वैज्ञानिकों ने एक विशेष प्रोटीन की पहचान की, मलेरिया की नए तरीके से उपचार में मिलेगी मदद

मलेरिया परजीवी के इन प्रक्रियाओं को समझने से यह जानने में मदद मिलेगी कि वह पर्यावरणीय गड़बड़ी के अनुरूप कैसे ढलता है।

By Dayanidhi

On: Thursday 16 December 2021
 
वैज्ञानिकों ने एक विशेष प्रोटीन की पहचान की, मलेरिया की नए तरीके से उपचार करने में मिलेगी मदद
फोटो : विकिमीडिया कॉमन्स फोटो : विकिमीडिया कॉमन्स

लखनऊ के सीएसआईआर-सेंट्रल ड्रग रिसर्च इंस्टीट्यूट की डॉ. नीति कुमार ने अपने शोध टीम के साथ मिलकर एक विशेष प्रोटीन की पहचान की है। यह प्रोटीन मलेरिया के इकलौते माइटोकॉन्ड्रियन के आकार और कार्य को प्रभावित करता है। इससे यह जानने में मदद मिलेगी कि परजीवी कैसे अपने आपको मजबूत बनाता है।

मलेरिया परजीवी के इन प्रक्रियाओं को समझने से यह भी जानने में मदद मिलेगी कि वह पर्यावरणीय गड़बड़ी के अनुरूप कैसे ढलता है। दवा-प्रेरित विषाक्तता (फेनोटाइपिक दवा प्रतिरोध) को कम करता है, उपचार के पूरा होने के बाद संक्रमण को दोबारा कैसे बढ़ावा देता है।

मलेरिया जीव विज्ञान न केवल जैव रासायनिक या आणविक जांच के दृष्टिकोण से एक दिलचस्प क्षेत्र है, बल्कि यह कोशिका जीव विज्ञान या ऑर्गेनेल-जीव विज्ञान प्रश्नों को हल करने में भी मदद करता है।

यह इंट्रासेल्युलर परजीवी अनोखे ऑर्गेनेल जटिलता और विचलन प्रदर्शित करता है। इसमें एक एकल माइटोकॉन्ड्रियन है जो नाटकीय रूप से बदलवाओं से गुजरता है, एक एपिकोप्लास्ट (बिना -प्रकाश संश्लेषक, प्लास्टिड), बहुत गतिशील एंडोप्लाज्मिक रेटिकुलम और लाइसोसोम होता है।

अब तक मानव मलेरिया परजीवियों में जैवजनन, विभाजन, इन जीवों में सुधार से संबंधित प्रश्नों का प्रायोगिक शोध बहुत सीमित है। परजीवी जीवों में विखंडन-संलयन प्रक्रियाओं के बारे में समझना, विशेष रूप से माइटोकॉन्ड्रियन-ईआर-लाइसोसोम ऑर्गेनेल संपर्कों के लिए, स्पष्ट नहीं रहता है।

इस क्षेत्र में शोध करने के लिए, उनका समूह पर्यावरणीय तनाव और नशीली दवाओं से प्रेरित विषाक्तता के दौरान माइटोकॉन्ड्रियल गतिशीलता और अंतर-ऑर्गेनेल संचार की जांच करने की कोशिश कर रहा है।

डॉ नीति ने कहा फार्मास्युटिकल कंपनियों के लिए, परजीवी रोग निवेश के लिए कम प्राथमिकता वाले क्षेत्र हैं, इसलिए, महत्वपूर्ण परजीवी मार्गों की जांच के लिए निरंतर शैक्षणिक अनुसंधान प्रयासों की आवश्यकता होती है। जो उभरती हुई दवा प्रतिरोध से निपटने के लिए मलेरिया-रोधी हस्तक्षेप के लिए वैकल्पिक जगहों या नई दवाएं बनाने में मदद कर सकते हैं।

डॉ. नीति का शोध समूह यह समझने के लिए बहु-आयामी दृष्टिकोणों का उपयोग कर रहा है कि कैसे जीनोम और प्रोटेम रखरखाव वाले रास्ते के संरचनात्मक, कार्यात्मक रूप से अलग-अलग मलेरिया परजीवी को जीवित रहने में फायदा पहुंचाता हैं।

यह बहुत ही पेचीदा है कि जीनोटॉक्सिक और प्रोटियोटॉक्सिक तनाव की कमजोरी के बावजूद, परजीवी प्रतिकूल परिस्थितियों में भी सेलुलर होमियोस्टेसिस को बनाए रखता है और मच्छर वेक्टर और मानव मेजबान द्वारा लगाए गए प्रतिरक्षा निगरानी का सामना करने में सक्षम है।

शोध के अलावा, उनका समूह मलेरिया-रोधी दवा खोजने के कार्यक्रम और ओपन-सोर्स ड्रग डिस्कवरी पहल भी शामिल है। उनका शोध समूह दवा प्रतिरोधी मलेरिया के खिलाफ नई दवाओं की पहचान करने के लिए औषधीय रसायन विज्ञान परिदृश्य की खोज में भाग ले रहा है। हस्तक्षेप के वैकल्पिक स्थलों का मूल्यांकन करने के लिए उनके संभावित तरीके की जांच करता है।

उन्होंने बताया कि परजीवी जीव विज्ञान के जिज्ञासा-संचालित अनुसंधान अन्वेषणों के माध्यम से उत्पन्न जानकारी को अन्य मानव रोगजनकों और मेजबान-रोगज़नक़ के परस्पर प्रभाव के बारे में पता लगाया जा सकता है।

Subscribe to our daily hindi newsletter