भारत में डेल्टा सब वेरिएंट एवाई.4.2 के 18 मामलों की पुष्टि

देश में 5 दिसंबर 2021 तक डेंगू के कुल 1,77,695 मामले और जीका वायरस के 237 मामले सामने आए हैं।

By Madhumita Paul, Dayanidhi

On: Friday 10 December 2021
 
Coronavirus. Photo: Wikimedia Commons

भारत में कोविड-19 के नए डेल्टा वेरिएंट एवाई.4.2 के 18 मामले सामने आ चुके हैं। यह जानकारी 10 दिसंबर को स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय में राज्य मंत्री भारती प्रवीण पवार ने लोकसभा में दी। 

लोकसभा में सदस्य कलानिधि वीरास्वामी ने पूछा था कि क्या सरकार को पता है कि भारत में कोविड-19 की तीसरी लहर के डर के बीच डेल्टा वेरिएंट एवाई.4.2 के नए मामले सामने आए हैं। यह वेरिएंट यूनाइटेड किंगडम में तेजी से फैल रहा है। 

इसके जवाब में पवार ने बताया कि देश में अब तक पाए गए एवाई.4.2 के 18 मामलों में से (3 दिसंबर 2021 तक), दस मामले गुजरात के हैं, चार मामले तमिलनाडु के हैं, दो असम के हैं, और एक-एक महाराष्ट्र और तेलंगाना से हैं। 1 उन्होंने बताया कि वायरस के ऐसे म्युटेशन या बदलाव के रूप विकसित होने के आसार हैं क्योंकि ये सार्स -सीओवी-2 के सभी वायरसों की तरह समय के साथ विकसित होता है। 

स्क्रब टाइफस के कुल 497 मामले 

भारती प्रवीण पवार ने यह भी बताया कि भारत सरकार ओडिशा राज्य में स्क्रब टाइफस रोग की घटनाओं से अवगत है। 2021 में ओडिशा के विभिन्न जिलों से स्क्रब टाइफस के कुल 497 मामले सामने आए हैं। वर्तमान में जिन जिलों से स्क्रब टाइफस के मामले आए हैं उनमें कोरापुट, रायगडा, मलकानगिरी और नवरंगपुर शामिल हैं। इनमें से नवरंगपुर में 2021 में 43 मामले दर्ज किए हैं।

वेक्टर जनित रोग

देश में 5 दिसंबर 2021 तक डेंगू के कुल 1,77,695 मामले और जीका वायरस के 237 मामले सामने आए हैं। यह आज स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्री मनसुख मंडाविया ने लोकसभा में बताया।

2021 में जीका वायरस संक्रमण के मामले चार राज्यों यानी उत्तर प्रदेश, महाराष्ट्र, केरल और दिल्ली में सामने आए हैं। इन राज्यों में सबसे ज्यादा मामले उत्तर प्रदेश में सामने आए हैं। मंडाविया ने कहा कि कुल 8627 नमूनों का परीक्षण किया गया, जिनमें से 152 पॉजिटिव पाए गए, जिनकी पॉजिटिविटी दर 1.7 प्रतिशत है।

कासरगोड में एंडोसल्फान पीड़ित

केरल सरकार द्वारा दी गई जानकारी के मुताबिक केरल के कासरगोड जिले में एंडोसल्फान प्रभावित पीड़ितों और उनके बच्चों को वित्तीय सहायता, मुफ्त राशन, उपचार, पेंशन, शैक्षिक छात्रवृत्ति, बैंक ऋण राइट-ऑफ आदि जैसे विभिन्न लाभ प्रदान किए गए हैं, यह आज स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय में राज्य मंत्री भारती प्रवीण पवार ने लोकसभा में बताया।

पवार ने कहा कि अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान की सहायता से एंडोसल्फान प्रभावित क्षेत्रों में चिकित्सा शिविर आयोजित किए गए हैं।

रोगाणुरोधी प्रतिरोध

स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय ने राष्ट्रीय रोग नियंत्रण केंद्र (एनसीडीसी) द्वारा समन्वित "रोगाणुरोधी प्रतिरोध (एएमआर) की रोकथाम पर राष्ट्रीय कार्यक्रम" शुरू किया है, यह आज स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय में राज्य मंत्री भारती प्रवीण पवार ने लोकसभा में बताया।

