Sign up for our weekly newsletter

बिल्लियां कोविड -19 से संक्रमित हो सकती हैं और अन्य में भी संक्रमण फैला सकती हैं: रिसर्च

एक अध्ययन में अमेरिका और जापान के वैज्ञानिकों ने बताया कि बिल्लियां आसानी से कोरोनावायरस से संक्रमित हो सकती हैं। ये अन्य बिल्लियों में वायरस फैला सकती हैं

By Dayanidhi

On: Thursday 14 May 2020
 
Photo: Pixabay
Photo: Pixabay Photo: Pixabay

एक अध्ययन में अमेरिका और जापान के वैज्ञानिकों ने बताया कि बिल्लियां आसानी से कोरोनावायरस से संक्रमित हो सकती हैं। ये अन्य बिल्लियों में वायरस फैला सकती हैं। अमेरिका की यूनिवर्सिटी ऑफ विस्कॉन्सिन स्कूल ऑफ वेटरनरी मेडिसिन के पैथोबायोलॉजिकल साइंसेज के प्रोफेसर योशीहिरो कावाओका के नेतृत्व में यह अध्ययन किया गया। 

शोधकर्ताओं ने तीन बिल्लियों को सार्स-सीओवी-2 से बीमार व्यक्ति के साथ रखा। अगले दिन, शोधकर्ताओं ने बिल्लियों के नाक मार्ग से स्वैब के नमूने लिए और परीक्षण किया। परीक्षण से दो जानवरों में वायरस होने का पता चला। तीन दिनों के भीतर, सभी बिल्लियां वायरस से संक्रमित पाई गईं। यह शोध न्यू इंग्लैंड जर्नल ऑफ मेडिसिन में प्रकाशित हुआ है।

जिस दिन पहले तीन बिल्लियां वायरस ग्रसित हुई थीं, उसके बाद शोधकर्ताओं ने प्रत्येक पिंजरे में एक और बिल्ली को रखा। ये बिल्लियां पहले से सार्स-सीओवी-2 वायरस से ग्रसित नहीं थी।

प्रत्येक दिन, शोधकर्ताओं ने वायरस की उपस्थिति जानने के लिए सभी छह बिल्लियों से नाक और गुदा (रेक्टल) स्वैब के नमूने लिए। दो दिनों के भीतर, पहले से असंक्रमित बिल्लियों में से एक बिल्ली वायरस फैला रही थी, जिसके नाक के स्वैब के नमूनों से पता चला और छह दिनों के भीतर सभी बिल्लियों में वायरस पाया गया। जबकि रेक्टल स्वैब के नमूनों में से किसी में भी वायरस नहीं था।

प्रत्येक बिल्ली छः दिनों तक अपने नाक से सार्स-सीओवी-2 फैला रही थी। हांलाकि वायरस घातक नहीं था और बिल्लियों में से किसी में भी बीमारी के लक्षण नहीं दिखाई दे रहे थे। टोक्यो विश्वविद्यालय के कावाओका ने कहा हमारे लिए यह एक बड़ी खोज थी- कि बिल्लियों में कोरोना के लक्षण नहीं थे।

निष्कर्ष बताते हैं कि बिल्लियां वायरस से संक्रमित हो सकती हैं, यह तभी संभव है जब ये सार्स-सीओवी-2 से संक्रमित लोगों या अन्य बिल्लियों के सम्पर्क में आती हैं। यह चीनी एकेडमी ऑफ एग्रीकल्चरल साइंसेज के वैज्ञानिकों द्वारा साइंस पत्रिका में प्रकाशित एक अध्ययन का अनुसरण करता है। इसमें बताया गया था कि बिल्लियां (और फेरोइट) वायरस से संक्रमित हो सकती हैं और संक्रमण भी फैला सकती हैं।

शोधकर्ताओं ने सलाह दी है कि कोविड-19 के लक्षणों वाले लोगों को बिल्लियों के संपर्क में आने से बचना चाहिए। वे बिल्ली, पालतू जानवरों को घर के अंदर रखने की सलाह भी देते हैं, ताकि उनके बिल्ली के संपर्क अन्य लोगों और जानवरों के साथ हो सके।

वायरस फैलाने में संक्रमित मनुष्य एक दूसरे के लिए सबसे बड़ा खतरा है। कोई सबूत नहीं है कि बिल्लियां आसानी से मनुष्यों में वायरस फैलती हैं, और ही ऐसे दस्तावेज हैं जिनमें मनुष्य बिल्लियों के संपर्क के कारण कोविड -19 से बीमार हो गए हों।

हालांकि, वायरस से संक्रमित मनुष्यों के साथ निकट संपर्क के कारण, बिल्लियों के संक्रमित होने की पुष्टि की गई है। ब्रोंक्स चिड़ियाघर में कई बड़ी बिल्लियों का परीक्षण करने पर उनमें वायरस पाया गया है।

इस कोरोना महामारी के समय में, पालतू जानवरों के मालिकों को क्या करना चाहिए? यूथ वेटरनरी केयर में नैदानिक मामलों के एसोसिएट डीन रुथने चुन ने निम्नलिखित सुझाव दिए हैं:

  • यदि आपका पालतू जानवर आपके साथ घर के अंदर रहता है और किसी भी कोविड-19 पॉजिटिव व्यक्ति के संपर्क में नहीं है, तो यह आपके और आपके पालतू जानवर के लिए सुरक्षित है, आप उनसे संपर्क कर सकते हैं।
  • यदि आप कोविड-19 पॉजिटिव हैं, तो आपको वायरस के संपर्क से बचाने के लिए अपने पालतू जानवरों के साथ संपर्क को सीमित करना चाहिए।

शोधकर्ताओं ने कहा हमेशा की तरह, जानवरों के मालिकों को अपनी आपातकालीन तैयारियों की योजना में पालतू जानवरों और अन्य जानवरों को भी शामिल करना चाहिए। इसमें भोजन और दवाइयों की दो सप्ताह की आपूर्ति भी शामिल है।