Sign up for our weekly newsletter

News Updates
Popular Articles
Videos
  • SC Mande: It is too early to say that the UK’s SARS-CoV-2 variant is not in India

  • Paris Accord and beyond, what is the road to COP26 Glasgow?

वन अधिकार

अपनी जन्मभूमि में 'अपराधी' बन कर रह रहे हैं आदिवासी

आदिवासी कहते हैं कि धीरे-धीरे हमें विश्वास होता गया कि अपनी चुनी हुई सरकार और सरकार की चुनी हुई कंपनी में कोई भी अब अपना नहीं है

जैव विविधता

लुप्त होती जा रही प्रजातियां को बचा सकते हैं संरक्षित क्षेत्र

क्वींसलैंड विश्वविद्यालय के नेतृत्व वाली शोध टीम ने खुलासा किया है कि कई लुप्तप्राय स्तनपायी प्रजातियां संरक्षित क्षेत्रों पर निर्भर हैं। संरक्षित क्षेत्रों के ...

जैव विविधता

अजब-गजब: सबसे गर्म ल्यूट रेगिस्तान के ताजे पानी में खोजी गई क्रस्टेशिया की नई प्रजाति

नई पहचानी गई प्रजातियां जीनस फालोक्रिप्टस से संबंध रखती है

जैव विविधता

कैसे कूड़ा और सड़कें बनी लुप्तप्राय आर्कटिक लोमड़ी की जान के लिए आफत

ऊंचे पहाड़ों पर रहने वाले जानवरों की प्रजातियों के आवास, सड़कों के निर्माण के कारण लगातार कम और खत्म हो रहे हैं

वन

मैंग्रोव वनों के संरक्षण के प्रयासों से दिखी कार्बन संग्रहण में बढ़ोत्तरी: अध्ययन

अध्ययन से पता चलता है कि वास्तव में दुनिया भर में वनों की कटाई को धीमा करने में काफी सफलता मिली है

मारी गई डॉल्फिन थी गर्भवती, पोस्टमार्टम में मिला भ्रूण

प्रशासन इस बात को छुपा रहा है कि युवकों द्वारा मारी गई डॉल्फिन गर्भवती थी

बड़ी मछली समझकर गंगा डॉल्फिन को मारा, तीन गिरफ्तार

प्रधानमंत्री की अध्यक्षता में दिसम्बर 2019 में राष्ट्रीय गंगा परिषद (एनजीसी) की पहली बैठक में प्रोजेक्ट टाइगर की तर्ज पर 'प्रोजेक्ट डॉल्फिन' को मंजूरी दी गई

वन गुर्जरों के साथ एक दिन

सरकार हमारे और जंगल के बीच के रिश्ते को नहीं समझती। जंगल बिना हम नहीं और हमारे बिना जंगल नहीं

क्या अब उत्तराखंड के जंगलों में 12 महीने लगेगी आग?

उत्तराखंड वन विभाग के मंत्री हरक सिंह रावत ने कहा है कि राज्य में अब फायर सीजन सिर्फ फरवरी से जून तक नहीं होगा बल्कि सालभर होगा

अच्छे फूलों वाली जगहों को याद रखते हैं बड़े भौंरे

एक नए अध्ययन में कहा गया है कि भौंरा हमेशा किसी खास फूल पर ही बैठता हैं

खेती पर बढ़ते दबाव से जीवों की 20 हजार प्रजातियां हो सकती हैं प्रभावित

शोध में अनुमान लगाया कि बढ़ती वैश्विक आबादी को खिलाने के लिए कृषि में विस्तार करने से स्तनधारियों, पक्षियों और उभयचरों की लगभग 20 हजार प्रजातियों के प्रभावित होने की आशंका है

बीता साल, नया साल: शांति सबको पसंद, लेकिन इतनी भी नहीं!

शुरुआत के कुछ दिन, एक बहुत भयभीत करने वाली शान्ति हवा में, जो चित्त को विचलित कर देती और बाहर पुलिस की गाड़ियों की आवाज

दुनिया की 31 फीसदी ओक प्रजातियों पर मंडरा रहा है विलुप्त होने का खतरा

दुनिया भर में ओक की 31 फीसदी प्रजातियों पर विलुप्त होने का खतरा मंडरा रहा है, जिसके लिए जलवायु परिवर्तन, कीटों, कृषि, जंगलों के विनाश और शहरीकरण को जिम्मेवार माना जा रहा है