Sign up for our weekly newsletter

कोविड-19: यूरोप के लोगों में विटामिन डी कम होने के कारण हो रही हैं अधिक मौतें

एक अध्ययन में 20 यूरोपीय देशों में विटामिन-डी के निम्न स्तर, संक्रमित मरीजों की संख्या और उनकी मृत्यु दर की तुलना की गई

By Dayanidhi

On: Monday 11 May 2020
 
Photo: Pixabay
Photo: Pixabay Photo: Pixabay

एक नए अध्ययन के अनुसार कोरोना संक्रमण का खतरा उन लोगों को अधिक हो सकता है जिनमें विटामिन-डी की कमी है। साथ ही ऐसे लोगों की मौत की आशंका भी बढ़ जाती है। अध्ययन में 20 यूरोपीय देशों में विटामिन-डी के निम्न स्तर, संक्रमित मरीजों की संख्या और उनकी मृत्यु दर की तुलना की गई है। शोधकर्ताओं का दावा है कि कोरोना वायरस और विटामिन-डी के बीच गहरे संबंध हैं। 

यह शोध यूके की एंग्लिया रस्किन यूनिवर्सिटी (एआरयू) के डॉ. ली स्मिथ और क्वीन एलिजाबेथ हॉस्पिटल किंग्स लिन एनएचएस फाउंडेशन ट्रस्ट के यूरोलॉजिस्ट डॉ. पेट स्मिथ के नेतृत्व में किया गया है। शोध एजिंग क्लिनिकल एंड एक्सपेरिमेंटल रिसर्च जर्नल में प्रकाशित हुआ है।

अध्ययन बताते हैं कि विटामिन डी का स्तर कम होने से सांस लेने वाले मार्ग में संक्रमण बढ़ सकता है। विटामिन डी सफेद रक्त कोशिकाओं की प्रतिक्रिया को नियंत्रित करता है, जिससे उन्हें बहुत अधिक साइटोकिन्स जारी करने से रोका जाता है। कोविड-19 वायरस को प्रो-इंफ्लेमेटरी (जलन, सूजन) साइटोकिन्स की अधिकता के कारण के लिए जाना जाता है। साइटोकिन्स - कोशिका को महत्वपूर्ण संकेत देने वाली छोटे प्रोटीनों की एक विस्तृत श्रेणी है।

इटली और स्पेन में कोविड-19 से अधिक मौतें हुई है, नए अध्ययन से पता चलता है कि दोनों देशों में अधिकांश उत्तरी यूरोपीय देशों के लोगों की तुलना में दक्षिणी यूरोप में विटामिन डी का स्तर कम पाया गया है। क्योंकि दक्षिणी यूरोप में अधिकतर लोग, विशेष रूप से बुजुर्ग, तेज धूप से अपने आपको बचाते हैं, जिससे उनमें प्राकृतिक रूप से विटामिन डी की कमी पाई जाती है। 

विटामिन डी का उच्चतम स्तर उत्तरी यूरोप के लोगों में पाया जाता है, क्योंकि वे कॉड लिवर ऑयल और विटामिन डी सप्लीमेंट्स का खाने में उपयोग करते हैं, और संभवतः वे धूप में भी बैठते हो। यूरोप में स्कैंडिनेवियाई राष्ट्र कोविड-19 के सबसे कम मामलों और सबसे कम मृत्यु दर वाले देशों में से एक है।

अध्ययन में बताया गया है कि इटली में 70 वर्ष या उससे अधिक उम्र की 76% महिलाओं में विटामिन-डी का स्तर 30 नैनोमोल्स प्रति लीटर (एनएमओएल/एल) पाया गया जो कि 26 एनएमओएल/एल कम है। यहां बड़े पैमाने पर मौतें हुई हैं। इसी तरह स्विट्जरलैंड, स्पेन में विटामिन-डी का स्तर कम पाया गया है, ये सभी देश कोरोना वायरस से सबसे अधिक प्रभावित हैं।

विटामिन डी हमें श्वसन संक्रमण से बचाने में मदद करता है। अधिक आयु के लोग जिनमें विटामिन डी की सबसे अधिक कमी थी वे कोविड-19 से भी सबसे अधिक प्रभावित पाए गए हैं।

शोधकर्ताओं ने सुझाव दिया कि कोविड-19 संक्रमित रोगियों में विटामिन डी के स्तर को देखते हुए, उन्हें विटामिन डी की खुराक दी जानी चाहिए ताकि वे संक्रमण से उबर सकें।