Sign up for our weekly newsletter

नैनोमेडिसिन से बढ़ रहा है पर्यावरण और जीवों को खतरा: अध्ययन

नैनो मेडिसिन के पानी में मिलने पर मछली में प्रजनन संबंधी विकार हो सकते है, और ऊदबिलाव की जनसंख्या में गिरावट आ सकती है

By Dayanidhi

On: Thursday 09 January 2020
 
Photo credit: Flickr
Photo credit: Flickr Photo credit: Flickr

स्विस फेडरल लैबोरेट्रीज फॉर मैटेरियल्स साइंस एंड टेक्नोलॉजी (एम्पा) के शोधकर्ता वर्तमान में नैनोमेडिसिन के खतरों के बारे में पता लगा रहे हैं।  इस अध्ययन में शोधकर्ताओं ने जीवों, मनुष्यों और पर्यावरण को नैनोमैटिरियल्स से होने वाले खतरों का आकलन किया है। वर्तमान में कई ऐसी दवाएं है, जो नैनोमैटिरियल्स के उपयोग से बनाई जा रही हैं। जैसा कि पहले से सर्वविदित है कि वातावरण में फैले दवाओं के कणों से पशुओं में हार्मोन बदल सकते है। पक्षी के अंडों पर नैनो कणों की पतली परत चढ़ जाती है, जिससे उनका विकास रुक सकता है। नैनो मेडिसिन के पानी में मिलने पर मछली में प्रजनन संबंधी विकार हो सकते है, और ऊदबिलाव की जनसंख्या में गिरावट सकती है। यह अध्ययन जर्नल ऑफ नैनो बायोटेक्नोलॉजी में प्रकाशित हुआ है। 

छोटे कण, बड़े काम

दूसरी ओर, नैनोमेडिसिन पहले से ही नई दवाओं के साथ आशा के अनुरूप परिणाम दे रहे है। नैनो-हीरे के उपयोग से चिकित्सक रक्त-मस्तिष्क की बाधा पर काबू पा रहे हैं, और सोने के नैनोकणों के साथ वे कैंसर के उपचार करने में मदद कर रहे हैं। इन नैनोकणों के लिए कोई भी काम बहुत बड़ा नहीं है। इस तरह पर्यावरण में जारी होने वाले नैनो-सामग्री के खतरों के बारे में बहुत कम जानकारी हैं। 

एक अत्याधिक खतरनाक पदार्थ जिसके संपर्क में आप आते हैं, जो आपको हानि पहुंचा सकता है। यह सुनिश्चित करने के लिए कि यह पदार्थ आपको हानि पहुंचाए, नए पदार्थों के जोखिमों को सटीक रूप से चित्रित करने के लिए, शोधकर्ता पहले थ्रेशोल्ड मान निर्धारित करते हैं। जिस पर पदार्थ का कोई हानिकारक प्रभाव नहीं होता है, साथ ही साथ अपेक्षित मात्रा जो पर्यावरण में जारी की जाती है। इन आंकड़ों को जानना आसान नहीं है, क्योंकि शरीर में मौजूद दवा अपशिष्ट के रुप में बाहर निकलती है जो वेस्टवाटर ट्रीटमेंट प्लांट के माध्यम से नदियों और झीलों में चली जाती है। इस तरह यह वातावरण में फैल जाते है। सबसे पहले इसे निर्धारित किया जाना चाहिए।

कणों के एक बार पर्यावरण में जारी होने के बाद, ये पॉलिमर को जैविक या भौतिक-रासायनिक अपघटन द्वारा छोटे घटकों में बदल देते हैं। नोवाक कहते हैं कि अधिकांश नैनोमैटिरियल्स के कणों की मात्रा जारी होने के बारे में कोई विश्वसनीय अनुमान नहीं है।

नोवाक और उनकी टीम ने पर्यावरण में सोने के नैनोकणों के जोखिम का आकलन किया। शोधकर्ताओं ने कहा कि चिकित्सा अनुप्रयोगों में उपयोग किए जाने पर सोने के नैनोकणों से कोई समस्या नहीं होती है। नोवाक की टीम ने अन्य चिकित्सा नैनोमैटिरियल्स का विश्लेषण किया। आकार में 1 से 100 नैनोमीटर के बीच के कण दिलचस्प होते हैं, क्योंकि वे उत्पादन करने के लिए अपेक्षाकृत आसान होते हैं। इनका उपयोग चिकित्सा इमेजिंग, रोगाणुरोधी कोटिंग्स के लिए किया जाता है।

कुछ अक्सर उपयोग किए जाने वाले नैनोमैटेरियल्स का अब उपलब्ध आंकड़ों के आधार पर उनकी पहली बार जांच की जा सकती है। आंकड़ों के विश्लेषणों से पता चला कि नैनो-चिटोसन अपने पारंपरिक रूप में जलीय सूक्ष्मजीवों की तुलना में जहरीले सूक्ष्मजीवों से अधिक विषाक्त है। इस प्रकार नैनोपॉलीमर पारंपरिक दवाओं की तुलना में काफी कम हानिकारक थे जो पर्यावरण में जारी किए जाते हैं, जैसे कि एंटीबायोटिक्स या दर्द निवारक दवाएं।

हालांकि, चांदी के नैनोकणों के लिए स्थिति अलग है, जो उनके जीवाणुरोधी प्रभाव के लिए दवा में उपयोग किए जाते हैं। जीवमंडल में, अकार्बनिक नैनोमैटेरियल्स सूक्ष्मजीवों पर बहुत ही विषाक्त प्रभाव डालती है जो एक पारिस्थितिकी तंत्र में संतुलन के लिए महत्वपूर्ण हैं।

नोवाक का मानना है कि कई नैनोमैटिरियल्स के जैविक, रासायनिक और भौतिक गुणों में अन्य दवाओं की तुलना में काफी भिन्नता हो सकती है। इसका एक कारण कणों की बहुत अधिक संख्या में होना और उनका बहुत बड़े क्षेत्र में फैलने से है। यह <span style="font