News Updates
Popular Articles
Videos
  • The cleanest cities of India: The transgender community and women keep Paradeep clean

  • What happened after the volcano at Tonga

ओजोन प्रदूषण क्या है, इसका हम पर और पर्यावरण पर किस तरह के असर पड़ते हैं?

स्टेट ऑफ एयर रिपोर्ट 2020 के मुताबिक दुनिया भर में क्रोनिक ऑब्सट्रक्टिव पल्मोनरी डिजीज (सीओपीडी) से होने वाली हर 9 में से 1 मौत ओजोन के संपर्क में आने ...

क्या अगले 34 वर्षों में हर रसोई में होगा स्वच्छ ईंधन, दुनिया की एक तिहाई आबादी अभी भी है जिससे दूर

आंकड़ों के अनुसार वैश्विक स्तर पर भोजन तैयार करने के लिए स्वच्छ ईंधन और तकनीक का उपयोग हर साल एक फीसदी की दर से बढ़ रहा है

सर्दियों में भी बढ़ा दक्षिण भारत के राज्यों में वायु प्रदूषण का स्तर: सीएसई

अनुकूल मौसम के बावजूद अब दक्षिण भारतीय राज्यों में वायु प्रदूषण के स्तर में लगातार बढ़ोतरी देखी जा रही है

पश्चिमी राज्य महाराष्ट्र और गुजरात में भी चिंताजनक हो रही है वायु गुणवत्ता: सीएसई

रिपोर्ट के अनुसार वायु गुणवत्ता के स्तर को हासिल करने के लिए शहरों को अपने पीएम 2.5 के वार्षिक स्तर में 40 फीसदी तक की कटौती करनी होगी

लॉकडाउन के बाद एक बार फिर दमघोंटू हो रही है पश्चिम बंगाल, बिहार और ओडिशा में हवा: सीएसई

रिपोर्ट के मुताबिक पूर्वी भारत में शहरों को वायु गुणवत्ता मानकों को हासिल करने के लिए अपने पीएम 2.5 के वार्षिक औसत स्तर में 50 फीसदी तक की कटौती करने की जरुरत है 

19 वर्षों में बेंगलुरु, पुणे और सूरत में पीएम 2.5 के कारण हुई 200 फीसदी अधिक मौतें

2019 के दौरान जहां दिल्ली में पीएम2.5 के कारण 29,900 लोगों की जान गई थी। वहीं कोलकाता में यह आंकड़ा 21,380 और मुंबई में 16,020 दर्ज किया गया था

जहरीली हवा: हर साल 18.5 लाख बच्चों को अस्थमा का मरीज बना रहा है हवा में घुला नाइट्रोजन डाइऑक्साइड

बच्चों में नाइट्रोजन डाइऑक्साइड के कारण होने वाले अस्थमा के करीब दो तिहाई मामले शहरी क्षेत्रों में दर्ज किए गए थे, जिनका कुल आंकड़ा 12.2 लाख था

उत्तर भारत ही नहीं, मध्य भारत में भी जहरीली हो चुकी है हवा: सीएसई

सीएसई द्वारा जारी हालिया रिपोर्ट से पता चला है कि मध्य भारत में सिंगरौली और ग्वालियर की हवा सबसे ज्यादा दूषित हो चुकी है