहिए 

वायु प्रदूषण

दिवाली से पहले जानें यह रहस्य, हमारी जिंदगी में कैसे आए पटाखे?

चीन में बारूद का आविष्कार और 15वीं शताब्दी में भारत में इसके आने के बाद पटाखों का चलन शुरू हुआ

वायु प्रदूषण

शहरों में बढ़ते वायु प्रदूषण को और बढ़ा रही हैं डामर से बनी सड़कें

गर्मियों के दौरान जब तापमान 40 डिग्री से ऊपर चला जाता है तो डामर से बनी सड़कें आर्गेनिक एयरोसोल उत्पन्न करने लगती है

जल प्रदूषण

पर्यावरण मुकदमों की डायरी: भूजल और मिट्टी को प्रदूषित कर रही गुजरात की इस कंपनी को एनजीटी ने दिए कड़े निर्देश

देश के विभिन्न अदालतों में विचाराधीन पर्यावरण से संबंधित मामलों में क्या कुछ हुआ, यहां पढ़ें –

मानव जनित शोर पहुंचा रहा है कई जीवों के संचार में बाधा : शोध

मानवों ने न सिर्फ जैव-विविधता को नुकसान पहुंचाया है बल्कि जीवों को पनपने के लिए संचार जैसे जरूरी उद्यम में भी खलल पैदा की है। इसका खामियाजा कई प्रजातियों को उठाना पड़ रहा है।

प्लास्टिक कचरे से अलग हो जाएगा पॉलिमर, इंजीनियरों ने बनाया विशेष घोल

विस्कॉन्सिन-मैडिसन विश्वविद्यालय के इंजीनियरों ने एक विशेष घोल (सॉल्वैंट) का उपयोग करके अनेक परतों से बनी प्लास्टिक सामग्रियों में से पॉलिमर को निकालने का तरीका विकसित किया है।

यह कठिन समय आयोग गठन से ज्यादा वायु प्रदूषण से मर रहे लोगों को बचाने का है : एमसी मेहता

स्वच्छ हवा के लिए कानूनी लड़ाई कभी सिर्फ दिल्ली के लिए नहीं लड़ी गई, बल्कि यह देश भर के लिए रही है। हमेशा ही दिल्ली और उसके आस-पास के शहरों में प्रदूषण की बातचीत की गई है। 

स्वास्थ्य को वायु प्रदूषण के किस पार्टिकुलेट मैटर से सबसे अधिक खतरा है

शोधकर्ताओं ने मास स्पेक्ट्रोमेट्री तकनीक का उपयोग करते हुए पार्टिकुलेट मैटर की संरचना का विश्लेषण किया और पता लगाया कि ये स्वास्थ्य के लिए किस कदर खतरनाक हैं

पर्यावरण मुकदमों की डायरी: ओमेक्स की आवासीय परियोजना के कारण नदी का प्राकृतिक प्रवाह रुका

देश के विभिन्न अदालतों में विचाराधीन पर्यावरण से संबंधित मामलों में क्या कुछ हुआ, यहां पढ़ें-

पर्यावरण मुकदमों की डायरी: हाईवे के किनारे बढ़ते अतिक्रमण पर एनएचएआई ने दायर किया हलफनामा

पर्यावरण से संबंधित मामलों में सुनवाई के दौरान क्या कुछ हुआ, यहां पढ़ें-

जहरीले रसायन वाले पटाखों से बनी रही दूरी तो सभी के लिए हैप्पी हो सकती है यह दीपावली

पटाखों के रसायन कहीं नहीं जाते, यह हमारे पास ही वातावरण और खान-पान में शामिल रहते हैं। ऐसे में यह कोई घंटे-दो घंटे का मसला नहीं है, यह गंभीर स्वास्थ्य समस्या का मामला बन सकता है।