एएमआर नियंत्रण पर राष्ट्रीय कार्यक्रम का समन्वय एनसीडीसी द्वारा किया जाता है। फंगल रोगजनकों में एएमआर की निगरानी के तहत रोकथाम रणनीतियों में स्वास्थ्य देखभाल सुविधाओं में एएमआर के फैलने को रोकने, संक्रमण की रोकथाम और नियंत्रण को मजबूत करना और फंगल रोगजनकों में एएमआर की रोकथाम करना शामिल है। पवार ने कहा कि इंडियन काउंसिल ऑफ मेडिकल रिसर्च चिकित्सकीय रूप से महत्वपूर्ण कवक के रोगाणुरोधी प्रतिरोध के रुझानों और पैटर्न पर आंकड़े एकत्र और मॉनिटर करता है।

कोविड-19 महामारी के कारण टीबी से होने वाली मौतों में वृद्धि

सरकार ने वर्ष 2020 के दौरान टीबी के मामलों  की अधिसूचना में गिरावट आने के बारे में अवगत किया है। 2020 (जनवरी-दिसंबर) में कार्यक्रम के तहत कुल 18.12 लाख टीबी मामलों को अधिसूचित किया गया था, जो 2019 में अधिसूचित कुल मामलों की तुलना में 25 फीसदी कम था। कोविड-19 की एक दूसरी बड़ी लहर के बावजूद, 17.63 लाख टीबी मामलों (अक्टूबर, 2021 तक) को अधिसूचित करने में सफल रहे हैं, जो कि 2020 (जनवरी-अक्टूबर) की तुलना में 18 फीसदी अधिक है, यह जानकारी आज स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय में राज्य मंत्री भारती प्रवीण पवार ने लोकसभा में दी।

पवार ने कहा कि कार्यक्रम के तहत टीबी के कारण होने वाली मौतें 2020 में लगभग 4 फीसदी पर स्थिर रही हैं, जो कि कोविड से पहले के ​​समय के बराबर है।

ईवीएस के लिए वैकल्पिक चार्जिंग तंत्र वाले पेट्रोल स्टेशन

पेट्रोलियम और प्राकृतिक गैस मंत्रालय से प्राप्त जानकारी के अनुसार, देश में तेल विपणन कंपनियों (ओएमसी) के खुदरा दुकानों पर 1198 इलेक्ट्रिक वाहन चार्जिंग स्टेशन स्थापित किए गए हैं, जिसमें 30.11.2021 तक महाराष्ट्र में 76 ईवी  चार्जिंग स्टेशन शामिल हैं, यह आज भारी उद्योग राज्य मंत्री कृष्ण पाल गुर्जर ने राज्यसभा में बताया।

इलेक्ट्रिक वाहनों के लिए चार्जिंग स्टेशनों की स्थापना

फेम-इंडिया योजना के बुनियादी ढांचे के तहत पहले चरण में भारी उद्योग मंत्रालय ने 520 चार्जिंग स्टेशन स्थापित करने में मदद करने की बात की है। दिनांक 03.12.2021 तक 520 चार्जिंग स्टेशनों में से 452 चार्जिंग स्टेशन स्थापित किए जा चुके हैं। इसके अलावा, फेम-इंडिया योजना के दूसरे चरण के तहत, 1000 करोड़ रुपये चार्जिंग के बुनियादी ढांचे के विकास के लिए आवंटित किए गए हैं। यह आज भारी उद्योग राज्य मंत्री कृष्ण पाल गुर्जर ने राज्यसभा में बताया

गुर्जर ने कहा कि मंत्रालय ने फेम-इंडिया योजना के दूसरे चरण के तहत 25 राज्यों/केंद्र शासित प्रदेशों के 68 शहरों में 2,877 इलेक्ट्रिक वाहन चार्जिंग स्टेशनों और 9 एक्सप्रेसवे और 16 राजमार्गों पर 1576 चार्जिंग स्टेशनों को भी मंजूरी दी है। 

देश में महिला किसान

कृषि और किसान कल्याण मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर ने राज्यसभा में बताया कि कृषि जनगणना 2015-16 में एकत्रित जानकारी के अनुसार, देश में कुल संचालित क्षेत्र का लगभग 11.72 प्रतिशत महिला महिलाओं द्वारा संचालित किया गया था।

तोमर ने कहा राज्य सभा में प्रस्तुत आंकड़े, कृषि जनगणना 2015-16 के अनुसार, भारत में महिला परिचालन धारकों की संख्या 20439 (हजार में) है। राज्यों में, आंध्र प्रदेश में सबसे अधिक महिला परिचालन धारक 2565 हैं इसके बाद महाराष्ट्र और बिहार हैं।

Subscribe to our daily hindi newsletter