News Updates
Popular Articles
Videos
  • Anil Agarwal Dialogue 2024: Welcome Note

  • Is legal assurance of MSP for farmers viable? What are its implications?

भूजल

अगले 20 से 40 सालों में भारत में तीन गुणा बढ़ जाएगी भूजल में गिरावट की दर, ये हैं वजह

बढ़ते तापमान के साथ भारत में सिंचाई के लिए भूजल की मांग कहीं ज्यादा बढ़ जाएगी। जल उपलब्धता में आने वाली गिरावट से एक तिहाई लोगों की जीविका पर खतरा मंडराने लगेगा

जल संरक्षण

बूंद-बूंद बचत, भाग पांच: जैसिंधर गांव - शरणार्थियों ने संजोया जल

गांव में वर्षा से भरपूर जल संचय किया जाता है, यही कारण है कि अब गांव के मवेशी भी इसी अमृत जल को पी रहे ...

जल संरक्षण

बूंद-बूंद बचत, भाग चार: पाकिस्तान से सटे इस गांव ने बचाया साल भर के लिए पानी

भारत-पाक सीमा से लगे इस गांव में मई-जून की बारिश सामान्य से तीन गुना अधिक दर्ज की गई

जल संरक्षण

बूंद-बूंद बचत, भाग-तीन: अगले दो साल तक नहीं होगी खेतों में सिंचाई के लिए पानी की किल्लत

इस साल हुई बारिश ने पिछले सौ साल का रिकॉर्ड तोड़ दिया तो लोग भी इस पानी को सहेजने में पीछे नहीं रहे

जल संरक्षण

बूंद-बूंद बचत, भाग-दो: एनीकट पहुंचा बारिश का पानी तो पूजा के लिए दौड़े लोग

राजस्थान के ब्यावर जिले के गांव बर में लोगों ने बारिश के पानी इतना सहेज कर रख लिया है कि अगले छह माह तक ...

भूजल में आर्सेनिक और फ्लोराइड का नहीं हो रहा प्रभावी उपचार, एनजीटी ने मांगी रिपोर्ट

सीजीडब्ल्यूबी के पास देश में कुल 16 केमिकल लैबरोट्रीज हैं, इनमें से 10 लैब एनएबीएल से प्रमाणित हैं जहां हर साल करीब 27500 से 32500 तक पानी के नमूनों की जांच की जाती है। 

छोटी जल आपूर्ति सुविधाओं में सुधार के लिए डब्ल्यूएचओ ने जारी किए नए दिशानिर्देश

इन दिशानिर्देशों का उद्देश्य छोटी जल आपूर्ति सुविधाओं के पानी की गुणवत्ता में सुधार करने के साथ-साथ सुरक्षित और विश्वसनीय जल आपूर्ति सुनिश्चित करना है

कृष्णा नदी प्रदूषण: सांगली मिराज और कुपवाड सिटी नगर निगम पर 90 करोड़ का जुर्माना

एनजीटी ने बीरभूम में खनन गतिविधियों के चलते हुए नुकसान की भरपाई करने और बहाली के लिए आवश्यक कदम उठाने के भी निर्देश दिए हैं

किसे फायदा पहुंचाने के लिए हो रहा है जल अधिनियम में संशोधन, विशेषज्ञों ने उठाए सवाल

पर्यावरण मंत्री ने संसद में विधेयक पेश करते हुए उद्योगों को बढ़ावा देने, पर्यावरण संरक्षण में सुधार का दावा किया

हिमाचल प्रदेश: सरकारी पेयजल परियोजना का क्यों विरोध कर रहे हैं 50 ग्राम पंचायतों के लोग?

ग्रामीणों का आरोप है कि अदाणी समूह की कंपनी अंबुजा सीमेंट के फायदे के लिए यह परियोजना बनाई जा रही है

ग्राउंड रिपोर्ट: लंबी अवधि की धान का मोह क्यों नहीं छोड़ रहे पंजाब के किसान?

पंजाब के जिन इलाकों में लंबी अवधि की धान लगाई जा रही है, वहां न केवल पानी बल्कि मिट्टी को भी नुकसान पहुंच रहा है

नाइट्रोजन प्रदूषण से बढ़ता जल संकट, भारत में पहले ही गंभीर रूप ले चुकी समस्या

आशंका है कि 2050 तक भारत सहित वैश्विक स्तर पर नदियों के एक तिहाई उप-बेसिनों को नाइट्रोजन प्रदूषण के चलते साफ पानी की भारी किल्लत का सामना करना पड़ सकता है

ग्राउंड रिपोर्ट: पानी बचाने के लिए आगे आए हरियाणा के किसान

मांग और बाजार उपलब्ध होने के कारण किसान धान नहीं छोड़ना चाहता, लेकिन पानी बचाने का एक और तरीका है