Sign up for our weekly newsletter

दिल्ली में बढ़ा ओजोन का स्तर, सेहत का रखें ख्याल

गर्मी और प्रदूषण बढ़ने से अप्रैल के पहले पखवाड़े में ही बढ़ गया ओजोन का स्तर 

By Shambhavi Shukla

On: Saturday 30 November 2019
 
Credit : Meeta Ahlawat

राजधानी दिल्ली के कई घनी आबादी वाले इलाकों में ओजोन का स्तर काफी बढ़ गया है। नई दिल्ली स्थित थिंक टैंक सेंटर फॉर साइंस एंड इंवायरमेंट (सीएसई) द्वारा जुटाए गए अप्रैल के शुरुआती 12 दिन के आंकड़ों में यह बात सामने आई है।

राजधानी में प्रदूषण का स्तर के साथ-साथ तापमान बढ़ने के कारण गर्म दबाव बढ़ा है, जिसकारण ओजोन का स्तर बढ्ता है, जो पहले से ही मानकों से अधिक है। जिन इलाकों की निगरानी की गई, उनमें अशोक विहार, बवाना, द्वारका सेक्टर-आठ, जहांगीरपुरी, नजफगढ़, नरेला, नेहरू नगर, रोहिणी, सीरी फोर्ट, श्री अरबिंदो मार्ग, विवेक विहार शामिल हैं।

इस साल मॉनिटर किए जा रहे 36 स्थानों में से 38 प्रतिशत में आठ घंटे औसत ओजोन मानक से अधिक हैं, पिछले कुछ दिनों में यह संख्या 61 प्रतिशत हो गई है। 2018 में,  मॉनिटर किए जा रहे 32 स्थानों में से 28 प्रतिशत मानक से अधिक थे। 2 और 4 अप्रैल, 2018 को उच्चतम उच्चतम 44 प्रतिशत था।

यह तब भी हो रहा है जब पार्टिकुलेट मैटर से होने वाले स्वास्थ्य जोखिम को संबोधित किया जा सकता है। सार्वजनिक स्वास्थ्य संकट को रोकने के लिए एक व्यापक कार्य योजना की आवश्यकता होगी। गर्मी की लहरें और तेज धूप गर्मियों के दौरान दिनों की आवृत्ति को बढ़ा देती है जब ओजोन मानकों को पार करना शुरू कर देता है।

भूजल स्तर ओजोन सीधे किसी भी स्रोत द्वारा उत्सर्जित नहीं होता है। यह तब बनता है जब नाइट्रोजन (NOX) के ऑक्साइड और मुख्य रूप से वाहनों और अन्य स्रोतों से वाष्पशील गैसों की एक श्रृंखला एक दूसरे को सूरज की रोशनी में उजागर होती है। गर्म और स्थिर हवा ओजोन के गठन को बढ़ाती है। यही कारण है कि हम स्थानीय और मौसम संबंधी स्थितियों के आधार पर पूरे क्षेत्र में उच्च परिवर्तनशीलता देखते हैं।

ओजोन मानव स्वास्थ्य के लिए बेहद खतरनाक है। दिल्ली के सभी पड़ोस - अमीर और गरीब - और यहां तक ​​कि खुले स्थान, जोखिम में हैं। दिल्ली और एनसीआर को सभी के लिए स्वास्थ्य सुरक्षा की उच्च स्तर की आवश्यकता है और विशेष रूप से बुजुर्गों, बच्चों, बाहरी श्रमिकों और अस्थमा और फेफड़ों के रोगों वाले लोगों सहित उच्च जोखिम वाले समूहों की आवश्यकता है।

यह तब हो रहा है, जब धूल कणों की वजह से पहले ही लोगों के स्वास्थ्य को खतरा है। ऐसे में, यह जरूरी हो गया है कि इस समय, एक व्यापक कार्य योजना बनाई जाए। जब ओजोन मानकों से अधिक हो जाता है तो गर्मियों में गर्म हवा और तेज धूप की फ्रिक्वेंसी बढ़ जाती है।

ग्राउंड लेवल ओजोन सीधे पर किसी स्त्रोत द्वारा उत्सर्जित नहीं होता है। यह तब बनता है जब सूरज की रोशनी में नाइट्रोजन के ऑक्साइड (NOX) और वाहनों और अन्य स्रोतों से निकलने वाली वाष्पशील गैसों की एक श्रृंखला एक दूसरे को निरावरण करती हैं। गर्म और स्थिर हवा ओजोन के उत्पत्ति को बढ़ाती है।

ओजोन हमारे स्वास्थ्य के लिए काफी खतरनाक हैं। दिल्ली और आसपास रहने वाले, चाहे अमीर हों या गरीब, यहां तक कि खुले में रहने वालों पर भी खतरा है। दिल्ली और एनसीआर में इस समय स्वास्थ्य के सुरक्षा की बहुत सख्त जरूरत है, खासकर बुजुर्गों, बच्चों, बाहर काम करने वाले मजूदरों, अस्थमा और फेफेड़ों के रोग से प्रभावित लोगों को इस समय खास ध्यान रखना चाहिए।